छत्तीसगढ़ पुलिस का मोबाइल एप्प सिटीजन कॉप अब पूरे देश में होगा लागू

छत्तीसगढ़ पुलिस का मोबाइल एप्प सिटीजन कॉप अब पूरे देश में होगा लागू

One Nation One App के तहत छत्तीसगढ़ पुलिस के मोबाइल एप्पलीकेशन सिटीजन कॉप को देशभर में लागू किया जा सकता है आईजी श्री जी पी सिंह ने बीपीआरएंडडी नई दिल्ली में दिया प्रजेंटेशन

IG श्री जी पी सिंह ने दिनांक 07/02/2019 को दिल्ली स्थित BPR&D  में आयोजित 2nd कॉन्फ्रेंस ऑन नेशनल पुलिस मिशन के माइक्रो मिशन- 03 मे कम्युनिकेशन एवं टेक्नोलॉजी कैटेगरी के तहत सिटीजन कॉप मोबाइल एप्प के संबंध में व्याख्यान दिया।

उल्लेखनीय है कि दिनांक 07 व 08 फरवरी  2019 को  BPR&D द्वारा नेशनल पुलिस मिशन के अंतर्गत देश के अन्य राज्यो  में संचालित पुलिस के विभिन्न एप्लीकेशन एवं पुलिस के अन्य जनसहभागी कार्यक्रम पर 02 दिवसीय कॉन्फ्रेंस का आयोजन किया गया है। जिसमे देश भर से 100 से अधिक पुलिस एवं केंद्रीय बलो के अधिकारीगण व अन्य डेलीगेट शामिल हुए। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि के रूप में श्री एनएन वोहरा पूर्व गवर्नर जम्मू कश्मीर व डॉ ए पी महेश्वरी, महानिदेशक BPR&D उपास्थित थे ।

Related Images


Share:

मनुष्य के लिए मानवता सर्वश्रेष्ठ है, इससे महान कोई धर्म नही - HP Joshi

मनुष्य के लिए मानवता सर्वश्रेष्ठ है, इससे महान कोई धर्म नही - HP Joshi


मनुष्य को व्यक्तिगत हित त्यागकर समाज और धर्म के लिए आगे आना चाहिए, जब राष्ट्र की बात हो तो समाज और धर्म को किनारे कर देनी चाहिए क्योंकि राष्ट्र इन सबसे सर्वोपरि है।

कुछ कुंठित विचारधारा के लोग जन्मभूमि का मतलब 5किलोमीटर के दायरा को मान लेते हैं परंतु ऐसा कदापि नहीं है। वरन जन्मभूमि का मतलब पूरे धरती से है इसीलिए हम मनुष्य के लिए मानवता को सर्वोच्च धर्म के रूप में जानते हैं।

जो मनुष्य मानवता के अनुरूप आचरण करता हो, उन्हें किसी जाति, समाज, गाँव, कस्बा, जिला, राज्य, धर्म अथवा देश के आधार पर नही जानना चाहिए। बल्कि ऐसे महामानव को उनके आचरण और कर्म के आधार पर जानने की जरूरत है।

हमारे पूर्वज कह चुके हैं "मानवता से बड़ी धर्म नही हो सकती।" फिर क्यों हम छोटे मोटे छुटभैय्या धार्मिक नेताओं के पाखण्ड में पड़कर मानवता के विपरीत, मानवता को ही खंडित करने का प्रयास करते हैं? क्यों हम स्वयम को सैकड़ों धर्मों में बांटकर अकेले होने के कगार में आ बैठे हैं?

गुरु घासीदास बाबा ने कहा है "मनखे मनखे एक समान" फिर क्यों हम मनुष्य को हजारों, लाखों जाति और क्षेत्र में बांट रहे हैं। "मनखे मनखे एक समान" कोई सिद्धांत मात्र नही वरन मानव धर्म की मूल व्याख्या है। धर्म की व्याख्या के लिए आप अरबों वाक्य की तानाबाना बना लें मगर सब इस 11 शब्द के वाक्य के भीतर ही आएगी इसलिए पूरे विश्व मे मौजूद लाखों धार्मिक पुस्तकों को त्यागकर केवल "मनखे मनखे एक समान" को अपने जीवन में आत्मार्पित कर लें और "सत्य ही मानव का आभूषण है।" इसे जानकर आप सत्य को अपने व्यवहार में शामिल कर लें तो फिर आपको किसी भी प्रकार के धार्मिक पुस्तकों को पढ़ने की जरूरत ही नही पड़ेगी।

HP Joshi
New Delhi
Date 07-02-2019
Share:


सबसे अधिक बार पढ़ा गया लेख


यह वेबसाइट /ब्लॉग भारतीय संविधान की अनुच्छेद १९ (१) क - अभिव्यक्ति की आजादी के तहत सोशल मीडिया के रूप में तैयार की गयी है।
यह वेबसाईड एक ब्लाॅग है, इसे समाचार आधारित वेबपोर्टल न समझें।
इस ब्लाॅग में कोई भी लेखक/कवि/व्यक्ति अपनी मौलिक रचना और किताब निःशुल्क प्रकाशित करवा सकता है। इस ब्लाॅग के माध्यम से हम शैक्षणिक, समाजिक और धार्मिक जागरूकता लाने तथा वैज्ञानिक सोच विकसित करने के लिए प्रयासरत् हैं। लेखनीय और संपादकीय त्रूटियों के लिए मै क्षमाप्रार्थी हूं। - श्रीमती विधि हुलेश्वर जोशी

प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कैसे करें?