अबूझमाड़ महोत्सव - तृतीय अंतरराष्ट्रीय माड़ मैराथन 2021 में लगभग 6000 हजार से अधिक धावको ने दौडा मैराथन

अबूझमाड़ महोत्सव - तृतीय अंतरराष्ट्रीय माड़ मैराथन 2021 में लगभग 6000 हजार से अधिक धावको ने दौडा मैराथन

२०१९ से निरंतर जिला नारायणपुर द्वारा आयोजित अबूझमाड़ पीस मैराथन के तीसरे संस्करण में देश विदेश के लगभग ६००० धावकों ने हिस्सा लेकर मैराथन में दौड़ लगाया, इस दौड़ की शुरुआत बस्तर सांसद श्री दीपक बैज ने हरी झंडी दिखाकर की। कार्यक्रम स्थानीय बालक क्रीड़ा परिसर खेल मैदान में सुबह 6 बजे प्रारंभ किया गया। मैराथन दौड़ शुरू होने के पूर्व हजारों धावकों को वार्मअप कराने हेतु जुम्बा डॉस कराया गया, जिसका धावकों ने खूब आनंद लिया। मैराथन दौड़ ओरछा विकासखंड के ग्राम बासिंग में संपन्न हुई जहां विजयी प्रतिभागियों को पुरस्कार वितरण किया गया। ‘‘अबूझमाड़ पीस हॉफ मैराथन’’ दौड़ में हजारों धावकों ने दौड़ लगायी, जिसमें पुरूष वर्ग में हैदराबाद के अनीब थापा मगर ने 55 मिनट 19 सेकंड में 21 किलोमीटर की दौड़ पूरी कर प्रथम स्थान प्राप्त किया। वहीं महाराष्ट्र के धावक श्री अंगारिया विक्रम सिंह भरत ने 55 मिनट 19 सेकण्ड में दौड़ पूरी कर दूसरा स्थान प्राप्त किया। वहीं महाराष्ट्र के ही दीपक बापू 56 मिनट 39 सेकण्ड में दौड़ पूरी कर तीसरे स्थान पर रहे।

महिला वर्ग में वर्ष 2020 में आयोजित अबूझमाड़ पीस हाफ मैराथन में तीसरा स्थान प्राप्त करने वाली उत्तर प्रदेश की धाविका कुमारी रीनू ने 1 घंटा 7 मिनट 16 सेकेन्ड में दौड़ पूरी कर पहले स्थान प्राप्त किया। वहीं दूसरे स्थान पर उत्तर प्रदेश के ही धाविका कुमारी तामसी सिंह ने 1 घंटा 7 मिनट 58 सेकण्ड में दौड़ पूरी कर द्वितीय स्थान पर रही। तीसरा स्थान महाराष्ट्र की कुमारी ज्योति जे चौहान ने प्रापत किया। इन्होंने दौड़ 1 घंटा 8 मिनट 42 सेकण्ड में पूरी की। कमिश्नर श्री जी.आर. चुरेन्द्र एव कलेक्टर श्री धर्मेश कुमार साहू ने अतिथियों का स्वागत किया। और मैराथन आयोजन के उदेश्य पर प्रकाश डाला। कार्यक्रम में राज्यसभा सांसद श्रीमती फूलोदेवी नेताम, हस्तशिल्प विकास बोर्ड के अध्यक्ष एवं स्थानीय विधायक श्री चंदन कश्यप, भिलाई नगर विधायक श्री देवेन्द्र यादव, जिला पंचायत अध्यक्ष श्रीमती श्यामबती नेताम, नगर पालिका अध्यक्ष श्रीमती सुनीता मांझी, जिला पंचायत उपाध्यक्ष श्री देवनाथ उसेण्डी, नगर पालिका उपाध्यक्ष श्री प्रमोद नेलवाल, के अलावा बस्तर आईजी श्री पी.सुंदरराज, पुलिस अधीक्षक श्री मोहित गर्ग, एनएमडीसी और भिलाई इस्पात संयंत्र के अधिकारीगण और अबूझमाड़ पीस हाफ मैराथन के ब्रांड एम्बेस्डर श्री अनुज शर्मा और अनुराग शर्मा व क्षेत्र के जनप्रतिनिधी और गणमान्य नागरिक उपस्थित थे।

पहले स्थान विजेताओं को मैडल और 1 लाख 61 हजार रूपए की नकद राशि से नवाजा गया। वही द्वितीय स्थान को 61 हजार रूपए और तृतीय स्थान प्राप्त करने वाले विजेताओं को 31 हजार रूपए की नकद राशि और मैडल से पुरस्कृत किया गया। मैराथन दौड में 10 स्थान प्राप्त करने वालों को भी पुरस्कृत किया गया। इसके साथ ही नारायणपुर जिले और ओरछा विकासखंड के 10 पुरूष वर्ग और 10 महिला वर्ग को भी मैडल और 5-5 हजार रूपए की नकद राशि देकर सम्मानित किया गया। सांसद श्री बैज ने सभी विजय धावकों को अपनी शुभकामनाएं दी और उनके उज्जवाल भविष्य की कामना की। इस मैराथन दौड़ के लिए छत्तीसगढ़ समेत देश के विभिन्न राज्यों के 11797 धावकों ने ऑनलाइन पंजीयन कराया था। मैराथन दौड़ आज सवेरे 6.30 बजे जिला मुख्यालय के उच्चतर माध्यमिक विधालय मैदान से शुरू हुई। कार्यक्रम के अंत में अतिथियों को स्मृति चिन्ह प्रदान कर सम्मानित किया गया। मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत श्री राहुल देव ने आभार प्रदर्शन किया।

Related Images 



Share:

‘‘एक शाम अबूझमाड़ के नाम - एक शाम शहीदों के नाम’’ का हुआ सफल आयोजन

‘‘एक शाम अबूझमाड़ के नाम - एक शाम शहीदों के नाम’’ का हुआ सफल आयोजन


अबूझमाड़ में शांति की पुनर्स्थापना के लिए आयोजित तृतीय अंतरराष्ट्रीय माड़ मैराथन के धावकों को शांति का पैगाम देने के लिए दिनांक 26 फरवरी के सायं 500 बजे से रात्रि 1030 बजे ‘‘एक शाम अबूझमाड़ के नाम - एक शाम शहीदों के नाम’’ थीम पर कार्यक्रम आयोजित किया गया हालांकि पूर्व में यह कार्यक्रम ‘‘एक शाम अबूझमाड़ के नाम’’ प्रस्तावित था, इसी दौरान अबूझमाड़ में शांति की पुनर्स्थापना के लिए आईटीबीपी के जवान श्री एल. बालुचामी और डीआरजी नारायणपुर के जवान श्री कनेर सिंह उसेंडी ने अपने प्राणों को न्योछावर कर शहादत को प्राप्त कर गए फलस्वरूप कार्यक्रम का नाम ‘‘एक शाम अबूझमाड़ के नाम - एक शाम शहीदों के नाम’’ के थीम किया गया। इस दौरान कार्यक्रम में सम्मिलित जनप्रतिनिधियों, अधिकारी/कर्मचारियों, आयोजक मण्डल, धावकों और आम नागरिकों द्वारा शहीदों को श्रद्धांजति दी गई। इस कार्यक्रम में शामिल होने के लिए हमारे मेहमान के रूप में पद्मश्री अनुज शर्मा, छालीवुड कलाकार, छत्तीसगढ़ के सुप्रसिद्ध गायक श्री अनुराग शर्मा और वॉलीवुड कलाकार दिनेश नाग उपस्थित रहे और अपने प्रस्तुति के माध्यम से लोगों का दिल जीत लिया। इस कार्यक्रम में माननीय सांसद श्री दीपक बैज, माननीय विधायक श्री चंदन कश्यप, आईजी बस्तर श्री सुंदरराज पी., कलेक्टर श्री धर्मेश कुमार साहू, पुलिस अधीक्षक श्री मोहित गर्ग, जिला पंचायत सीईओ श्री राहुल देव और वनमंडलाधिकारी श्री एन आर खूंटे सहित जिला नारायणपुर के समस्त जनप्रतिनिधि, सामाजिक संगठनों के कार्यकर्ता, व्यापारिक प्रतिष्ठान के लोग, अधिकारी कर्मचारी, और माड़ मैराथन में शामिल होने आए देश विदेश के धावकों सहित लगभग 10 हजार से अधिक लोगों ने कार्यक्रम में शिरकत की। इस कार्यक्रम में जो सबसे अहम मेहमान था वह थी शहीद आरक्षक श्री कनेर सिंह उसेंडी की लगभग 7साल की भतीजी, जब शहीद की भतीजी मंच में आई तो उनके मासूम से चेहरे ने हजारों जनप्रतिनिधियों, अधिकारी कर्मचारी और लोगों के आंखों से आँसू बहने पर मजबूर कर दिया, उनका मंच में आना उनका बिना बोले मंच से चले जाना हम सबके लिए अत्यंत दुर्भाग्यपूर्ण रहा क्योंकि इस समय उन्होंने बिना बोले हम सबको एक प्रश्न कर जाती है कि आखिर कब तक मुझ जैसी बेटी अपने चाचा से, अपने पापा से अपने भाई से और माताएं अपने पति और पुत्र को गवांते रहेंगे? और सभी दर्शक केवल दर्शक रह जाते हैं, बेजुबान हो जाते हैं शहीदों के लिए केवल 2मिनट के श्रद्धांजलि और चंद बूंदे आँसू ही अर्पित कर पाते हैं।

कार्यक्रम के दौरान माननीय सांसद और माननीय विधायक ने स्थानीय लोगों, बुद्धजीवी सामाजिक कार्यकर्ता और मीडिया साथियों से अपील करते हुए कहा कि ‘‘हम सबको मिलकर बस्तर को पहचान दिलाने के लिए बस्तर में शांति स्थापित करने के लिए काम करने की जरूरत है। हमें मिलकर हिंसा के नाम पर बस्तर और बस्तर के लोगों को बदनाम करने वालो को जवाब देना होगा। हम सबको संकल्प लेकर नक्सलवादी विचारधारा के खिलाफ बौद्धिक लड़ाई के माध्यम से जन जागरूकता लाकर केवल शहीदों की सहादत ही नहीं रोकना है बल्कि डर, भय और आतंक का सहारा लेकर जो हमारे मूलनिवासी बस्तरिया लोगों को जबरदस्ती नक्सली बनाकर उन्हें उनके ही मानव अधिकारों के खिलाफ एकजूट कर उन्हें मूलभूत सुविधाओं से वंचित कर उनके रक्षक से ही लडाया जा रहा है उन्हें रोकने का काम करना है।’’

कार्यक्रम में शामिल लोगों ने एक ओर पद्मश्री अनुज शर्मा, अनुराग शर्मा, हिप-हाॅप डांस ग्रुप, राजू बैण्ड और स्थानीय कलाकारों के प्रस्तृति से जहां देशभक्ति और सांस्कृतिक गीत संगीत और नृत्य का आनंद लिया वहीं उनके साथ ही छत्तीसगढ़ एडवेंचर स्पोर्ट्स एसोशिएशन द्वारा कराये जा रहे ‘‘पैरा मोटर फ्लाइयिंग’’ और ‘‘हाॅट एयर बलुन’’ के माध्यम से हवा में उडने का भी आनंद उठाया।

‘‘एक शाम अबूझमाड़ के नाम - एक शाम शहीदों के नाम’’ कार्यक्रम में शामिल धावकों और लोगों का आभार प्रकट करते पुलिस अधीक्षक श्री मोहित गर्ग ने बताया कि अब सुन्दर और शांत अबूझमाड़ की नींव मजबूत हो रहा है अब शीघ्र ही हमारा जिला ही नहीं वरन् पूरा प्रदेश नक्सल मुक्त हो सकेगा। इसके लिए आप सबकी सक्रिय भागीदारी की भी आवश्यकता है।




Share:

अबूझमाड़ महोत्सव - तृतीय अंतरराष्ट्रीय माड़ मैराथन 2021 का सफर.......... कब, कैसे और कहां तक

अबूझमाड़ महोत्सव - तृतीय अंतरराष्ट्रीय माड़ मैराथन 2021 का सफर.......... कब, कैसे और कहां तक

तत्कालीन पुलिस अधीक्षक श्री जितेन्द्र शुक्ला के मंशानुरूप जिला प्रशासन, पुलिस प्रशासन और भिलाई इस्पात संयंत्र के सौजन्य से ‘‘रन फार पीस, रन फार अबुझमाड़’’ थीम पर प्रथम मैराथन दिनांक 10 जनवरी 2019 को आयोजित किया गया था। पहली मैराथन ‘‘रन फार पीस, रन फार अबुझमाड हाप मैराथन’’, पुरूष वर्ग के लिए 21 कि.मी और महिला वर्ग के लिए 05 कि.मी का आयोजन कराया गया। इस मैराथन में पुरूष वर्ग में प्रथम स्थान पर मोसेज (केनिया), और द्वितीय स्थान पर हरसिंह (उत्तराखण्ड) रहे जबकि महिला वर्ग में डिंपल सिंह (लखनउ) के साथ प्रथम और श्यामलसिंह (पश्चिम बंगाल) द्वितीय स्थान में रही। मैराथन में भाग लेने वाले दोनो ही वर्ग के प्रतिभागी प्रथम पांच पुरूष और प्रथम पांच महिला को क्रमशः एक लाख, पचास हजार, तीस हजार, बीस हजार और दस हजार का ईनाम दिया गया था।

प्रथम अबुझमाड़ पीस मैराथन 2019 के सफल आयोजन के फलस्वरूप आम नागरिकों, जनप्रतिनिधियों के अनुरोध पर कलेक्टर श्री पी.एस. एल्मा एवं पुलिस अधीक्षक श्री मोहित गर्ग द्वारा इसे आगे बढ़ाते हुए निरंतर आयोजित करने का संकल्प लिया जाकर मैराथन का द्वितीय आयोजन पुनः जिला प्रशासन, पुलिस प्रशासन और भिलाई इस्पात संयंत्र के सौजन्य से दिनांक 08 फरवरी 2020 को रन फार पीस, रन फार अबुझमाड हाप मैराथन, 21 कि.मी का आयोजन कराया गया। जिसमें 18 राज्यों के लगभग 11292 धावकों ने पंजीयन कराया, वहीं 09 विदेशी धावको ने भी इस मैराथन में भाग लिया, ये सभी प्रतिभागी केन्या देश के निवासी थे। इस मैराथन में पुरूष वर्ग में प्रथम स्थान पर शंकर मानथापा (मेघालय, 1घण्टा 2मिनट), और द्वितीय स्थान पर साइमन (केन्या, 1घण्टा 5मिनट) रहे जबकि महिला वर्ग में एलीसा (केन्या, 1घण्टा 11मिनट) के साथ प्रथम और डिम्पल (लखनउ) द्वितीय स्थान में रही।

दोनो साल के मैराथन ने अबुझमाड़ को वैश्विक स्तर पर पहचान दिलाने में कारगर साबित हुआ है वहीं नक्सल प्रभावित क्षेत्रों के लोग पुलिस और प्रशासन के कार्यशैली से परिचित होकर पुलिस प्रशासन से जूडकर नक्सलवाद के खिलाफ बौद्धिक रूप से खडा हुए। फलस्वरूप पुलिस अधीक्षक श्री मोहित गर्ग के प्रस्ताव पर अमल करते हुए कलेक्टर श्री धर्मेश कुमार साहू द्वारा मैराथन के तीसरे आयोजन को ‘‘अबुझमाड़ महोत्सव - तृतीय अंतर्राष्ट्रीय माड़ मैराथन - 2021’’ के रूप में आयोजित करने की सहमति दी गई। महिनों चलने वाले इस अबुझमाड़ महोत्सव के माध्यम से मावा नारायणपुर, युवा नारायणपुर के थीम पर अंदरूनी और पहुंच विहिन क्षेत्र के आम नागरिकों और युवाओं को जोडकर उन्हें सरकारी कार्यालयों का भ्रमण कराते हुए सरकार के कार्यशैली को बताया जा रहा है, पुलिस अधीक्षक श्री मोहित गर्ग के निर्देशानुसार जिला नारायणपुर के समस्त पुलिस थाना और केन्द्रीय सशस्त्र बल के कैम्पों में 5-5 किलोमीटर के दौड़ आयोजित कर नक्सल क्षेत्र के नागरिकों को खासकर युवा और छात्रों को शासन से जोडने का प्रयास किया गया। इस दौड़ में शामिल विजेता धावकों को नगद ईनाम, सर्टिफिकेट और खेल सामाग्री दिये गये, वहीं दौड़ मे शामिल होने वाले अन्य धावकों और लोगों के लिए चाय, नास्ता का भी व्यवस्था किया गया। इच्छूक धावकों का तृतीय अंतर्राष्ट्रीय माड़ मैराथन - 2021 के लिए निःशूल्क आनलाईन पंजीयन किया गया ताकि उन्हें देश-विदेश के ख्याति प्राप्त धावकों से प्रतियोगिता करने का अवसर प्राप्त हो सके।

बस्तर रेंज के पुलिस महानिरीक्षक श्री सुंदरराज पी. द्वारा आयोजन से आम लोगों के मन में पुलिस प्रशासन के प्रति बने सकारात्मक छवि को देखते हुए बस्तर संभाग के समूचे पुलिस थाना एवं कैम्पों में इसके आयोजन हेतु रेंज के समस्त पुलिस अधीक्षकों को निर्देशित किया गया, आईजी बस्तर के निर्देशानुसार बस्तर संभाग के शेष सभी 6 जिलों के समस्त पुलिस थाना और कैम्पों में अबुझमाड़ पीस मैराथन के प्रमोशन और जन जागरूकता लाने के लिए दिनांक 21 फरवरी 2021 को 5-5 किलो मीटर का दौड़ कराया गया जिसमें समूचे बस्तर के लाखों महिला-पुरूष, जन-प्रतिनिधि, युवा, छात्रों और अधिकारी/कर्मचारी ने हिस्सा लिया।

‘‘अबुझमाड़ महोत्सव’’ के तहत् हर दिन लगभग 10 गांव के युवाओं, छात्रों और लोगों को जिला मुख्यालय बुलाकर उन्हें उनके मानव अधिकारों और आवश्यक कार्यों के निपटारा के लिए जागरूक करने का प्रयास किया जा रहा है। अबुझमाड महोत्सव के अंतर्गत दिनांक 12 फरवरी 2021 को जिला मुख्यालय में पेंटिग प्रतियोगिता का आयोजन किया गया, जिसमें लगभग 250 प्रतिभागियों ने भाग लेकर दीवारों में आदिवासी जनजीवन, माड़ मैराथन और स्वच्छ भारत थीम पर अपनी पेंटिग बनाकर मिशाल कायम किया वहीं दिनांक 14 फरवरी 2021 को 5 किलोमीटर प्रमोशनल सायकल रैली का आयोजन किया गया था, जिसमें जिला मुख्यालय सहित बस्तर के लगभग 500 से अधिक लोग शामिल हुए, दिनांक 14.02.2021 को आईजी बस्तर श्री सुंदरराज पी. द्वारा अबूझमाड़ महोत्सव - तृतीय अंतरराष्ट्रीय माड़ मैराथन 2021 के धावकों और वालेंटियर्स के लिए टी-शर्ट व मेडल का विमोचन किया गया। इसी क्रम में दिनांक 20 फरवरी 2021 को स्थानीय आडिटोरियम में मावा नारायणपुर, युवा नारायणपुर के तहत् विभिन्न प्रकार के सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन किया गया, जिसमें सैकड़ों प्रतिभागी और आम नागरिक शामिल हुए।

यह मैराथन अबूझमाड़ में शांति स्थापित करने के उद्देश्य से आयोजित की जाती है। वर्ष-2021 में शासकीय हाई स्कूल मैदान, नारायणपुर से बासिंग तक 21 किलोमीटर (हाफ मैराथन) का आयोजन किया जा रहा है। यह स्थान प्राकृतिक सुंदरता, वन, झरना और विशालकाय पर्वत श्रृंखलाओं से ओतप्रोत है। इस मैराथन का सबसे खास बात ये है कि 21 किमी के इस मैराथन में लगभग 20 प्वाईट बनाया गया है जहां पर सेल्फी प्वाईट, साउण्ड बाक्स, डीजे, गेट और रिफ्रेसमेंट प्वाइटंस बनाया जा रहा है जहां पर फुड, चाकलेट, नीबू पानी, ग्लुकोज, जूश, केला, इत्यादि की व्यवस्था होगी। इसके अलावा वाशरूम और रिलैक्सप्वाईट सहित फस्र्ट एड और चिकित्सकों की भी व्यवस्था उपलब्ध कराया जाएगा।

कोविड-19 महामारी के प्रकोप के बावजूद इस साल मैराथन में भाग लेने के लिए 11,7,99 (ग्यारह हजार सात सौ निन्यानबे) धावकों ने अपना पंजीयन कराया है, जिसमें केन्या (विदेश से) 01 महिला + 01 पुरूष धावक, भारत भर से 23 राज्य के 360 पुरूष + 35 महिला धावक और जिला नारायणपुर के 4530 पुरूष + 360 महिला धावक तथा नारायणपुर छोडकर छत्तीसगढ़ प्रदेश के 4530 पुरूष + 545 महिला पंजीयन कराए हैं। जिला मुख्यालय नारायणपुर से बाहर के समस्त धावकों का कोविड-19 टेस्ट कराने के बाद उन्हें मैराथन में शामिल होने की अनुमति दी जाएगी।

मैराथन के पूर्व संध्या ‘‘एक शाम अबुझमाड़ के नाम’’ का आयोजन किया गया है, जिसमें पद्मश्री अनुज शर्मा, बालीवुड अभिनेता श्री दिनेश नाग और छत्तीसगढ़ के सुप्रसिद्ध कलाकार श्री अनुराग शर्मा और उनके टीम सहित स्पेशल गेस्ट के रूप में पद्मश्री सबा अंजूम, बालीवुड के नेशनल खिलाडी श्रभ् आशीष अरोरा एवं श्री अम्बर भारद्वाज भी इस कार्यक्रम में शामिल होंगे।

उल्लेखनीय है कि यह मैराथन बस्तर का एकलौता और बड़ा अंतर्राष्ट्रीय मैराथन है जो अबुझमाड़ और बस्तर को विश्वस्तर पर ख्याति दिलाने में कारगर साबित हो रहा है, इस अंतर्राष्ट्रीय मैराथन में देश के प्रसिद्ध हस्तियां भी शामिल हो रहे हैं। इस मैराथन में महिला और पुरूष दोनो वर्ग के लिए पृथक-पृथक 05 पुरस्कार क्रमशः 1 लाख 21 हजार रूपये, 61 हजार रूपये, 31 हजार रूपये, 21 हजार रूपये और 11 हजार रूपये रखा गया है। मैराथन में शामिल होने वाले धावकों/प्रतिभागियों के लिए जिला प्रशासन और पुलिस प्रशासन, नारायणपुर द्वारा ठहरने और भोजन की निःशूल्क व्यवस्था उपलब्ध करायी जा रही है। यहां यह भी उल्लेखनीय है कि यह मैराथन जिला प्रशासन, पुलिस प्रशासन और स्थानीय प्रशासन द्वारा सामाजिक संगठनों, पंजीकृत/गैर-पंजीकृत समितियों, पत्रकार साथियों, व्यापारिक संस्थानों और गणमान्य नागरिकों के सहयोग सक्रिय भागीदारी से आयोजित बस्तर का सबसे बड़ा मैराथन है जो विगत 03 वर्षों से हर साल पूरे उत्साह के साथ नारायणपुर में आयोजित किया जा रहा है। विगत वर्षों में हर साल 5 हजार से अधिक लोगों ने इस मैराथन में शामिल होकर आयोजन को सफल बनाने में अपना अहम योगदान दिया है, जिसमें देश-विदेश के धावक भी शामिल हैं।

--
Share:

अबूझमाड़ महोत्सव - तृतीय अंतरराष्ट्रीय माड़ मैराथन 2021 के बारे में जानें रोचक और विस्तृत जानकारी

अबूझमाड़ महोत्सव - तृतीय अंतरराष्ट्रीय माड़ मैराथन 2021 के बारे में जानें रोचक और विस्तृत जानकारी:

तत्कालीन पुलिस अधीक्षक श्री जितेन्द्र शुक्ला के मंशानुरूप जिला प्रशासन, पुलिस प्रशासन और भिलाई इस्पात संयंत्र के सौजन्य से ‘‘रन फार पीस, रन फार अबुझमाड़’’ थीम पर प्रथम मैराथन दिनांक 10 जनवरी 2019 को आयोजित किया गया। पहली मैराथन रन फार पीस, रन फार अबुझमाड हाप मैराथन, पुरूष वर्ग के लिए 21 कि.मी और महिला वर्ग के लिए 05 कि.मी का आयोजन कराया गया। इस मैराथन में पुरूष वर्ग में प्रथम स्थान पर मोसेज (केनिया), और द्वितीय स्थान पर हरसिंह (उत्तराखण्ड) रहे जबकि महिला वर्ग में डिंपल सिंह (लखनउ) के साथ प्रथम और श्यामलसिंह (पश्चिम बंगाल) द्वितीय स्थान में रही। मैराथन में भाग लेने वाले दोनो ही वर्ग के प्रतिभागी प्रथम पांच पुरूष और प्रथम पांच महिला को क्रमशः एक लाख, पचास हजार, तीस हजार, बीस हजार और दस हजार का ईनाम दिया गया था। इस आयोजन के सफलता के फलस्वरूप आम नागरिकों, जनप्रतिनिधियों के अनुरोध पर कलेक्टर श्री पी.एस. एल्मा एवं पुलिस अधीक्षक श्री मोहित गर्ग द्वारा इसे आगे बढ़ाते हुए निरंतर आयोजित करने का संकल्प लिया जाकर मैराथन का द्वितीय आयोजन पुनः जिला प्रशासन, पुलिस प्रशासन और भिलाई इस्पात संयंत्र के सौजन्य से दिनांक 08 फरवरी 2020 को रन फार पीस, रन फार अबुझमाड हाप मैराथन, 21 कि.मी का आयोजन कराया गया। जिसमें 18 राज्यों के लगभग 11292 धावकों ने पंजीयन कराया, वहीं 09 विदेशी धावको ने भी इस मैराथन में भाग लिया, ये सभी प्रतिभागी केन्या देश के निवासी थे। इस मैराथन में पुरूष वर्ग में प्रथम स्थान पर शंकर मानथापा (मेघालय, 1घण्टा 2मिनट), और द्वितीय स्थान पर साइमन (केन्या, 1घण्टा 5मिनट) रहे जबकि महिला वर्ग में एलीसा (केन्या, 1घण्टा 11मिनट) के साथ प्रथम और डिम्पल (लखनउ) द्वितीय स्थान में रही।

मैराथन ने अबुझमाड़ को वैश्विक स्तर पर पहचान दिलाने में कारगर साबित हुआ है वहीं नक्सल प्रभावित क्षेत्रों के लोग पुलिस और प्रशासन के कार्यशैली से परिचित होकर पुलिस प्रशासन से जूडकर नक्सलवाद के खिलाफ बौद्धिक रूप से खडा हुए हैं। फलस्वरूप पुलिस अधीक्षक श्री मोहित गर्ग के प्रस्ताव पर अमल करते हुए कलेक्टर श्री धर्मेश कुमार साहू द्वारा मैराथन के तीसरे आयोजन को ‘‘अबुझमाड़ महोत्सव - तृतीय अंतर्राष्ट्रीय माड़ मैराथन - 2021’’ के रूप में आयोजित करने की सहमति दी गई। महिनों चलने वाले इस अबुझमाड़ महोत्सव के माध्यम से मावा नारायणपुर, युवा नारायणपुर के थीम पर अंदरूनी और पहुंच विहिन क्षेत्र के आम नागरिकों और युवाओं को जोडकर उन्हें सरकारी कार्यालयों का भ्रमण कराते हुए सरकार के कार्यशैली को बताया जा रहा है, पुलिस अधीक्षक श्री मोहित गर्ग के निर्देशानुसार जिला नारायणपुर के समस्त पुलिस थाना और केन्द्रीय सशस्त्र बल के कैम्पों में 5-5 किलोमीटर के दौड़ आयोजित कर नक्सल क्षेत्र के नागरिकों को खासकर युवा और छात्रों को शासन से जोडने का प्रयास किया जा रहा है। इस दौड़ में शामिल विजेता धावकों को नगद ईनाम, सर्टिफिकेट और खेल सामाग्री दिये जा रहे हैं वहीं दौड़ मे शामिल होने वाले अन्य धावकों और लोगों के लिए चाय, नास्ता भी कराया जा रहा है, इच्छूक लोगों का तृतीय अंतर्राष्ट्रीय माड़ मैराथन - 2021 के लिए निःशूल्क आनलाईन पंजीयन किया जा रहा है ताकि उन्हें देश-विदेश के ख्याति प्राप्त धावकों से प्रतियोगिता करने का अवसर प्राप्त हो सके। बस्तर रेंज के पुलिस महानिरीक्षक श्री सुंदरराज पी. द्वारा आयोजन से आम लोगों के मन में पुलिस प्रशासन के प्रति बने सकारात्मक छवि को देखते हुए बस्तर संभाग के समूचे पुलिस थाना एवं कैम्पों में इसके आयोजन हेतु रेंज के समस्त पुलिस अधीक्षकों को निर्देशित किया गया है।

‘‘अबुझमाड़ महोत्सव - तृतीय अंतर्राष्ट्रीय माड़ मैराथन - 2021’’ के तहत् हर दिन लगभग 10 गांव के युवाओं, छात्रों और लोगों को जिला मुख्यालय बुलाकर उन्हें उनके मानव अधिकारों और आवश्यक कार्यों के निपटारा के लिए जागरूक करने का प्रयास किया जा रहा है। अबुझमाड महोत्सव के अंतर्गत दिनांक 12 फरवरी 2021 को जिला मुख्यालय में पेंटिग प्रतियोगिता का आयोजन किया गया, जिसमें लगभग 250 प्रतिभागियों ने भाग लेकर दीवारों में आदिवासी जनजीवन, माड़ मैराथन और स्वच्छ भारत थीम पर अपनी पेंटिग बनाकर मिशाल कायम किया वहीं दिनांक 14 फरवरी 2021 को 5 किलोमीटर प्रमोशनल सायकल रैली का आयोजन किया गया था, जिसमें जिला मुख्यालय सहित बस्तर के लगभग 500 से अधिक लोग शामिल हुए, दिनांक 14.02.2021 को आईजी बस्तर श्री सुंदरराज पी. द्वारा अबूझमाड़ महोत्सव - तृतीय अंतरराष्ट्रीय माड़ मैराथन 2021 के धावकों और वालेंटियर्स के लिए टी-शर्ट व मेडल का विमोचन किया गया। इसी क्रम में दिनांक 20 फरवरी 2021 को स्थानीय आडिटोरियम में मावा नारायणपुर, युवा नारायणपुर के तहत् विभिन्न प्रकार के सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन किया गया, जिसमें सैकड़ों प्रतिभागी और आम नागरिक शामिल हुए। दिनांक 21 फरवरी 2021 को बस्तर रेंज के समस्त जिलों में श्री सुंदरराज पी., पुलिस महानिरीक्षक, बस्तर रेंज बस्तर के निर्देशानुसार अबूझमाड़ पीस मैराथन 2021 का प्रमोशन करने के लिए दौड़ कराया गया जिसमें संभाग के जिलों से लाखों अधिकारी/कर्मचारी, आम नागरिक, जनप्रतिनिधि, युवा और छात्र शामिल हुए।

यह मैराथन अबूझमाड़ में शांति स्थापित करने के उद्देश्य से आयोजित की जाती है। वर्ष-2021 में शासकीय हाई स्कूल मैदान, नारायणपुर से बासिंग तक 21 किलोमीटर (हाफ मैराथन) का आयोजन किया जा रहा है। यह स्थान प्राकृतिक सुंदरता, वन, झरना और विशालकाय पर्वत श्रृंखलाओं से ओतप्रोत है। इस मैराथन का सबसे खास बात ये है कि 21 किमी के इस मैराथन में लगभग 21 प्वाईट बनाया गया है जहां पर सेल्फी प्वाईट, साउण्ड बाक्स, डीजे, गेट और रिफ्रेसमेंट प्वाइटंस बनाया जा रहा है जहां पर फुड, चाकलेट, नीबू पानी, ग्लुकोज, जूश, केला, इत्यादि की व्यवस्था होगी। इसके अलावा वाशरूम और रिलैक्सप्वाईट सहित FIRST AID और चिकित्सकों की भी व्यवस्था उपलब्ध कराया जाएगा।

उल्लेखनीय है कि यह मैराथन बस्तर का एकलौता और बड़ा अंतर्राष्ट्रीय मैराथन है जो अबुझमाड़ और बस्तर को विश्वस्तर पर ख्याति दिलाने में कारगर साबित हो रहा है, इस अंतर्राष्ट्रीय मैराथन में देश के प्रसिद्ध हस्तियां भी शामिल हो रहे हैं, विजयी प्रतिभागियों को माननीय मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल द्वारा पुरस्कृत किया जाएगा। इस मैराथन में महिला और पुरूष दोनो वर्ग के लिए पृथक-पृथक 05 पुरस्कार क्रमशः 1 लाख 21 हजार रूपये, 61 हजार रूपये, 31 हजार रूपये, 21 हजार रूपये और 11 हजार रूपये रखा गया है। मैराथन में शामिल होने वाले धावकों/प्रतिभागियों के लिए जिला प्रशासन और पुलिस प्रशासन, नारायणपुर द्वारा ठहरने और भोजन की निःशूल्क व्यवस्था उपलब्ध करायी जा रही है। यहां यह भी उल्लेखनीय है कि यह मैराथन जिला प्रशासन, पुलिस प्रशासन और स्थानीय प्रशासन द्वारा सामाजिक संगठनों, पंजीकृत/गैर-पंजीकृत समितियों, पत्रकार साथियों, व्यापारिक संस्थानों और गणमान्य नागरिकों के सहयोग सक्रिय भागीदारी से आयोजित बस्तर का सबसे बड़ा मैराथन है जो विगत 03 वर्षों से हर साल पूरे उत्साह के साथ नारायणपुर में आयोजित किया जा रहा है। विगत वर्षों में हर साल 5 हजार से अधिक लोगों ने इस मैराथन में शामिल होकर आयोजन को सफल बनाने में अपना अहम योगदान दिया है, जिसमें देश-विदेश के धावक भी शामिल हैं।

--
Share:

देश का पैगाम किसानों के नाम...... "जागो, संगठित हो और हमारे जीवन को संरक्षित करो", क्योंकि

देश का पैगाम किसानों के नाम...... "जागो, संगठित हो और हमारे जीवन को संरक्षित करो", क्योंकि
 फैक्टरियां और व्यापारिक प्रतिष्ठान हमें लाखों बीमारियों की सौगात देने को उतारू हैं।

किसान 6 से 8 महीने तक कड़ी मेहनत करके, 150 रुपये किलो में बीज लेकर राहर बोता है। खराब मौसम से बचकर कुछ उत्पादन कर भी लेता है तो उस राहर को 40-60/KG में बेचने को मजबूर रहता है जबकि व्यापारी वर्ग उसे एक दिन के मशीनी मेहनत के बाद 125/KG में बेचता है। किसानों थोड़ा समीक्षक बनो, पिछले साल राहर दाल का जो अधिकतम मूल्य था उसके 75% से कम मूल्य में राहर मत बेचो..... जागो और संगठित हो जाओ, आप मंडी या दुकान में जितना अधिक भीड़ लगाकर बेचोगे, आपके राहर उतने ही सस्ते दामों में बिकेंगे..... आराम से बेचना, बचाकर रखो.... दुकान या मंडी में बेचने के बजाय मील से या जतवा से दाल बनाकर, दाल को केमिकल से केंसर और शुगर कारक बनाये बिना स्वयं सड़क किनारे दुकान लगाकर ग्राहकों को बेचना, ताकि आम आदमी रोगमुक्त जीवन को प्राप्त करें और आपको अच्छे दाम मिले। आम जनता को लुटेरे दलालों से बचाएं।

मैंने ऊपर जो राहर के बारे में कही वह केवल राहर के लिए नहीं बल्कि लगभग सभी प्रकार के खाद्य पदार्थों के लिए बता रही हूँ। आप चावल, गेंहू और अन्य सभी प्रकार के खाद्य पदार्थों के रखरखाव की समीक्षा करेंगे तो समझ मे आएगा कि आप जिसे पौष्टिकता और जीवन की रक्षा के लिए खा रहे हैं वह आपको ढेरों बीमारियों की सौगात देने वाली है। हम किसान अपने घरों में धान, गेंहू, राहर, चना इत्यादि को लंबे दिनों तक रखने के लिए खासकर बीज के रूप में रखते है तो उसमें नीम पत्ते, प्याज इत्यादि डालकर उसे घुन इत्यादि से बचाते हैं, अब कैमिकल प्रोसेस के माध्यम से उसी खाद्य पदार्थों में जहरीले केमिकल मिलाया जा रहा है, ताकि अनाज के एक दाने भी खराब या बर्बाद न हो चाहे आप खाने वाले उसे खाकर जल्दी मरने योग्य होते जाएं।

हम ग्रामीणों और किसानों को बड़ी समस्या होती है अपने खाद्य पदार्थों की सुरक्षा में। आप जिस चावल, राहर और अन्य खाद्य पदार्थ को बाजार या दुकान से खरीदते हैं उसमें कैमिकल डालकर सुंदर बनाया गया है, चिकना बनाया गया है ताकि आप देखकर आकर्षित हो सकें। यदि आपने धान या दाल की मिलिंग नहीं देखी होगी तो जरूर देखिए जिस अनाज को आप दोगुने दाम देकर खरीद रहे हैं वह जहरीले पदार्थों की लेप से लिपटी हुई है जो आपको भयावह बीमारियों से ग्रसित करने वाली है।

बचपन में हमारा परिवार लगभग 3 हेक्टेयर जमीन में गन्ना किसानी करके उसका गुड़ बनाने का काम करता था, गुड़ को थोड़ा साफ और चमकदार बनाने के लिए पुटू, एक प्रकार का भिंडी के तने के छिलके डालकर गन्ना रस से उसका कालापन निकालते थे, मगर अब ऐसा नहीं है टोटल कैमिकल प्रोसेस होने लगा है। मेरे दिमाक में एक निर्देश हमेशा से, बचपन से सुरक्षित है... शक्कर बीमारियों का कारक है जबकि अब जिस पद्धति से सुंदर दिखने वाले गुड़ बनाकर आपको खिलाया जा रहा है वह भी आपके साथ धोखा है, इसके माध्यम से आपको सैकड़ों बीमारियों की सौगात दी जा रही है। इसका बड़ा कारण है ईंधन बचाने और कम गन्ने में अधिक गुड़ बनाने की होड़। अब जो ग्रामीण क्षेत्रों में गुड़ की फैक्टरी लग रही है वह भी केमिकल और बीमारियों से युक्त है, भोज्य पदार्थों में जितना अधिक व्यापारिक इन्वॉल्वमेंट होगा ग्राहकों को उतने अधिक दाम में उपलब्ध होते हैं, भोज्य पदार्थ और राशन जितना अधिक दिनों तक व्यापारिक प्रतिष्ठान में रहेंगे उतने अधिक रोगकारक और केमिकल युक्त होंगे। इसलिए हे भगवान, हे किसान आपसे प्रार्थना है अनाज का थोक विक्रय मत करो क्योंकि ये लोग हमें बीमारियों से मारने और लूटने को उतारू हैं आपके मेहनत में केवल दलाली करने वाले हैं। आपसे हाथ जोड़कर प्रार्थना है, थोक के बजाय फुटकर बेचो, अपने घर मे फिर से कोठी बनाओ, खेत से सीधे बोरी भरकर मत बेच दो... हमारी रक्षा करो...हमारी प्राण बचाओ।

पुनः आपसे निवेदन है कि परंपरागत कृषि पद्धति को छोड़कर थोड़ा व्यापारिक बनिए.. स्थानीय मार्केट में मांग के अनुरूप ही अनाज का उत्पादन करिए; हमारे जीवन और पेट भरने के साथ साथ थोड़ा अपने आर्थिक स्थिति में सुधार भी करिए। थोड़ा संगठित हो जाओगे, जागरूक हो जाओगे तो आत्महत्या के लिए मजबूर नही होओगे, ख्याल रखना मनुष्य के जीवन ले लिए हवा और पानी के बाद जो सबसे आवश्यक है वह है आप किसानों के द्वारा उत्पादित अनाज जो लोग आपके अपमान करने, आपको देशद्रोही बताने में लगे हैं उन्हें बताना भी जरूरी है कि जिसे वह खाकर जिंदा है वह फैक्टरी में नहीं बनते। फैक्ट्री में बनने वाले कोई भी अतिआवश्यक चीजें राशन से अधिक आवश्यक नहीं है। उपभोक्ताओं को भी बताना जरूरी है उन्हें भी ज्ञात होनी चाहिए कि किसानों और उनके बीच के जो लोग हैं दलाली कर रहे हैं, केवल दलाली ही नहीं बल्कि बीमारियों की सौगात दे रहे हैं। आम लोगों को भी जानकारी होनी चाहिए कि उनके जीवन के लिए जाति, धर्म और सीमा की नहीं बल्कि शुद्ध हवा, पानी और केमिकल रहित अनाज की जरूरत है, जाति नहीं होगी, धर्म नही होगी और सीमा नही रहेगी तब भी वे जिंदा रह सकते हैं।


(श्रीमती विधि हुलेश्वर जोशी)
नवा रायपुर, छत्तीसगढ़
Share:

अबुझमाड़ का एक संदेश देशवासियों के नाम........


साथियों नमस्कार...

27 फरवरी 2021 को दुनियाभर के लोग "अबूझमाड़ महोत्सव - तृतीय अंतरराष्ट्रीय माड़ मैराथन 2021" में शामिल होने, जिला मुख्यालय नारायणपुर आ रहे हैं। आपसे अनुरोध है कि आप भी अपने परिवार और दोस्तों के साथ इस मैराथन में शामिल होकर अबूझमाड़ के झरना और पर्वत श्रृंखलाओं से आच्छादित वन्य जीवन का आनंद लें।  
यह मैराथन अबूझमाड़ में शांति स्थापित करने के उद्देश्य से आयोजित की जाती है। जो इस वर्ष हाई स्कूल मैदान, नारायणपुर से बासिंग तक 21 किलोमीटर (हाफ मैराथन) का आयोजन किया जा रहा है। मैराथन में भाग लेने वाले प्रतिभागियों के लिए प्रशासन द्वारा ठहरने और भोजन निःशुल्क की निःशुल्क व्यवस्था उपलब्ध कराया जा रहा है।

इस मैराथन के लिए आज ही अपना निःशुल्क पंजीयन कराएं... 
टी-शर्ट लेने के इच्छुक लोगों को ही 200/- (दो सौ रूपये मात्र) का पेमेंट करना होगा।

इस मैराथन में भाग लेने वाले प्रथम कुछ प्रतिभागियों को आकर्षक ईनाम और मेडल भी दिए जाएंगे। प्रथम ईनाम 1.21 लाख, द्वितीय ईनाम 61 हजार, तृतीय ईनाम 31 हजार, चतुर्थ ईनाम 21 हजार और पांचवे ईनाम 11 हजार का रखा गया है, इसके अलावा 6वें से 10वें स्थान आने वाले धावकों को 5-5 हजार रुपये का सांत्वना पुरस्कार दिए जाएंगे..... सबसे खास बात यह है कि ये सारे ईनाम पुरुष और महिला वर्ग के लिए अलग अलग है, अर्थात 10 महिला और 10 पुरुष धावकों को ईनाम मिलेंगे। इन 20 विनर्स के साथ साथ प्रथम 3000 धावकों को मेडल भी प्रदान किये जायेंगे...

इस मैराथन का सबसे खास बात ये है कि 21 किमी के इस मैराथन में लगभग 20 प्वाईट बनाया गया है जहां पर सेल्फी प्वाईट, साउण्ड बाक्स, डीजे, गेट और रिफ्रेसमेंट प्वाइटंस बनाया जा रहा है जहां पर फुड, चाकलेट, नीबू पानी, ग्लुकोज, जूश, केला, इत्यादि की व्यवस्था होगी। इसके अलावा वाशरूम और रिलैक्सप्वाईट सहित फस्र्ट एड और चिकित्सकों की भी व्यवस्था उपलब्ध कराया जाएगा।

महिनों चलने वाले इस अबुझमाड़ महोत्सव के माध्यम से अंदरूनी और पहुंच विहिन क्षेत्र के आम नागरिकों और युवाओं को जोडकर उन्हें सरकारी कार्यालयों का भ्रमण कराते हुए सरकार के कार्यशैली को बताया जा रहा है, वहीं पुलिस अधीक्षक श्री मोहित गर्ग के निर्देशानुसार जिला के समस्त पुलिस थाना और कैम्प में दौड़ तथा खेलों को आयोजन कराया जाकर उन्हें पुरस्कृत और मैराथन में शामिल होने के लिए प्रेरित भी किया जा रहा है। उल्लेखनीय है कि अबुझमाड महोत्सव के अंतर्गत दिनांक 12 फरवरी 2021 को जिला मुख्यालय में पेंटिग प्रतियोगिता का आयोजन किया गया था जिसमें लगभग 250 प्रतिभागियों ने भाग लेकर दीवारों में आदिवासी जनजीवन, माड़ मैराथन और स्वच्छ भारत थीम पर अपनी पेंटिग बनाकर मिशाल कायम किया वहीं दिनांक 14 फरवरी 2021 को 5 किलोमीटर प्रमोशनल सायकल रैली का आयोजन किया गया था, जिसमें जिला मुख्यालय सहित बस्तर के लगभग 500 से अधिक लोग शामिल हुए थे।

आपसे अनुरोध है कि इस आयोजन को अधिक व्यापक और सफल बनाने के लिए इसे अपने सभी सोशल मीडिया एकाउंट्स और समूहों में शेयर करें...

Related Images 








Share:

Traffic Awareness Images यातायात जागरूकता

 Traffic Awareness Images  (यातायात जागरूकता)








Share:

आईजी बस्तर श्री सुंदरराज पी. ने किया अबूझमाड़ महोत्सव – तृतीय अंतरराष्ट्रीय माड़ मैराथन 2021 के धावकों और वालेंटियर्स के लिए टी-शर्ट व मेडल का विमोचन

आईजी बस्तर श्री सुंदरराज पी. ने किया अबूझमाड़ महोत्सव – तृतीय अंतरराष्ट्रीय माड़ मैराथन 2021 के धावकों और वालेंटियर्स के लिए टी-शर्ट व मेडल का विमोचन

आज दिनांक 14 फरवरी 2021 को जिला नारायणपुर में अबूझमाड़ महोत्सव – तृतीय अंतरराष्ट्रीय माड़ मैराथन 2021, दिनांक 27 फरवरी 2021 के लिए 5किलोमीटर प्रमोशनल सायकल रैली का आयोजन कलेक्टर कार्यालय से किया गया था, जिसमें आईजी बस्तर श्री सुंदरराज पी., कलेक्टर श्री धर्मेश कुमार साहू, पुलिस अधीक्षक श्री मोहित गर्ग, वनमंडलाधिकारी श्री एन.आर. खूंटे सहित जिला के वरिष्ठ अधिकारी, जनप्रतिनिधि व गणमान्य नागरिकों सहित आसपास के जिलों के लगभग 500से अधिक लोग शामिल हुए।

प्रमोशनल सायकल रैली के बाद आईजी बस्तर द्वारा अबूझमाड़ महोत्सव – तृतीय अंतरराष्ट्रीय माड़ मैराथन 2021 के धावकों और वालेंटियर्स के लिए टी-शर्ट व मेडल का विमोचन किया गया। उल्लेखनीय है कि इस दौरान 12 फरवरी 2021 को जिला नारायणपुर में हुए पेंटिंग प्रतियोगिता के प्रतिभागियों को इनाम राशि का चेक, सर्टिफिकेट और गिफ्ट वितरण किया गया।

श्री सुंदरराज ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि यह माड़ मैराथन जिला नारायणपुर ही नहीं वरन पूरे बस्तर को वैश्विक स्तर पर पहचान दिलाने में कारगर साबित हो रहा है। उन्होंने यह भी कहा कि जब जिला नारायणपुर का गठन हुआ उन दिनों सबकी मंशा थी कि जिले का नाम अबूझमाड़ हो, कतिपय कारणों से ऐसा संभव नहीं हो पाया था अब इस अंतरराष्ट्रीय मैराथन के बाद से लोगों के दिल की छिपी ईच्छा जुबान में आने लगी है।

Related Images :











Share:

ABUJHMAD MAHOTSAV - THIRD INTERNATIONAL MAD MARATHON 2021 will be held on 27 February 2021 at DISTRICT HEADQUARTERS, NARAYANPUR - CHHATTISGARH, INDIA (Click here to fill online nomination)



It is worth mentioning that this marathon is the only and big international marathon of BASTAR which is proving to be successful in bringing ABUJHMAD and BASTAR to fame globally. The victorious contestants will be rewarded by the Honorable Chief Minister Mr. Bhupesh Baghel. In this marathon, separate 05 Rewards for both men and women have been kept at Rs 1 lac 21 thousand, 61 thousand rupees, 31 thousand rupees, 21 thousand rupees and 11 thousand rupees respectively. Free food and lodging arrangements are being made available by the District Administration and Police Administration, Narayanpur for the runners / participants in the marathon.


Share:


सबसे अधिक बार पढ़ा गया लेख


यह वेबसाइट /ब्लॉग भारतीय संविधान की अनुच्छेद १९ (१) क - अभिव्यक्ति की आजादी के तहत सोशल मीडिया के रूप में तैयार की गयी है।
यह वेबसाईड एक ब्लाॅग है, इसे समाचार आधारित वेबपोर्टल न समझें।
इस ब्लाॅग में कोई भी लेखक/कवि/व्यक्ति अपनी मौलिक रचना और किताब निःशुल्क प्रकाशित करवा सकता है। इस ब्लाॅग के माध्यम से हम शैक्षणिक, समाजिक और धार्मिक जागरूकता लाने तथा वैज्ञानिक सोच विकसित करने के लिए प्रयासरत् हैं। लेखनीय और संपादकीय त्रूटियों के लिए मै क्षमाप्रार्थी हूं। - श्रीमती विधि हुलेश्वर जोशी

प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कैसे करें?

Blog Archive