"Exploring Abujmad" - The Largest Unserved Area of India (Short Film)

‘‘एक्सप्लोरिंग अबुझमाड’’ - द लार्जेस्ट अनसर्वेड एरिया आफ इंडिया का विमोचन:- राज्योत्सव के उपलक्ष्य में सुश्री जागृति डी के निर्देशन और श्री मोहित गर्ग, पुलिस अधीक्षक नारायणपुर के संकल्पना में तैयार डाक्यूमेंट्री ‘‘एक्सप्लोरिंग अबुझमाड’’ - द लार्जेस्ट अनसर्वेड एरिया आफ इंडिया का विमोचन श्री चंदन कश्यप, माननीय विधायक, नारायणपुर द्वारा किया गया। इस डाक्यूमेंट्री के माध्यम से जनजातीय जीवन के सुंदरता जिसमें खासकर मारिया, मुरिया, गोड और हल्बा के परम्पराओं, संस्कृति और नैतिक मूल्यों को बखुबी से दिखाया गया है। इसके अंतर्गत जहां एक ओर नारायणपुर में लगने वाले हाट बाजार, मुर्गा लडाई और यहां के आम जन जीवन पर आधारित स्कील्स को दिखाया गया है तो वहीं नक्सल अभियान में तैनात जवानों के कार्य पद्धिति और दिनचर्या को भी दिखाने का प्रयास किया गया है। बस्तर संभाग में अपने औषधी गुणों के लिए प्रचलित खाद्य एवं पेय पदार्थ जैसे चापडा चटनी और सल्फी ताडी को भी दिखाया गया है। पुलिस प्रशासन के विशेष योगदान से नारायणपुर अब उन्नत और विकसित हो रहा है, कुछ दशकों पूर्व सडक, स्कूल और स्वास्थ्य के मामले में सबसे पिछडा नारायणपुर अब अपने प्राकृतिक सौन्दर्य, सैकडों पर्वत श्रृंखला, नदियों और दर्जनों झरना को पर्यटन के स्वरूप को विश्व पटल में ख्याति दिलाने तथा पर्यटकों को भयमुक्त माहौल देने की ओर अग्रसर है, यह डाक्यूमेंट्री ट्रेवलिंग गाईड के रूप में भी तैयार किया गया है। 



Share:

बिंजली डेम (शांत सरोवर) - पिकनिक स्पाट के रूप में विकसित

बिंजली डेम (शांत सरोवर) को पिकनिक स्पाट के रूप में विकसित करना:- नारायणपुर पुलिस द्वारा करूणा फाउण्डेशन के सहयोग से श्रमदान कर बिंजली डेम का सौन्दर्यीरण कर पिकनिक स्पाट के रूप में विकसित किया गया। बांध में रेलिंग लगाया गया, नहर किनारे जाली और पेंटिग्स किया गया, सडक में मुरमीकरण, सडक के किनारे लगे पेडो की छटाई कर पोताई किया गया, बांध किनारे शासकीय भूमि में जाली से बाउण्ड्री बनाकर वहां हट का निर्माण किया गया, वृद्ध होकर गिर चूके मोटे लकडियों की छटाई कर बैठने हेतु प्राकृतिक बैंच और लोहे के कुर्सियां भी तैयार कर लगाया गया है। पुलिस विभाग द्वारा हमर नारायणपुर और आई लव नारायणपुर की थीम पर दो विशालकाय आईलैण्ड सहित कुछ सेल्फी प्वाइंट तैयार किया गया। वहीं उद्यानिकी विभाग के सहयोग से पौधारोपण तथा जिला पंचायत और जिला प्रशासन द्वारा हाई मास्क लाईट, बाथरूम, नल और सोलर पानी टंकी हेतु नींव भी रखी गई है। सौन्दर्यीरण के बाद 02.12.2020 को माननीय सांसद, बस्तर और माननीय विधायक, नारायणपुर द्वारा पिकनिक स्पाट का उद्घाटन कराया गया।






Share:

पुना-डेरा : Surrender (Short Film)

पुना-डेरा : Surrender - बस्तर के नक्सल-प्रभावित इलाकों में भटके हुए नौजवान जो नक्सली बन गए उन्हें मुख्यधारा में वापस लौटने तथा सरेंडर करने के लिए प्रेरित करने के लिए नारायणपुर पुलिस द्वारा बनाया गया वीडियो।



Share:

मुखबीर : Police Informer

मुखबीर : Police Informer - बस्तर के नक्सल-प्रभावित इलाकों में नक्सलियों द्वारा आम जनता को प्रताड़ित करने वाली घटनाओं को वीडियो के माध्यम से प्रदर्शित करने का नारायणपुर पुलिस का एक प्रयास।



Share:

मनखे-मनखे एक समान का सिद्धांत प्रतिपादित करने वाले गुरु घासीदास बाबा समूचे मानव समाज का गुरु है; केवल किसी एक धर्म या समाज की कॉपीराइट नहीं - श्री हुलेश्वर जोशी

#गुरु घासीदास जयंती विशेषांक

गुरु घासीदास बाबा द्वारा प्रतिपादित समानता और मानव अधिकार पर आधारित सभी सिद्धांत आज भी मानव जीवन के बेहतरी के लिए प्रासंगिक है; उनके सिद्धांत युगों युगों तक प्रासंगिक रहेंगे। उनके सामाजिक, धार्मिक, आध्यात्मिक और शैक्षणिक आंदोलन से केवल सतनामी समाज ही नहीं वरन देश का हर जाति, वर्ण और धर्म के लोग लाभान्वित हुए हैं; खासकर दलित और महिलाएं। महिलाओं की बात होती है तो केवल महिला तक सीमित समझना न्यायोचित नहीं है क्योंकि हम सब महिलाओं के गर्भ ही जन्म लेते हैं। महिलाओं के बेहतर जीवन के अभाव में पुरुषों का जीवन भी व्यर्थ और अधूरा है, क्योंकि महिलाएं हर स्तर हर पुरुषों के जीवन और सुख में भागीदार रहती हैं। इसके बावजूद कुछ असामाजिक तत्वों द्वारा गुरु घासीदास बाबा को किसी एक समाज का आराध्य/गुरु बताने का प्रयास किया का रहा है जबकि वे समूचे मानव समाज का गुरु हैं। गुरु घासीदास बाबा के मानव मानव एक समान का सिद्धांत समस्त सामाजिक, धार्मिक, शैक्षणिक, आध्यात्मिक और दार्शनिक सिद्धांतों का मूल संक्षेप है। उल्लेखनीय है कि गुरु घासीदास बाबा का जन्म ऐसे समय में हुआ जब पूरे देश में सामाजिक असमानता, छुआछूत, द्वेष, दुर्भावना और घृणा जैसे घोर अमानवीय सिद्धांतो के माध्यम से समाज कई वर्गों खासकर शोषक और शोषित वर्ग में बटा हुआ था, जिसे समाप्त करने में गुरु घासीदास बाबा का अहम योगदान है।

आज गुरु घासीदास बाबा जी की 264 जयंती है, गुरु घासीदास बाबा के द्वारा सामाजिक चेतना के लिए किए गए योगदान को किसी एक लेख में समाहित कर पाना संभव नहीं है, खासकर तब जब उनके योगदान को पूरी ईमानदारी और निष्ठा से इतिहास में लिखा न गया हो। कपोल कल्पित कहानी के माध्यम से उन्हें चमत्कारी पुरुष के रूप में प्रचारित कर उनके मूल योगदान को भुलाने का भी षड्यंत्र रचा गया; कुछ अशिक्षित, अज्ञानी और अतार्किक लोगों के द्वारा अपने लेख, गीतों के माध्यम से अतिसंयोक्तिपूर्ण अवैज्ञानिक साक्ष्य के माध्यम से उनके कार्य के मूल प्रकृति के खिलाफ गुरु घासीदास बाबा के चरित्र का वर्णन किया गया है। 

यदि गुरु घासीदास बाबा के जीवनी और योगदान पर लिखने का प्रयास करूं तो सम्भव है मैं भी गलत, झूठा या भ्रामक ही लिखूंगा। इसलिए मैं गुरु घासीदास बाबा के सिद्धांतों विपरीत परन्तु उनके नाम से प्रचलित हो चुके झूठ का पर्दाफाश करना आवश्यक समझता हूं; मेरे लेख से अधिकांश लोगों को आपत्ति भी होगा, मगर मैं गुरु घासीदास बाबा के लिए फैलाये जा रहे झूठ को कदापि बर्दाश्त नहीं करना चाहता। कुछ धार्मिक अंधत्व के शिकार लोगों के फर्जी आस्था का ख्याल रखना मेरी मजबूरी है इसलिए मैं खुलकर अपनी बात नही रख पा रहा हूँ, मगर सांकेतिक रूप से सत्य को सामने लाने का प्रयास जरूर करूँगा :-
1- गुरु घासीदास बाबा ने जीवन पर्यंत मूर्ति पूजा का विरोध किया और कुछ लोग उनके ही मूर्ति बनाकर पूजने लगे।

2- गुरु घासीदास बाबा ने चमत्कार और अतिसंयोक्तिपूर्ण कपोल कल्पित कहानियों का विरोध किया और लोग उनके बारे में ही चमत्कारिक अफवाहें फैला दी।
# मरणासन्न को मृत बताकर, मृत बछिया को जिंदा करने की अफवाह फैलाई गई।
# भाटा के बारी से मिर्चा लाना : गुरु घासीदास बाबा ने भाटा के बारी से मिर्च नही लाया बल्कि उन्होंने कृषि सुधार के तहत एक समय में, एक ही भूमि में, एक साथ एक से अधिक फसल के उत्पादन करने का तरीका सिखाया। जैसे - राहर के साथ कोदो, धान अथवा मूंगफली का उत्पादन। चना के साथ धनिया, सूरजमुखी, अलसी और सरसों का उत्पादन। सब्जी में मूली के साथ धनिया और भाजी; बैगन के साथ मिर्च, और मीर्च के साथ टमाटर।
# गरियार बैल को चलाना : सामाजिक रूप से पिछड़े, दबे लोगों को मोटिवेट कर शोषक वर्ग के बराबर लाने का काम किया; अर्थात दलितोद्धार का कार्य किया। इसके तहत उन्होंने ऐसे लोगों (शोषित लोगों) को चलाया, आगे बढ़ाया जो स्वयं शोषक समाज के नीचे और दबे हुए मानकर उनके समानांतर चलने का साहस नहीं करते थे उन्हें सशक्त कर उनके समानांतर लाकर बराबर का काम करने योग्य बनाया।
# शेर और बकरी को एक घाट में पानी पिलाना : गुरु घासीदास बाबा सामाजिक न्याय के प्रणेता थे, उन्होंने शोषित और शोषक दोनों ही वर्ग के योग से सतनाम पंथ की स्थापना करके सबको एक समान सामाजिक स्तर प्रदान किया, एक घाट मतलब एक ही सामाजिक भोज में शामिल किया।
# 5मुठा धान को बाहरा डोली में पुरोकर बोना : गुरु घासीदास बाबा ने बाहरा डोली में 5मुठा धान को पुरोकर बोया का मतलब कृषि सुधार हेतु रोपा पद्धति का शुरआत किया, कुछ विद्ववान मानते हैं सतनाम (पंच तत्व के ज्ञान) को पूरे मानव समाज में विस्तारित किया।
# गोपाल मरार का नौकर : गुरु घासीदास बाबा को कुछ विरोधी तत्व गोपाल मरार का नौकर मानते हैं जबकि गोपाल मरार उन्हें गुरु मानते थे। हालांकि शुरुआती दिनों में गुरु घासीदास बाबा कृषि सुधार हेतु वैज्ञानिक पद्धति के विकास करने के लिए गोपाल मरार के बारी में अधिक समय देते थे और बहुफसल उत्पादन को लागू कर मरार समाज को प्रशिक्षण देने का काम करते थे।
# अमरता और अमरलोक का सिद्धांत : गुरु घासीदास बाबा द्वारा किसी भी प्रकार से भौतिक रूप से अमरता और अमर लोक या अधमलोक की बात नहीं कहा, उन्होंने नाम की अमरता और अच्छे बुरे सामाजिक व्यवस्था की बात कही जिसे कुछ लोगों द्वारा समाज को गुमराह किया जा रहा है।
गुरू घासीदास बाबा ने पितर-पुजा का विरोध किया।
# जैतखाम को सतनामी मोहल्ले का और निशाना को सतनामी घर का पहचान बताया, स्वेत ध्वज हमें सदैव सत्य के साथ देने और सागी पूर्ण जीवन जीने का संदेश देता है। 

3- गुरु घासीदास बाबा ने जन्म आधारित महानता का विरोध किया, इसके बावजूद समाज मे जन्म आधारित महानता की परंपरा बनाकर समाज में थोपने का प्रयास किया जा रहा है। एक परिवार विशेष में जन्म लेने वाले अबोध शिशु को धर्मगुरु घोषित कर दिया जा रहा है।

4- गुरु घासीदास बाबा और गुरु बालकदास के योगदान को भुलाकर काल्पनिक पात्र को आराध्य बनाया जा रहा है। इतना ही नहीं ऐसे लोगों को भी समाज का आराध्य बताया जा रहा है जो वास्तव में आराध्य होने के लायक नहीं है या समाज में उनका कोई योगदान नहीं रहा है।

5- मनखे-मनखे एक समान : ये एक ऐसा क्रांतिकारी सिद्धांत है जो मानव को मानव बनने का अधिकार देता है। मनखे मनखे एक समान का सिद्धांत मानव के सामाजिक, धार्मिक, शैक्षणिक और आध्यात्मिक विकास और समानता के लिए अत्यंत प्रभावी रहा है।

6- मानव अधिकारों की नींव : सतनाम रावटी के माध्यम से गुरु घासीदास बाबा द्वारा लोगों को बताया गया कि सभी मनुष्य समान हैं, कोई उच्च या नीच नहीं है; प्राकृतिक संसाधनों में भी सभी मनुष्य का बराबर अधिकार है।

7- महिलाओं के मानव अधिकार और स्वाभिमान की रक्षा : गुरु बालकदास के नेतृत्व में महिलाओं के मानव अधिकार और स्वाभिमान की रक्षा के लिए अखाड़ा प्रथा की शुरआत कराया गया। पराय (गैर) स्त्री को माता अथवा बहन मानने की परम्परा की शुरूआत कर स्त्री को विलासिता और भोग की वस्तुएं समझने वाले अमानुष लोगो को सुधरने का रास्ता दिखाया।

8- सामाजिक बुराइयों अंत : गुरु घासीदास बाबा द्वारा समाज मे व्याप्त कुरीतियों और सामाजिक बुराइयों को विरोध करते हुए उसे समाप्त करने का काम किया गया; उन्होंने सामाजिक बुराइयों से मुक्त सतनाम पंथ की स्थापना की थी; परंतु आज जो लोग स्वयं को सतनाम पंथ के मानने वाले प्रचारित करते हैं वे समाज में सैकड़ों सामाजिक बुराइयों को सामाजिक नियम का आत्मा बना दिया है।

9- प्रत्येक जीव के लिए दया और प्रेम : गुरु घासीदास बाबा ने केवल मानव ही नहीं बल्कि अन्य सभी जीव के अच्छे जीवन की बात कही, इसी परिपेक्ष्य में उन्होंने हिंसा, नरबलि, पशुबलि और मांसाहार का विरोध किया था। इसके बावजूद स्वयं को सामाजिक /धार्मिक नेता समझने वाले कुछ लोग मांसाहार के माध्यम से जीव हत्या को बढ़ावा देने का काम कर रहे हैं।


गुरु घासीदास बाबा के योगदान को एक लेख में लिखकर पूर्ण समझना किसी भी लेखक की बेवकूफी पूर्ण सोच होगा; मैंने सांकेतिक रूप से संक्षेप में उनके कुछ योगदान को बताने का असफल प्रयास किया है; मगर अंत मे कुछ सवाल:- 
प्रश्न-1 : गुरु घासीदास बाबा की जयंती या big poster competition?
कुछ सामाजिक कार्यकर्ता/संगठन गुरु घासीदास जयंती के नाम पर चंदा लेकर लाखों रुपए एकत्र करते हैं और गुरु घासीदास बाबा की जयंती के नाम पर सांस्कृतिक कार्यक्रमों के माध्यम से समाज को गुमराह करने का काम करते हैं। गुरु घासीदास के जीवनी, उनके संदेश और उनके योगदान की चर्चा या उल्लेख नही करते बल्कि बड़े बड़े पोस्टर में अपने खुद के या अपने मालिकों के फोटो छपवा लेते हैं। 

प्रश्न-2: सतनामी समाज/सतनाम पंथ में कुरीतियों को फैलाने के लिए जिम्मेदार कौन?
वे जो सतनामी समाज के लोगों का धर्म परिवर्तन कराना चाहते हैं या स्वयं को बडे समाज सेवक अथवा महान साहित्यकार/ग्रंथकार घोषित करना चाहते हैं।

प्रश्न-3: सतनामी समाज मनखे-मनखे एक समान के नीव पर खडा है फिर सतनामी समाज के साथ कुछ दीगर समाज के लोग द्वन्द क्यों कर रहा है?
जो मानवता के घोर विरोधी, अमानवीय और काल्पनिक सिद्धांतों को अपना धर्म समझते हैं उन्हें समानता के सिद्धांत बर्दास्त नही हो सकते, वहीं दूसरी ओर समाज के भीतर कुछ बहिरूपिया लोग भी विद्यमान हैं, जिन्हे सतनामी समाज को दीगर समाज से लडाकर अपने राजनैनिक स्वार्थ सिद्ध करना है अथवा उन्हें दीगर धर्म में शामिल कराना है।

प्रश्न-4: क्या सतनाम धर्म को धर्म का संवैधानिक दर्जा मिलना चाहिए?
हां, मगर वर्तमान में सतनामी समाज में गुरू घासीदास बाबा के मूल अवधारणा के खिलाफ सैकडों कुरीतियां भरी पडी है, जब तक ये सारे कुरीतियां समाप्त नहीं हो जाते सतनाम धर्म को संवैधानिक मान्यता प्रदान करने का कोई औचित्य नही है।

प्रश्न-5: क्या जन्म के आधार पर किसी एक परिवार के लोगों को धर्म गुरू अथवा गुरू मानकर उनका पूजा करना उचित है?
नहीं, क्योंकि जन्म आधारित महानता की अवधारणा पर आधारित जीवन जीना मानसिक गुलामी और मानसिक दिवालियेपन का द्योतक मात्र है, मानवता और समानता के लिए काम करने वाले महापुरूष ही महान हो सकते हैं।

प्रश्न-6: क्या धर्मों का विभाजन मानवता के अनुकूल है?
नहीं, क्योंकि वास्तविक रूप से धर्म अब केवल कल्पना मात्र की वस्तु बन चूकी है। मौजूदा धर्म के कुछ धार्मिक नेता आपस में वर्चस्व की लडाई लडने मशगुल हैं और धर्म को मानवता के खिलाफ एक विनाशकारी शक्ति के रूप में स्थापित कर चूके हैं।

----------------
मै अपने कठोर परन्तु सत्य और तार्किक प्रश्नों व तथ्य को उजागर करने के लिए ऐसे लोगों से माफी चाहता हूं जिनकी आस्था बहुत कमजोर है, जिनके धार्मिक आस्था और विश्वास प्रश्न से डरता है, जिनके आस्था और विश्वास सदैव अतार्किक, अवैज्ञानिक और काल्पनिक रहने में अपनी भलाई समझता है।
आलेख - श्री हुलेश्वर जोशी सतनामी, जिला नारायणपुर
Share:

डाॅ संजीव शुक्ला, डीआईजी कांकेर जिला नारायणपुर का भ्रमण कर जवानों और आम नागरिकों से मिले; थाना बेनुर में शक्ति केन्द्र और बाल मित्र का किया उद्घाटन....

थाना बेनूर में नारी शक्ति केंद्र एवं बाल मित्र केंद्र का शुभारंभ : दिनांक 17:12 2020 को थाना बेनूर का भ्रमण कर पुलिस जवानों को सुरक्षा संबंधी निर्देश दिया गया, शासन की योजना अंतर्गत पुलिसिंग में सुधार एवं महिलाओं एवं बच्चों को थाना आने पर सुरक्षित एवं अच्छा वातावरण उपलब्ध कराने के उद्देश्य से थाना बेनूर में नारी शक्ति केंद्र एवं बाल मित्र केंद्र का शुभारंभ डॉ संजीव शुक्ला डीआईजी एवं डॉ लाल उमेद सिंह प्रभारी पुलिस अधीक्षक नारायणपुर की उपस्थिति में क्षेत्र के महिलाओं एवं बच्चों के द्वारा कराया गया इस दौरान आसपास क्षेत्र के करीबन 150 महिला पुरुष एवं बच्चे उपस्थित थे। नारी शक्ति केंद्र में महिलाओं के लिए बैठने की उपयुक्त व्यवस्था की गई है महिला डेस्क के महिला पुलिस द्वारा महिलाओं की समस्या सुनेंगे तथा उनकी समस्याओं का निराकरण करेंगे उसी प्रकार बाल मित्र केंद्र में रिपोर्ट करने आने वाली महिलाओं के बच्चों को पुलिस थाना में घर जैसा अच्छा माहौल देने के उद्देश्य से उनके बैठने व मनोरंजन हेतु कैरम, बेटबॉल फुटबॉल एवं खिलौने आदि की व्यवस्था की गई है। थाना नारायणपुर एवं छोटेडोंगर  में नारी शक्ति केंद्र एवं बालमित्र का सञ्चालन कर महिलाओं एवं बच्चों को सुविधा प्रदान किया जा रहा है।  उद्धघाटन के दौरान श्री जयंत वैष्णव अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक, श्री नीरज चंद्राकर अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक, श्री अनुज कुमार अनुविभागीय पुलिस अधिकारी, सुश्री उन्नति ठाकुर उप पुलिस अधीक्षक एवं श्री दीपक साव , रक्षित निरीक्षक उपस्थित रहे। 

थाना कुरूषनार के सरहदी ग्राम अरशगढ़ और कंदाडी का भ्रमण और ग्रामीणों की मीटिंग : श्रीमान पुलिस उप महानिरीक्षक, डॉ0 श्री संजीव शुक्ला महोदय, श्रीमान पुलिस अधीक्षक श्री लाल उमेंद सिंह महोदय, अति0 पुलिस अधीक्षक श्री नीरज चंद्राकर महोदय, श्रीमान SDOP श्री अनुज कुमार महोदय, एवम् श्रीमान रक्षित निरीक्षक श्री दीपक साव महोदय, नारायणपुर की उपस्थिति में थाना कुरूषनार मे दिनांक 14/12/2020 को समय 14:30 बजे सरहदी ग्राम अरशगढ़ और कंदाडी के 60-70 की संख्या में उपस्थित ग्रामवासियों की बैठक लिया गया जिसमे उपस्थित श्रीमान वरिष्ठ अधिकारीगण द्वारा शासन के विभिन्न योजनाओं और उससे लाभ उत्सर्जन एवम् वर्तमान में घटित अपराध जैसे महिला संबंधी अपराध, Cyber Crime, Human Trafficking, चिटफंड व अन्य अपराध के संबंध में बताकर सतर्क व जागरूक रहने निर्देश दिया गया। समाज की मुख्य धारा में जुड़ने और क्षेत्र में शांति व्यवस्था बनाए रखने अपील किया गया। ग्रामवासियों के समस्याओ के संबंध में जानकारी ली गई जिसमे सौर ऊर्जा के नए कने्शन का साल भर से सामान मिलने के बाद भी कनेक्शन नहीं किया गया, सड़क व पुलिया के विकास कार्य, नरेगा योजना से साल भर देरी से मजदूरी मिलना, थाने के सामने स्थित क्रिकेट ग्राउंड के विस्तार हेतु गुजारिश किया गया है। जिससे श्रीमान वरिष्ठ अधिकारीगण द्वारा मौके पर समस्याओं का हल किया गया। श्रीमान वरिष्ठ अधिकारीगण के निर्देशानुसार पुलिस और ग्रामवासियों के बीच मधुर संबंध बनाए रखने एवम् जनता को जागरूक करने भविष्य में निरंतर जनसभा कर ऐसे जागरूकता कार्यक्रम किए जाएंगे। इस जनसभा में सरहदी ग्राम अरशगढ और कंदाडी के ग्रामवासी और श्रीमान वरिष्ठ अधिकारीगण एवम् थाना कुरुसनार के अधिकारी/कर्मचारी उपस्थित रहे।

Related Images : 

Share:

विस्फोट : Blast of Fear (Short Film)

विस्फोट : Blast of Fear - बस्तर के नक्सल-प्रभावित इलाकों में नक्सलियों द्वारा आम जनता को प्रताड़ित करने वाली घटनाओं को वीडियो के माध्यम से प्रदर्शित करने का नारायणपुर पुलिस का एक प्रयास।



Share:

विकास : Need of Development (Short Film)

विकास  : Need of Development - बस्तर के नक्सल-प्रभावित इलाकों में नक्सलियों द्वारा आम जनता को प्रताड़ित करने वाली घटनाओं को वीडियो के माध्यम से प्रदर्शित करने का नारायणपुर पुलिस का एक प्रयास।



Share:

जिला कलेक्टर और पुलिस अधीक्षक ने किया शांत सरोवर का अवलोकन, जाहिर किया प्रशन्नता ........ जानिए कहाँ है पिकनिक स्पॉट शांत सरोवर?

आज दिनांक 28.11.2020 को जिला कलेक्टर श्री अभिजीत सिंह और पुलिस अधीक्षक श्री मोहित गर्ग ने किया शांत सरोवर का निरीक्षण किया। इस दौरान केरलापाल, खडकागांव और खैराभाट के सरपंच, सचिव और स्थानीय जनप्रतिनिधि सहित सैंकडो ग्रामीण महिला-पुरुष उपस्थित रहे। उल्लेखनीय है कि शांत सरोवर नारायणपुर जिला मुख्यालय से लगभग ७ किलोमीटर दूर खैराभाट नामक गांव में बना है जिसे लम्बे दिनों से बिजली डेम के नाम से जाना जाता रहा है, हाल ही में ग्रामीणों द्वारा इसका नाम शांत सरोवर सुझाया गया है। 

करूणा फाउंडेशन और पुलिस जवानों द्वारा शांत सरोवर के सौन्दर्यीकरण के लिए किये जा रहे श्रमदान का कलेक्टर श्री सिंह द्वारा प्रशंसा किया गया। उन्होने कहा कि करूणा फाउंडेशन और पुलिस के जवानों का कार्य अत्यंत सराहनीय है इनके कार्यों से जहां एक ओर पर्यटन को बढ़ावा मिलेगा वहीं युवाओं को प्रेरणा और स्थानीय लोगों के लिए रोजगार के अवसर भी खुलेंगे। श्री सिंह द्वारा शांत सरोवर में पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए अनेको सुझाव दिया गया और आर्थिक सहयोग की सहमति भी दी गई। आसपास के पंचायत प्रतिनिधियों द्वारा अपने पंचायत और क्षेत्र की विकास हेतु जिला कलेक्टर से कुछ विशेष मांग की गई, जिला कलेक्टर द्वारा संबंधित विभागों द्वारा मांग पूरी करने हेतु निर्देशित किया गया। 

करूणा फाउंडेशन टीम के फाइटर्स और रक्षित निरीक्षक श्री दीपक साव के नेतृत्व में पुलिस के जवानों के द्वारा शांत सरोवर में श्रमदान के माध्यम से रोड का निर्माण, साज-सज्जा और पेंटिग्स की गई तथा सेल्फी पाॅइंट का भी निर्माण किया गया है। नगर सेना के टीम द्वारा कलेक्टर और पुलिस अधीक्षक सहित स्थानीय लोगों को बोटिंग कराते हुए बोटिंग की संभावना तलासने का प्रयास किया गया, ताकि बोटिंग के माध्यम से भी लोगों को रोजगार मिल सके।

Related Images:












Share:

दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं ...... आपके जीवन मंगलमय हो

आदरणीय/आदरणीया
दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं ......

मैं हुलेश्वर जोशी आपके, आपके परिवार और आपके स्वजनों के  उज्जवल जीवन की कामना करता हूँ।  

महोदय/महोदया, दीपावली केवल बड़े बड़े फटाके फोड़कर पर्यावरण को प्रदूषित करने का प्रतियोगिता मात्र नहीं बल्कि अपने आसपास के लोगों के जीवन में खुशहाली लाने, उनके जीवन को प्रकाशमान करने तथा उनके हर सुख दुख और जरूरत में साथी होने का अवसर और प्रतिज्ञा है। आइए इस दीपावली में एक संकल्प लें कि हम समस्त मानव समुदाय को जाति, वर्ण, धर्म और सीमा के बंधन से मुक्त होकर अपना परिवार मानेंगे और उनके साथ भाईचारे और सद्भावना पूर्ण रिश्ते बरकरार रखेंगे ....

हुलेश्वर जोशी  #औराबाबा #जोगीबाबा

Share:

श्री मोहित गर्ग, पुलिस अधीक्षक के नेतृत्व में नारायणपुर पुलिस के कुछ चूनिंदा उपलब्धियां

श्री मोहित गर्ग, पुलिस अधीक्षक के नेतृत्व में नारायणपुर पुलिस के कुछ चूनिंदा उपलब्धियां

श्री मोहित गर्ग 27 फरवरी 2019 को नक्सल प्रभावित जिला नारायणपुर में पदभार ग्रहण किये उसके बाद से श्री गर्ग के नेतृत्व में जिला पुलिस बल का प्रबंधन, नक्सल हिंसा कमी और आम नागरिकों और पुलिस के बीच बेहतर संबंध स्थापित हुए हैं। श्री गर्ग अत्यंत सहृदयी पुलिस अधिकारी हैं जो अपने पदीय दायित्वों के निर्वहन में संवैधानिक और कानूनी दायरे के अंतर्गत रहते हुए मावनीय आधार पर कार्य करने के पक्षधर हैं। उनका मानना है कि आदेश जारी करने मात्र से या कठोरतापूर्ण रवैया अपनाने मात्र से नही वरन् व्यवहारिक दृश्टिकोण से कार्य करने से ही बेहतर परिणाम प्राप्त की जा सकती है। श्री गर्ग द्वारा हाल ही में लम्बे दिनों से एक ही स्थान पर तैनात रहने वाले 222 पुलिस अधिकारियों की पदस्थापना आदेश जारी किया गया, इस स्थानांतरण आदेश की सबसे खास बात यह कि श्री गर्ग द्वारा महिला पुलिस अधिकारियों को उनके सहमति के आधार पर पदस्थापना दी गई है। संभवतः पूरे दूनिया के इतिहास में यह पहली बार ऐसा हुआ हो कि महिला पुलिस अधिकारियों को उनके मनचाहे स्थान और कार्य पर पदस्थापना दी गई हो। आरक्षक और प्रधान आरक्षक स्तर के इन महिला पुलिस अधिकारी में अधिकतर पुलिस अधिकारी गर्भवती, नवजात शिशूओं और छोटे-छोटे बच्चों की मां, शहीद की पत्नी अथवा विधवा हैं। इन महिला पुलिस अधिकारियों को श्री गर्ग के निर्देशन में कार्यालयीन कार्य में निपूर्ण करने के लिए विभागीय रूप से निःशूल्क कम्प्यूटर प्रषिक्षण दिया जा रहा है तथा कार्यालयीन कार्य भी सीखाया जा रहा है। 
मजबूत पुलिस - विश्वसनीय पुलिस - नारायणपुर पुलिस
श्री गर्ग के नेतृत्व में जिला नारायणपुर 03 पुलिस थाना/कैम्प (सोनपुर-थाना, कोहकामेटा-थाना, कडेमेटा-कैम्प) का उद्घाटन कराया गया है जो नक्सल मुक्त जिला के लिए कार्य करने में अपना योगदान दे रहे हैं। साथ ही अनुसूचित जाति/जनजाति के विरूद्ध होने वाले अपराधों में नियंत्रण-रोकथाम और प्रभावी कार्यवाही हेतु अजाक थाना भी खोले गये हैं जबकि महिलाओं को घरेलू हिंसा और प्रताडना से बचाने और इस संबंध में महिलाओं को समूचित मार्गदर्शन देने के लिए विषेश महिला परामर्श केन्द्र भी खाले गये हैं। माड मैराथन और खेलो इंडिया के तहत् खेलों का आयोजन, मलखम्ब-खेल हेतु प्रशिक्षण का संचालन, स्टूडेंट पुलिस कैडेट, ‘‘सुना गोठ’’ अबुझमाड के संगवारी (हल्बी, गोण्डी और छत्तीसगढ़ी बोली में) एल्बम और ‘‘एक्सप्लोरिंग अबुझमाड’’ - द लार्जेस्ट अनसर्वेड एरिया आफ इंडिया नामक डाक्यूमेंट्री का विमोचन भी इनके कुछ उल्लेखनीय कार्य है।

Related Some Images :


























Share:

घर बैठै सीखें कम्प्यूटर : Basic Computer Education for Beginners

घर बैठै सीखें कम्प्यूटर : Basic Computer Education for Beginners - Source Youtube  

ऐसे छात्र, व्यक्ति अथवा कर्मचारी जो घर में ही कम्प्यूटर की बेसिक एजूकेशन प्राप्त करना चाहते हैं उनके लिए यह पेज अत्यंत उपयोगी साबित होगा, यह पेज ज्ञानयज्ञ यूट्यूब चैनल के विडियो लिंक पर आधारित है। यदि इस पेज में सीधे विडियो न चले तो विडियो के नीचे लिखे गये नाम जो अंडरलाईन किये गये हैं में क्लिक करें ताकि यूट्यूब में जाकर पूरा प्ले-लिस्ट देखा जा सके। हमारा उद्देश्य केवल लोगों में कम्प्यूटर साक्षरता को बढ़ाना मात्र है।

Computer Basic information in Hindi ( What is Computer,Types & Parts of Computers )


Share:

राज्य स्थापना दिवस पर नारायणपुर पुलिस की विशेष पहल: ‘‘सुना गोठ’’ - अबुझमाड के संगवारी और ‘‘एक्सप्लोरिंग अबुझमाड’’ - द लार्जेस्ट अनसर्वेड एरिया आफ इंडिया का विमोचन, नक्सलमुक्त और वैश्विक पर्यटन की ओर अग्रसर अबुझमाड

राज्य स्थापना दिवस पर नारायणपुर पुलिस की विशेष पहल: ‘‘सुना गोठ’’ - अबुझमाड के संगवारी और ‘‘एक्सप्लोरिंग अबुझमाड’’ - द लार्जेस्ट अनसर्वेड एरिया आफ इंडिया का विमोचन, नक्सलमुक्त और वैश्विक पर्यटन की ओर अग्रसर अबुझमाड

कोरोना फाईटर्स का सम्मान:- नारायणपुर जिला में कोरोना संक्रमण के प्रभाव को कम करने में महत्वपूर्ण योगदान निभाने वाले नारायपुर पुलिस और करूणा फाउण्डेशन को श्री चंदन कश्यप, माननीय विधायक, नारायणपुर द्वारा अवार्ड प्रदान किया गया। यह सम्मान श्री अधिकारी ब्रदर्स इंटरप्राईजेज के द्वारा गवर्नेंश नाव के तहत् इंडिया पुलिस अवार्ड 2020 के रूप में दी गई है। करूणा फाउण्डेशन में नारायपुर शहर के गणमान्य नागरिक और युवा जुडे हुए हैं, सबसे खास बात यह है कि करूणा फाउण्डेशन ने कोरोना महामारी से निपटने के लिए अपना महत्वपूर्ण योगदान दिया है। उल्लेखनीय है कि अत्यंत सीमित संसाधनों के बावजूद कोरोना महामारी के खिलाफ अत्यंत सजगता से लडते हुए महामारी के प्रभाव को कम करने में सफल होने के फलस्वरूप हाल ही में नारायणपुर पुलिस को स्काॅच आर्डर आफ मेरिट के तहत् दिनांक 30/09/2020 को अखिल भारतीय स्तर पर SKOCH Award से सम्मानित किया गया है। 



‘‘सुना गोठ’’ - अबुझमाड के संगवारी, एल्बम का विमोचन:- राज्योत्सव के उपलक्ष्य में श्री मोहित गर्ग, पुलिस अधीक्षक के निर्देशन में तैयार ‘‘सुना गोठ’’ - अबुझमाड के संगवारी एल्बम का विमोचन श्री चंदन कश्यप, माननीय विधायक, नारायणपुर द्वारा किया गया। यह एल्बम नारायपुर पुलिस के जवानों और राकेट डांस क्रु द्वारा संयुक्त रूप से तैयार किया गया है इस एल्बम के गाने हल्बी, गोंडी और छत्तीसगढ़ी बोली में रिकार्ड किये गये हैं। सुना गोठ आडियो एल्बम में कुल 05 गाने हैं ये गीत (01) करा समर्पण - हल्बी में (02) सुना काय दादा दीदी - हल्बी में (03) प्रशासन करे दे सुरक्षा - हल्बी में (04) वाय निमा वाय बाबा - गोंडी में और (05) बस्तर के माटी महान - छत्तीसगढी में रिकार्डेड है। उल्लेखनीय है कि ‘‘करा समर्पण’’ हल्बी गीत का विडियो वर्जन अभी हाल ही में रिलिज किया गया है, शेष गाने का विडियो वर्जन की रिकार्डिग चल रही है।

नारायणपुर पुलिस नक्सलवाद की खात्मा के लिए शांति, प्रेम, भाईचारा के साथ हल्बी, गोंडी और छत्तीसगढ़ी गीत के साथ डाक्यूमेंट्री के माध्यम से उन्हें समाज की मुख्यधारा में जोडने के लिए अपना सराहनीय प्रयास कर रहा है। नारायपुर के पुलिस अधीक्षक श्री मोहित गर्ग इसमें स्वयं व्यक्तिगत रूप से अपना सक्रिय भूमिका अदा कर रहे हैं, इस कार्य में उनके साथ पुलिस के जवान और स्थानीय युवा अपने जिम्मेदारियों का बखुबी निर्वहन कर रहे हैं। श्री गर्ग का मानना है कि नक्सलवाद के खात्मा के लिए जहां पुलिस बल और सशस्त्र बल के जवानों की भूमिका अत्यंत महत्वपूर्ण है वहीं नक्सलियों के सोये हुए आत्मा को जगाने के लिए उनमें सोचने समझने की शक्ति की संचार करना भी आवश्यक है इसलिए गीतों और डाक्यूमेंट्री के माध्यम से जागरूकता लाने का प्रयास किया जा रहा है। जिला पुलिस के कुछ जवान अपने ड्यिूटी के अतिरिक्त समय में गीत, शार्ट फिल्म और डाक्यूमेंट्री तैयार करने का काम कर रहे है।






‘‘एक्सप्लोरिंग अबुझमाड’’ - द लार्जेस्ट अनसर्वेड एरिया आफ इंडिया का विमोचन:- राज्योत्सव के उपलक्ष्य में सुश्री जागृति डी के निर्देशन और श्री मोहित गर्ग, पुलिस अधीक्षक नारायणपुर के संकल्पना में तैयार डाक्यूमेंट्री ‘‘एक्सप्लोरिंग अबुझमाड’’ - द लार्जेस्ट अनसर्वेड एरिया आफ इंडिया का विमोचन श्री चंदन कश्यप, माननीय विधायक, नारायणपुर द्वारा किया गया। इस डाक्यूमेंट्री के माध्यम से जनजातीय जीवन के सुंदरता जिसमें खासकर मारिया, मुरिया, गोड और हल्बा के परम्पराओं, संस्कृति और नैतिक मूल्यों को बखुबी से दिखाया गया है। इसके अंतर्गत जहां एक ओर नारायणपुर में लगने वाले हाट बाजार, मुर्गा लडाई और यहां के आम जन जीवन पर आधारित स्कील्स को दिखाया गया है तो वहीं नक्सल अभियान में तैनात जवानों के कार्य पद्धिति और दिनचर्या को भी दिखाने का प्रयास किया गया है। बस्तर संभाग में अपने औषधी गुणों के लिए प्रचलित खाद्य एवं पेय पदार्थ जैसे चापडा चटनी और सल्फी ताडी को भी दिखाया गया है। पुलिस प्रशासन के विशेष योगदान से नारायणपुर अब उन्नत और विकसित हो रहा है, कुछ दशकों पूर्व सडक, स्कूल और स्वास्थ्य के मामले में सबसे पिछडा नारायणपुर अब अपने प्राकृतिक सौन्दर्य, सैकडों पर्वत श्रृंखला, नदियों और दर्जनों झरना को पर्यटन के स्वरूप को विश्व पटल में ख्याति दिलाने तथा पर्यटकों को भयमुक्त माहौल देने की ओर अग्रसर है, यह डाक्यूमेंट्री ट्रेवलिंग गाईड के रूप में भी तैयार किया गया है। 

डाक्यूमेंट्री के माध्यम से अबुझमाड के बालकों और युवाओं के सर्वांगीण विकास के लिए दृढ़ संकल्पित और कार्यरत् संस्था विवेकानंद आश्रम के प्रयास और सफलताओं को भी दिखाया गया है, उल्लेखनीय है कि यह संस्था अबुझमाड के बालकों और युवाओं को निःशूल्क शिक्षा और स्कील्स देने के साथ ही अखिल भारतीय स्तर पर युवाओं को खेल में परचम लहराने में योगदान दे रही है। 




Share:


सबसे अधिक बार पढ़ा गया लेख


यह वेबसाइट /ब्लॉग भारतीय संविधान की अनुच्छेद १९ (१) क - अभिव्यक्ति की आजादी के तहत सोशल मीडिया के रूप में तैयार की गयी है।
यह वेबसाईड एक ब्लाॅग है, इसे समाचार आधारित वेबपोर्टल न समझें।
इस ब्लाॅग में कोई भी लेखक/कवि/व्यक्ति अपनी मौलिक रचना और किताब निःशुल्क प्रकाशित करवा सकता है। इस ब्लाॅग के माध्यम से हम शैक्षणिक, समाजिक और धार्मिक जागरूकता लाने तथा वैज्ञानिक सोच विकसित करने के लिए प्रयासरत् हैं। लेखनीय और संपादकीय त्रूटियों के लिए मै क्षमाप्रार्थी हूं। - श्रीमती विधि हुलेश्वर जोशी

प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कैसे करें?

Blog Archive