फ़ायर सेफ्टी में रोजगार की अपार संभावनाएं : DP Joshi

फ़ायर सेफ्टी में रोजगार की अपार संभावनाएं : DP Joshi


निजी क्षेत्र में रोजगार की गारण्टी, निजी सुरक्षा एजेंसियों के माध्यम से नियुक्ति

10वी, 12वी व स्नातक उत्तीर्ण कर सकते हैं रेगुलर व कररेस्पोंडेंस कोर्स

SC, ST, OBC व कृषि/मजदूरी पर आश्रित परिवार को शुल्क में मिलेगी छूट

वर्तमान परिवेश में युवाओं लिए रोजगार - स्वरोजगार एक बड़ी गंभीर चुनौती है। रोजगार अथवा स्वरोजगार के बिना भावी जीवन संकट से घिरा हुआ होगा। इतना ही नही वरन स्वाभिमान से समझौता करने की मजबूरी भी आपको बहुत नीचे गिरा देगा, जिससे ऊपर उठ पाना आपके व आपके आने वाली पीढ़ी के लिए बहुत कठिन होगा।

इसी परिप्रेक्ष्य में आपको रोजगारपरक प्रशिक्षण का सुझाव देना उचित समझता हूं। वर्तमान में उद्योगों व बड़े प्रतिष्ठानों में सुरक्षा के लिए सुरक्षा गॉर्ड व *फ़ायर सेफ्टी मेन* की अनिवार्यता महसूस की गई है। 

राज्य में फ़ायर सेफ्टी पर सर्टिफिकेट व डिप्लोमा कोर्स उपलब्ध है। भारत सेवक समाज से प्रशिक्षण प्राप्त युवाओं को शासकीय कार्यालयों में भी रोजगार मिला है। वही देश/प्रदेश में संचालित निजी सुरक्षा एजेंसी में कमसेकम 20,000 (बीस हजार रुपये मासिक) वेतन पर नियुक्ति मिल जाती है।

यदि आप फ़ायर सेफ्टी के क्षेत्र में अपना कैरियर बनाना चाहते हैं तो मुझसे मोबाइल नंबर 98933 54327 में संपर्क कर सकते हैं।

DP Joshi
Director
IFSTA Baloda Bazar
Call 98933 54327
Share:

गुरु अगमदास के नाम पर संचालित हो कल्याणकारी योजनाएं : डी पी जोशी

गुरु अगमदास के नाम पर संचालित हो कल्याणकारी योजनाएं : डी पी जोशी

पूज्यनीय गुरु अगमदास सतनामी समाज के गुरु व स्वतंत्र भारत में प्रथम लोकसभा चुनाव के दौरान कांग्रेस पार्टी से सांसद बने थे। गुरु अगमदास का भारतीय स्वतंत्रता में अहम योगदान भी है।

ऐसे में अब सतनामी समाज मूल छत्तीसगढ़िया सरकार से अपील करती है कि गुरु अगमदास के नाम पर कोई *कल्याणकारी योजना* संचालित करे अथवा उनके नाम पर *राज्य स्तरीय सम्मान* प्रदान करे। 

छत्तीसगढ़ के इतिहास में उनके योगदान का वर्णन हो। समाज के इतिहासकार/शोधकर्ताओं से आग्रह है गुरु अगमदास पर शोध करें।

धर्मगुरु रूद्रकुमार, माननीय मन्त्री, छत्तीसगढ़ शासन से निवेदन है विशेष पहल करें।

(डी पी जोशी)
अटल नगर, रायपुर
छत्तीसगढ़
Share:


सबसे अधिक बार पढ़ा गया लेख


यह वेबसाइट /ब्लॉग भारतीय संविधान की अनुच्छेद १९ (१) क - अभिव्यक्ति की आजादी के तहत सोशल मीडिया के रूप में तैयार की गयी है।
यह वेबसाईड एक ब्लाॅग है, इसे समाचार आधारित वेबपोर्टल न समझें।
इस ब्लाॅग में कोई भी लेखक/कवि/व्यक्ति अपनी मौलिक रचना और किताब निःशुल्क प्रकाशित करवा सकता है। इस ब्लाॅग के माध्यम से हम शैक्षणिक, समाजिक और धार्मिक जागरूकता लाने तथा वैज्ञानिक सोच विकसित करने के लिए प्रयासरत् हैं। लेखनीय और संपादकीय त्रूटियों के लिए मै क्षमाप्रार्थी हूं। - श्रीमती विधि हुलेश्वर जोशी

प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कैसे करें?