Facebook हैकिंग और ऑनलाइन फ्रॉड से बचने के उपाय : श्री हुलेश्वर जोशी

Facebook हैकिंग और ऑनलाइन फ्रॉड से बचने के उपाय : श्री हुलेश्वर जोशी How to Secure Online Banking Frauds and Hacking of Facebook

तकनीकी युग में केवल आप और हम ही नहीं बल्कि क्रिमिनल्स भी अपडेट हो चुके हैं जो रोज नए तरीकों के साथ क्राइम करने का प्रयास करते हैं। ऐसे में हमें सायबर अपराध से बचने के लिए सावधान रहने की जरूरत है। अभी पिछले कुछ समय से सोशल मीडिया साइट्स विशेषकर फेसबुक हो हैक कर मैसेंजर में परिचितों अथवा फेसबुक फ्रेंड्स से रुपये मांगने की सूचनाएं आम होती जा रही है इसलिए अपने फेसबुक एकाउंट की सूरक्षा को नजरअंदाज न करें।

यदि आपका फेसबुक अकॉउंट हैक हो गया हो अथवा संभावना हो तो निम्नाकित स्टेप्स को फॉलो करें...
1- सबसे पहले अपने जीमेल (E-mail) एकाउंट में two step वेरिफिकेशन एक्टिव करिए। अर्थात बिना ओटीपी के आपका जीमेल अकॉउंट कभी भी कहीं भी न खुले।
2/ जीमेल (E-mail) का पासवर्ड बदलिए, इस दौरान आपके पास विकल्प आएगा कि जहां जहां जीमेल खुला है सभी लॉगआउट हो। इसे जरूर ओके करिए।
3/ उसके बाद फेसबुक और ट्विटर इत्यादि सोशल मीडिया एकाउंट का पासवर्ड बदलियेगा।
4/ अपने सोशल मीडिया एकाउंट अथवा व्हाट्सएप्प के माध्यम से अपने दोस्तों को अवगत करावें कि आपके फेसबुक अकॉउंट को हैक कर लिया गया है; आपको रुपये/ सहयोग की जरूरत नहीं है।
संभव है इन तीन स्टेप को फॉलो करने से पुनः आपका फेसबुक हैक नही किया जा सकेगा। 

ऑनलाइन फ्रॉड से बचने के लिए कुछ महत्वपूर्ण सुझाव :
# सोशल मीडिया सहित अन्य एप्प और वेबसाइट के पासवर्ड बदलते रहें। 
# बैंकिंग क्षेत्र के पासवर्ड से मिलता जुलता पासवर्ड को सोशल मीडिया में न रखें।
# हर वेबसाइट या एप्प का मिलता जुलता या एक जैसे पासवर्ड न रखें, प्रयास करें ओटीपी बिना आपका कोई भी अकॉउंट ओपन न हो।
# ऑनलाइन शॉपिंग से संबंधित साइट्स में अपना डेबिट अथवा क्रेडिट कार्ड की डिटेल्स सुरक्षित न करें।
# सोशल मीडिया साइट्स में अपना जन्मदिन को पब्लिक न करें अथवा गलत तिथि डालें।
# किसी भी वेबसाइट में जब तक अति आवश्यक न हो अपना अकॉउंट न बनाएं, यदि बनाते हैं तब भी सेपरेट पासवर्ड डालें। ओटीपी बेस्ड लॉगिन का चयन करें।
# अपने स्मार्टफोन के अलावा एक कीपैड फ़ोन जरूर रखें, जिसमे ओटीपी प्राप्त हो।
# किसी भी शर्त में किसी भी व्यक्ति को अपना व्यक्तिगत डेटा, खाता नम्बर, क्रेडिट/डेबिट कार्ड का नम्बर, पासवर्ड और ओटीपी न दें।
# सोशल मीडिया में अनजान व्यक्ति से मित्रता न करें। 

जनहित में जारी....
HP Joshi
Narayanpur, Chhattisgarh
Share:

ऐतिहासिक पहाड़ी मंदिर, नारायणपुर की गाथा

# ऐसा ऐतिहासिक मंदिर जिसका पुलिस विभाग कर रहा है जीर्णोद्धार और सौन्दर्यीकरण।

रक्षित निरीक्षक श्री दीपक साव और पूर्व रक्षित निरीक्षक श्री एसएस विध्यराज का है विशेष योगदानl

ऐतिहासिक पहाड़ी मंदिर, यहां माता दंतेश्वरी देवी निवास करती हैं, पहाडी मंदिर जिला मुख्यालय, नारायणपुर में स्थिति अकेला प्रमुख धार्मिक स्थल है। यह मंदिर नारायणपुर से कुकराझोर मार्ग में कुम्हारपारा के पास ही उंचे पहाड़ी में स्थित है। चूंकि कुम्हारपारा में ही रक्षित केन्द्र स्थित है इसलिए पुलिस विभाग के वरिष्ठ अधिकारियों विशेषकर पुलिस अधीक्षक और रक्षित निरीक्षकों ने समय-समय पर अपना अमूल्य योगदान देते हुए लगभग अपनी पहचान खो चूके ऐतिहासिक मंदिर का जिर्णोद्धार कराया। यह मंदिर कई दशकों से स्थित है जो अपने आप में दर्शनिक व प्राकृतिक सौन्दर्य का केंद्र बना हुआ है, नवरात्रि एवं महाशिवरात्रि जैसे पर्व के अलावा भी प्रतिदिन श्रद्धालुओं का आवागमन लगा रहता है। 


उल्लेखनीय है कि सर्वप्रथम रक्षित निरीक्षक श्री एस.एस. विंध्यराज द्वारा तात्कालीन पुलिस अधीक्षक श्री राहूल भगत और पुलिस अधीक्षक श्री मयंक श्रीवास्तव के मार्गदर्शन में अपने कार्यकाल में रक्षित केन्द्र में तैनात पुलिस अधिकारी/कर्मचारियों के सहयोग से वर्ष 2008-2013 के मध्य पहली बार मंदिर के जिर्णोद्धार का कार्य प्रारंभ करते हुए सीढ़ियों में स्टील की रेलिंग, हनुमान जी की मंदिर और जल आपूर्ति हेतु बोरिंग, मोटर और पानी की टंकी इत्यादि का निर्माण कराया था। उसके बाद से निरंतर रक्षित केन्द्र, नारायणपुर के अधिकारी/कर्मचारियों द्वारा समय समय पर छोटी-बडी निर्माण कार्य करवाया जाता रहा है।  


हाल ही में, कोरोना महामारी के दौरान पुलिस अधीक्षक श्री मोहित गर्ग की अध्यक्षता में गठित करूणा फाउण्डेशन के सहयोग एवं मार्गदर्शन में रक्षित निरीक्षक श्री दीपक साव के नेतृत्व में करूणा फाउण्डेशन तथा रक्षित केन्द्र नारायणपुर के अधिकारी/कर्मचारियों के सहयोग से पुनः ऐतिहासिक पहाड़ी मंदिर के सौन्दर्यीकरण का कार्य किया गया है। इसके तहत् पहाड़ी मंदिर प्रांगण में पुराने कलस की साफ सफाई कर रंगों से कलाकृति फ्लॉवर पॉट गमला बनाया गया, रेलिंग, टाइल्स, हवन यज्ञ तैयार किया गया तथा जिर्णोद्धार, सौदर्यीकरण, प्लांटेशन, पत्थरों में चित्रकारिता एवं साज सज्जा के साथ सेल्फी पॉइंट तैयार किया गया, 5नए स्थायी कूड़ादान तैयार कराया गया तथा यात्री प्रतीक्षालय का मरम्मत कार्य व पहाडी मंदिर में टीन शेड का निर्माण भी कराया गया है। करूणा फाउण्डेशन के उपाध्यक्ष श्री रोहित साव के द्वारा हाल ही में 4 अगस्त 2020 को पहाडी मंदिर में राम दरबार की स्थापना भी कराया गया है। 


Others Images 







Share:


सबसे अधिक बार पढ़ा गया लेख


यह वेबसाइट /ब्लॉग भारतीय संविधान की अनुच्छेद १९ (१) क - अभिव्यक्ति की आजादी के तहत सोशल मीडिया के रूप में तैयार की गयी है।
यह वेबसाईड एक ब्लाॅग है, इसे समाचार आधारित वेबपोर्टल न समझें।
इस ब्लाॅग में कोई भी लेखक/कवि/व्यक्ति अपनी मौलिक रचना और किताब निःशुल्क प्रकाशित करवा सकता है। इस ब्लाॅग के माध्यम से हम शैक्षणिक, समाजिक और धार्मिक जागरूकता लाने तथा वैज्ञानिक सोच विकसित करने के लिए प्रयासरत् हैं। लेखनीय और संपादकीय त्रूटियों के लिए मै क्षमाप्रार्थी हूं। - श्रीमती विधि हुलेश्वर जोशी

प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कैसे करें?