Wednesday, August 14, 2019

स्वतंत्रता दिवस और रक्षाबंधन की हार्दिक शुभकामनाएं - एच पी जोशी

स्वतंत्रता दिवस और रक्षाबंधन की हार्दिक शुभकामनाएं - एच पी जोशी



मैं हुलेश्वर जोशी देशवासियों को स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं देता हूं और देशवासियों से अपेक्षा करता हूं कि देश का हर नागरिक अपने कर्तव्यों के निर्वहन में कभी कोई चूक नही करेंगे। संविधान देश की आत्मा है इसे स्वीकारते हुए किसी धर्म, वर्ण, जाति, रंग और लिंग के आधार पर भेद किए बिना ही संविधान के अनुरूप आचरण करेंगे। संविधान को ही सर्वोच्च धर्मग्रंथ के रूप में आत्मार्पित करेंगे।



उल्लेखनीय है कि हमारा भारत 15 अगस्त 1947 के मध्यरात्रि अंग्रेजों की गुलामी से स्वतंत्रता हासिल करने में सफल हुआ। अब हमारा दायित्व है कि भारत के नागरिकों को कभी भी किसी भी शर्त में थोडे पल के लिए भी गुलामी के स्वाद से मुह खट्टे न करना पडे इसके लिए हम सदैव भारतवासी अपने प्राणों की आहूति देने से भी नहीं चूकेंगे।

मैं भारत हूं, संविधान मेरी आत्मा है। स्वच्छता और आपकी कर्तव्यनिष्ठा ही मेरी सच्ची सेवा है। 

मैं भारत हूं, प्रकृति मेरा श्रृंगार है। वृक्षारोपण और जल संरक्षण तुम्हारे लिए देशभक्ति के समान है।

(HP Joshi)
Nawa Raipur, Chhattisgarh


----------------------------
रक्षाबंधन के नाम पर एक फलदार वृक्ष लगायें
फल खुद भी खाएं और दूसरों को खिलायें।

आओ रक्षाबंधन का भी उत्सव मिलकर मनाएं
आपको और आपके परिवार को, रक्षाबंधन की हार्दिक शुभकामनाएं 

(HP Joshi)
Nawa Raipur, Chhattisgarh

----------------------------


15 AUG 1947 (Paper Cuttings)

























Share:

"करा समर्पण" हल्बी गीत

यह वेबसाइट /ब्लॉग भारतीय संविधान की अनुच्छेद १९ (१) क - अभिव्यक्ति की आजादी के तहत सोशल मीडिया के रूप में तैयार की गयी है।
यह वेबसाईड एक ब्लाॅग है, इसे समाचार आधारित वेबपोर्टल न समझें।
इस ब्लाॅग में कोई भी लेखक/व्यक्ति अपनी मौलिक पोस्ट प्रकाशित करवा सकता है। इस ब्लाॅग के माध्यम से हम शैक्षणिक, समाजिक और धार्मिक जागरूकता लाने तथा वैज्ञानिक सोच विकसित करने के लिए प्रयासरत् हैं। लेखनीय और संपादकीय त्रूटियों के लिए मै क्षमाप्रार्थी हूं। - श्रीमती विधि हुलेश्वर जोशी

सबसे अधिक बार पढ़ा गया लेख