Friday, January 10, 2020

अधिकारियों/स्टाफ की पदोन्नति एवं समयमान वेतनमान स्वीकृति के कार्यों को प्राथमिकता से पूर्ण कराया जावे - श्री जी.पी. सिंह, एडीजी

एडीजी श्री जी.पी. सिंह, नें लोक अभियोजन संचालनालय में अभियोजन अधिकारियों की मीटिंग ली 

न्याय प्रणाली में लोक अभियोजन अधिकारियों की महत्वपूर्ण भूमिका होती है - श्री जी.पी. सिंह, एडीजी 

अधिकारियों/स्टाफ की पदोन्नति एवं समयमान वेतनमान स्वीकृति के कार्यों को प्राथमिकता से पूर्ण कराया जावे - श्री जी.पी. सिंह, एडीजी 

आज दिनांक 10.01.2019 को श्री जी. पी. सिंह, अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक, ईओडब्ल्यू/एसीबी एवं संचालक, लोक अभियोजन द्वारा इन्द्रावती भवन, नवा रायपुर स्थित लोक अभियोजन संचालनालय में अभियोजन अधिकारियों की मीटिंग ली गई। इस मीटिंग में लोक अभियोजन संचालनालय के अधिकारियों के अलावा राज्य के विभिन्न जिलों में पदस्थ उप संचालक-अभियोजन, संयुक्त संचालक, जिला अभियोजन अधिकारी एवं सहायक जिला अभियोेजन अधिकारी उपस्थित रहे। समीक्षा बैठक में श्री जी. पी. सिंह ने उपस्थित अभियोजन अधिकारियों को संबोधित करते हुए निर्देशित किया कि:- 
न्याय प्रणाली में लोक अभियोजन अधिकारियों की महत्वपूर्ण भूमिका होती है, अतएव प्रत्येक अभियोजन अधिकारी अपने पदजनित दायित्वों का निर्वहन उत्साह व निष्ठा से संपादित करें। 
माननीय सर्वोच्च न्यायालय द्वारा गुजरात राज्य विरूद्ध किसन लाल एवं अन्य में दिनांक 7.1.2014 को पारित निर्णय में, दोषमुक्ति के प्रकरणों की समीक्षा कर यथोचित कार्यवाही करने के निर्देश दिये गये हैं, जिसका पालन सुनिश्चित करें।
प्रभा साहू विरूद्ध छ.ग.शासन में माननीय उच्च न्यायालय, बिलासपुर द्वारा पारित दिशा-निर्देशों के तहत शासकीय अभिभाषक से समय-सीमा में ऐसे प्रकरणों की जानकारी अनिवार्य रूप से प्राप्त की जावे, जिसमें शासन की ओर से अपील न किया गया हो तथा उसकी समीक्षा कर यथोचित कार्यवाही सुनिष्चित करें।
तिजउ राम कंवर विरूद्ध छ.ग.शासन में माननीय उच्च न्याायालय, बिलासपुर द्वारा दिये गये दिशा-निर्देशों के अनुसार ब्रीफों का संधारण सुनिश्चित करें तथा संबंधित प्रकरणों के निराकरण उपरांत ब्रीफों के नष्टीकरण हेतु समय-सीमा का निर्धारण शासन को प्रस्तावित करें।
सत्र न्यायालय में पैरवी के लिये उप संचालक-अभियोजन को अतिरिक्त लोक अभियोजक घोषित किया गया है, अतएव संबंधित जिला कलेक्टर से संपर्क कर सत्र न्यायालय का आबंटन सुनिश्चित करावें।
अपने प्रभार के न्यायालयों में पारित निर्णयों की प्रतिलिपि अविलम्ब प्राप्त करें, उसकी समीक्षा करें तथा आवश्यकतानुसार उस पर विधिसम्मत अग्रिम कार्यवाही सुनिश्चित करावें। 
सभी स्टेक होल्डर विभागों से यथोचित तालमेल बनाकर रखें, ताकि कार्य संपादन में सुगमता हो।
जिला मुख्यालयों में अभियोजन कार्यालयों के निर्माण के लिये जिला कलेक्टर एवं डिस्ट्रिक्ट जज से संपर्क कर जमीन का आबंटन करावें, ताकि शासन स्तर पर भवन निर्माण हेतु यथोचित पहल की जा सके।
इसी तरह व्यावसायिक दक्षता में सुधार के लिये समय-समय पर प्रशिक्षण एवं कार्यशालाओं का आयोजन कराया जावे, जिसमें ज्यूडिसरी के अधिकारियों एवं विषय विशेषज्ञों को आहूत कर अभियोजन अधिकारियों को प्रशिक्षित करायें। 
अपने अधीनस्थ अधिकारियों पर यथोचित निगाह एवं नियंत्रण रखें। उनके कार्य की गुणवत्ता में सुधार के लिये उनके कार्यों की लगातार समीक्षा करें एवं आवश्यकतानुसार उनका समुचित मार्गदर्शन करें। 
अधीनस्थों के कार्यों की सतत मानीटरिंग के लिये यह आवश्यक है कि पर्यवेक्षणीय अधिकारी अपने अधीनस्थ कार्यालयों का समयानुसार निरीक्षण करें। अतिरिक्त संचालक- अभियोजन इस हेतु एकजाई निरीक्षण रोस्टर जारी करें।
अधिकारियों/स्टाफ की पदोन्नति एवं समयमान वेतनमान स्वीकृति के कार्यों को प्राथमिकता से पूर्ण कराया जावे।

Related Images



Share:

Saturday, January 04, 2020

एडीजी श्री जीपी सिंह ने माननीय मुख्यमंत्री से मिलकर नये साल की बधाई दी

एडीजी श्री जीपी सिंह ने माननीय मुख्यमंत्री से मिलकर नये साल की बधाई दी

आज दिनांक 04/01/2020 को आईपीएस एसोसिएशन के अधिकारियों ने माननीय मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल से मिलकर नये साल की बधाई दी। इस दौरान श्री डीएम अवस्थी, पुलिस महानिदेशक, श्री जीपी सिंह, अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक, ईओडब्ल्यू/एसीबी रायपुर, श्री आनंद छाबडा, आईजी रायपुर, श्री सुन्दरराज पी, डीआईजी बस्तर, श्री शेख आरिफ हुसैन, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक, रायपुर एवं श्रीमती पारूल माथूर, पुलिस अधीक्षक जांजगीर चाम्पा सहित अन्य आईपीएस अधिकारी उपस्थित रहे। माननीय मुख्यमंत्री ने पुलिस अधिकारियों के कार्य की सराहना करते हुए बेहतर पुलिसिंग के लिए कार्य करने के लिए अपनी शुभकामना दी।
Share:

Tuesday, December 31, 2019

नया साल 2020, आपके सुख, समृद्धि और सफलता के लिए हो : हुलेश्वर जोशी

नया साल 2020, आपके सुख, समृद्धि और सफलता के लिए हो : हुलेश्वर जोशी

आदरणीय/ आदरणीया

पिछले वर्षों में आपने अपने जीवन के साथ सुख, समृद्धि, शांति, स्वास्थ्य, उन्नति, सफलता, बंधुत्व और शांति प्राप्त करने के तरीकों को जान लिया है। कतिपय मामलों में कुछ शेष हो तब भी कोई बात नही, क्योंकि जीवन पर्यंत मनुष्य को सीखने का अवसर प्राप्त होता रहता है। इसलिए हम अपेक्षा करते हैं कि आपके जीवन मे आने वाले सभी चुनौतियों का आप तठस्थ होकर सामना करेंगे और बिना रुके, बिना हारे सफलता को हासिल कर लेंगे, कतिपय मामलों में पराजय को भी शिक्षा का एक अध्याय जानकर स्वीकार लेंगे मगर दुखी नही होंगे। इसी कामनाओं के साथ नया साल 2020 के लिए आपको शुभकामनाएं, आप जीवन पर्यंत खुश रहें और उन्नति करें।

एतद्द्वारा मैं आपके उज्जवल भविष्य की कामना करता हूं।

भवदीय
(हुलेश्वर जोशी)
नवा रायपुर, अटल नगर, छत्तीसगढ़

-------------------------------------------------------

नए साल के लिए मेरे द्वारा लिखे कविता शीर्षक "नये साल, नव संकल्प हमारा" को आपके लिए सादर प्रस्तुत करता हूँ।

नये साल, नव संकल्प हमारा
"मानवता ही धर्म" के सिद्धांत को अपनाएंगे।
सहपाठी सब, भाई बहन हैं
अनवरत, रक्षा का धर्म निभाएंगे।।
न, जाति-धर्म की होंगी बन्धन
"मनखे-मनखे एक समान" हो जाएंगे।।।
राष्ट्रीय सुरक्षा, और गरिमा के लिए
न्यौछावर, प्राण कर जाएंगे।।।।
नये साल ...........

भ्रूण हत्या, भेदभाव के खिलाफ
एक नया, मुहिम चलाएंगे।
"जम्मो जीव हे भाई बरोबर"को धर्म, अपना बनाएंगे।।
स्वर्ग की कल्पना, साकार करने
सत्य, अहिंसा को अपनाएंगे।।।
शाकाहार, आयुर्वेद के लिए
हम 10-10 पेड़ लगाएंगे।।।।
नये साल ...........



Share:

Saturday, December 21, 2019

अंधभक्ति और कुरीतियों की शुरुआत कैसे होती है? - काल्पनिक स्वप्न पर आधारित लेख - एचपी जोशी

अंधभक्ति और कुरीतियों की शुरुआत कैसे होती है? - काल्पनिक स्वप्न पर आधारित लेख - एच पी जोशी

आइए अंधभक्ति और कुरीतियों की शुरुआत कैसे हुई थी इसे समझने के लिए मेरे पिछले जन्म की एक काल्पनिक कहानी पढ़ते हैं ताकि हमें समझ में आ सके कि किसी भी देश, धर्म अथवा समाज में किस तरह से अंधभक्ति और कुरीतियों की शुरुआत होती है।

पिछले कुछ जन्म पहले की बात है, मुझे उस जनम में खैरात की खाने की आदत थी। बड़ा गणितज्ञ जैसे आदमी था, बड़ा कुटिल बुद्धि वाला व्यक्ति था। मैं अपने आदत के अनुसार महीने में कम से कम 05 लोगों के साथ जरूर ठगी करता ताकि बड़े मज़े से मेरा जीवन चलता रहे।

पूस की माह थी, तिथि ठीक से याद नहीं आ रही है। तब अंग्रेजी कैलेंडर भी नहीं आया था। प्रातः लगभग 4बजे की बात है देखा कोहरा छाया हुआ था और आशंका थी कि कोहरा अभी और अधिक घना होने वाला था। मैंने गणित लगाया अपने लोगों रिश्तेदारों से कहा आप या तो मेरे बातों से सहमत होना या बैठक में मत आना। मैं एक महान गणित का रचना कर चूका हूं, प्रेक्टिकल करना है मुझे। सभी मेरे बात मान गए, मैंने "कचरू" हाका वाले को तत्काल बुलवाया, वह दौड़ता हुआ आया।

मैंने अपने कबिले सहित पास के 7कबिले वाले बड़े बुजुर्ग, पुरुषों, महिलाओं और बच्चों को एकत्र होने के लिए हाका लगवाया। सुबह के 7बजे के पहले ही मेरा सभा शुरू हो गया लगभग 25 कोरी से अधिक वयस्क सहित 40 कोरी लोग एकत्र हो गए।

सभा में गणित के सूत्र फिट ही कर रहा था कि पता चला घना कोहरा हटने वाला है मैंने सूत्र और कठिन करने के बजाय थोड़ी जल्दबाजी से काम लिया, बोला "अब जो मैं आप लोगों को बताने जा रहा हूं बड़ी धैर्य से बड़ी निष्ठा और विश्वास से सुनना और मानना, कहीं कोई चालाकी या अविश्वास नहीं करना आपकी अविश्वास पूरे धरती को काल के आगोश में डूबो सकती है। इसलिए सावधान रहना और पूरे ईमानदारी से ईश्वर से प्रार्थना करना कि वह हमारी मातृभूमि की, हमारी धरती की रक्षा करे। एक भी व्यक्ति का अविश्वास हमें सदा सदा के लिए समाप्त कर देगी। इसलिए सावधान रहना, कोई गणित बनाने की प्रयास मत करना।"

सबने हामी भरी! कोई पापी ही स्वरानंद पापोनाष्क महराज के आदेश का अवहेलना करेगा।

मैंने बताया अभी रात के तीसरे पहर में ही एक दिव्य विमान आया, जिसमें दिव्य पुरुष और स्त्रियां थी, स्वेत वस्त्र में साक्षात् चंद्रमा जैसे तेजस्वी दिखने वाली देवी ने मुझे कहा है कि "तुम अभी सूरज के सिर पर चढ़ने के पहले ही सभी मनुष्य को धर्म, कर्म और दान का संकल्प लेने के लिए मना लो, प्रकृति की रक्षा और पंचतत्व को ईश्वर मानने पर राजी कर लो नहीं तो आज सायं तो होगी, रात भी होगी मगर रात के ठीक तीसरे पहर के बाद दूसरा घड़ी नहीं होगी, पूरी धरती एक अंधकार में समा जाएगी, सूर्य चंद्रमा उगना बंद हो जाएंगे, हवा बर्फ बनकर जम जाएगी, पानी जहर में बदल जाएगी और धरती अस्थिर हो जाएगी।" उन्होंने धर्म, कर्म और दान के तरीके भी बताए हैं, यदि आप सभी चाहते हैं कि हम सब आज रात तीसरे पहर के बाद भी जीवित और सुरक्षित रहें, तो उनके बताए इस तीन संकल्प को दोहराना होगा। बताओ? सहमत हो!

एक स्वर में सभी ने सहमति दी और मेरा जय जयकार करने के साथ ही सबने मुझसे कृपा करने की प्रार्थना शुरू कर दी। कुछ विद्वानों ने तो मुझे साक्षात् ईश्वर का अवतार घोषित कर दिया।

मैंने 03 संकल्प दोहराने के लिए आदेश दिया और बताया कि ये तीनों संकल्प सच्चे मन से लेने से जल्दी ही धरती अपने सामान्य स्थिति में आ जाएगी और हम धरती, सूर्य, चंद्रमा, जल, वायु और अपने जीवन को बचाने में सफल हो जाएंगे, आप सबमें यदि कोई 10 व्यक्ति भी सच्चे मन से संकल्प नहीं लेगा तो हम कल की सूर्योदय नहीं देख पाएंगे। ऐसा कठोर धमकी दिया और पुनः आदेश दिया, चलो जल्दी से अपना अपना आंखें बंद करो और संकल्प दोहराएं :-
1- मैं सूर्य और चंद्रमा को साक्षी मानकर संकल्प लेता हूं, कि मैं सदैव धर्म, कर्म और दान के लिए अपने प्राणों की आहुति देने तक समर्पित रहूंगा/रहूंगी।
2- मैं अमृत रूपी जल, आत्मा रूपी वायु और स्वर्ग रूपी अगास को साक्षी मानकर संकल्प लेता हूं कि मैं स्वरानंद पापोनाष्क महराज के आदेशों का किसी भी शर्त में अवहेलना नहीं करूंगा, यदि ऐसा करूं तो नरक का भागी होऊं।
3- मैं अपनी माता और जन्मभूमि को साक्षी मानकर संकल्प लेता हूं कि यदि मैं भगवान के इच्छा के खिलाफ नहीं जाऊंगा और सच्चे मन, वचन और कर्म से भगवान स्वरानंद पापोनाष्क महराज के सेवा के लिए समर्पित रहूंगा। यदि ऐसा किया तो मुझे अगले जनम कीड़े मकोड़े के मिले।

सभी ने संकल्प दोहराया, अब संकल्प दोहराने के साथ ही मैं अपने काबिले के भगवान हो चुका था। संकल्प पूरा हुआ ही था, कि मेरा पुत्र तत्वम मुझे जगाने लगा और मुझसे खाने के लिए संतरा मांगने लगा।

जागकर देखा मैं अपने बेडरूम में ही सोया हुआ था, यहां कोई सभा नहीं था, मैं किसी कबिले का भगवान नहीं था, कोई आसपास के गांव के लोग नहीं आए थे। स्वप्न में संकल्प पूरा होने तक नहीं जगाने के लिए मेरे पुत्र तत्वम को धन्यवाद्।

उल्लेखनीय है कि जब मै स्वप्न और निद्रा त्यागकर चेतन अवस्था में आया तब नवा रायपुर में आज भी घना कोहरा छाया हुआ है, कोई 15मीटर दूर खडा व्यक्ति भी पहचान से परे हो रहा है, लगभग 40-50 मीटर दूर तो कोई कुछ दिखाई ही नही दे रहा है।

"काल्पनिक स्वप्न पर आधारित लेख", यदि किसी व्यक्ति अथवा समाज के आस्था को इस लेख पढकर चोट पहुंचती हो, तो लेखक क्षमाप्रार्थी है। HP Joshi
Share:

Friday, December 20, 2019

अबोध विचारक और अंगूठाछाप लेखक होने का भी अपना मजा है - एचपी जोशी

अबोध विचारक और अंगूठाछाप लेखक होने का भी अपना मज़ा है - एचपी जोशी

लेखन और रचना के क्षेत्र में मैं वर्ष 1997-98 में ही जब कक्षा-7वीं का छात्र हुआ करता था तब से ही अपने बडे भैया श्री देव प्रसाद जोशी का नकल करते करते शुरू कर दिया था, हालांकि उस दौर में प्रायः अपने बडे भैया का कविता चुराकर अपने दोस्तों में होशियार बनता था और कुछ शायरी वगैरह लिखता भी तो वह भी चोरी से, कहीं बाबुजी न पकड लें, भैया यह न जान ले कि मैं शायरी लिखता हूं। चूंकि ग्रामीण परिवेश में जीवन जीने वाला अबोध छात्र और घुमंतू लडका था, मेरा शायरी साहित्य के कसौटी से परे हुआ करता था। वर्ष 2000 तक अपने शायरी लिखने के कारण अपने दोस्तों में कुख्यात हुआ करता था, इसी कारण बडे भैया से डांट भी खानी पडी, धमकी भी मिला और उन्होनें सही मार्ग दिखाया कविता और लेख का क, ख, ग सीखाया। आज मैं जो भी हूं चाहे लेखन के क्षेत्र में या फिर चाहे सेवा के क्षेत्र वह मैं अपने बडे भैया श्री देव प्रसाद जोशी के बदौलत ही हूं। एक बात तो भूल ही रहा था सायद वर्ष 1993-94 की बात होगी जब हमारे घर में कुंआ का जोडाई चल रही थी, लगभग 12-13 फिट ही जोडाई हुआ था लगभग पानी के भराव से थोडा कुछ आधा-एक फिट अधिक तब उसमें मैं गिर गया था, यदि मेरे बडे भैया न होते तो आज मैं न होता। उन्होनें मेरे लम्बे घने बाल और हांथ पकडकर बडी मुश्किल से निकाला था हांलांकि आज मेरे बाल घने भी नही हैं और न तो मैं लम्बा रखता हूं।

पहले मैं वर्ष-2001 से कंप्यूटर का इस्तेमाल करना शुरू किया, परन्तु लेखन और कविता इससे दूर कलम और काॅपी में ही रहती, फिर वर्ष-2009 में जब बडे भैया ने मुझे लेपटॉप गिफ्ट दिये तब से अपना लेख कलम काॅपी के बदले सीधे लेपटाॅप में करना शुरू किया, लेपटाॅप में दोनों हाथ के सारे अंगुली और अंगूठे से लिखता था। मेरे एक अनन्य मित्र श्री दिवाकर मिश्रा जी के प्रेरणा से वर्ष 2013 में जब स्मार्टफोन खरीद लिया तब से यूनिवर्सिटी ऑफ सोशल मीडिया में अंगूठाछाप प्रोफेसर हो गया हूं। हांलांकि आज भी कविता को कलम काॅपी में ही लिखता हूं। मजे की बात यह है कि स्मार्टफोन ने टाॅयलेट टायमिंग को भी उपयोगी बना दिया है, मैं कई बार अपने बचे हुए लेख टाॅयलेट में ही लिखता हूं। मैं शुक्रगुजार हूं श्री मिश्रा जी का जिन्होने मुझे स्मार्टफोन प्रयोग करने के लिए प्रेरित किया। यूनिवर्सिटी ऑफ सोशल मीडिया में मेरी पहली ज्वायनिंग डिपार्टमेंट ऑफ स्क्रेब बुक में वर्ष 2009-10 में हुई थी, तब तक फेसबुक मुझे अच्छा नहीं लगता था, फिर डिपार्टमेंट ऑफ स्क्रेब बुक बंद होने के कारण मुझे मजबुरन वर्ष 2011 में डिपार्टमेंट ऑफ फेसबुक में ज्वायनिंग लेना पडा, इसके साथ-साथ 2012 में डिपार्टमेंट ऑफ ब्लाॅगर में ज्वायनिंग ले लिया था और अभी वर्ष 2013 से डिपार्टमेंट ऑफ वाट्सएप्प में भी सक्रिय हूं। उल्लेखनीय है कि डिपार्टमेंट ऑफ स्क्रेब बुक में मुझे मेरे अनन्य मित्र श्री परमेश्वर निषाद के मार्गदर्शन और सहयोग से ज्वायनिंग मिला था।

यूनिवर्सिटी ऑफ सोशल मीडिया में कोई वेतन नहीं मिलता, कोई भत्ता नहीं मिलता कोई विशेष सुविधा अथवा कोई लाभ नहीं मिलता। फिर भी पूरी निष्ठा और ईमानदारी से अपना समय और बुद्धि का सदुपयोग करता हूं ताकि मेरे स्टूडेंट्स इसका फायदा उठा सकें, कोई किसी के बहकावे में न आ जाए।

जब तक मैं पेन वाला लेखक कवि था, आईएसबीएन नंबर का इंतजार किया, संपादक और प्रकाशक का प्रतीक्षा करता रहा। कोई मान्यता नहीं मिला, मगर अब अंगूठाछाप लेखक कवि होने के कारण मेरा सारा का सारा लेख, मेरा सारा का सारा कविता पूर्ण होने के पहले ही बिना संपादक, बिना आईएसबीएन के प्रकाशित हो जाता है। बाकायदा यूनिवर्सिटी ऑफ सोशल मीडिया में लोगों को निःशुल्क अध्ययन और समीक्षा करने, अपनी प्रतिक्रिया देने का अवसर भी मिलता है। हां यह बात तो हानिकारक ही है कि कभी कभी यूनिवर्सिटी ऑफ सोशल मीडिया के स्टूडेंट्स और अन्य प्रोफेसर्स के निंदा और आक्रोश का सामना सीधा सीधा करना पड़ता है, कई बार बखेड़ा खड़ा हो जाता है कई प्रोफेसर को माफी मांगनी पड़ जाती है, मुझे भी अपना अंगूठा चलाकर ओवरराइटिंग करना पड़ता है।

यूनिवर्सिटी ऑफ सोशल मीडिया के डिपार्टमेंट ऑफ फेसबुक में अधिक स्टूडेंट्स एडमिशन लेते हैं प्रोफेसर भी बहुत हैं ज्ञान का भंडार है यह सेक्टर मगर डिपार्टमेंट ऑफ ट्विटर में स्टूडेंट्स कम हैं प्रोफेसर अधिक हैं। मेरा काम प्रोफेसरी का है उपर से नौसिखिया तो डिपार्टमेंट ऑफ ट्विटर में मेरा क्या काम, सो मुझे डिपार्टमेंट ऑफ फेसबुक में काम करने, लेक्चर देने में अच्छा लगता है। डिपार्टमेंट ऑफ टेलीग्राम में भी ज्वाइन करने का प्रयास किया मगर सफल नहीं हो सका, वैसे डिपार्टमेंट ऑफ वॉट्सएप में भी काम कर लेता हूं मगर समस्या यह है कि उसमें गोपनीयता अधिक है हर क्लासरूम के लिए अलग अलग क्लास देना पड़ता है उपर से रिकॉर्डिंग का प्रावधान नहीं है इसलिए डिपार्टमेंट ऑफ फेसबुक में लिखना अच्छा लगता है।

डिपार्टमेंट ऑफ फेसबुक में अरबों अंगूठाछाप प्रोफेसर हैं जिसमें से कुछ प्रोफेसर अफवाहें फैलाने का भी काम करते हैं वैसे ये अफवाहें फैलाने के लिए सभी डिपार्टमेंट में सक्रिय रहते हैं इनके लिए डिपार्टमेंट ऑफ वॉट्सएप अधिक सुरक्षित माना गया है।

एक मज़े की बात तो ये है कि यूनिवर्सिटी ऑफ सोशल मीडिया में प्रोफेसर बनने के लिए किसी भी प्रकार के डिग्री हासिल करने की जरूरत नहीं पड़ती, कोई नेट या स्लेट पास होना नहीं पड़ता, अपने विषय में पीएचडी और एमफिल भी नहीं, मास्टर डिग्री, बेचलर डिग्री, इंटरमीडिएट, इंटर/ मैट्रिक, मिडिल या प्राइमरी किसी भी तरह के प्रमाणपत्र अथवा अंकसूची की आवश्यकता नहीं होती, यूनिवर्सिटी ऑफ सोशल मीडिया में प्रोफेसर बनने अथवा स्टूडेंट्स के रूप में एडमिशन लेने के लिए केवल स्मार्टफोन धारक होने की जरूरत है। इसलिए यूनिवर्सिटी ऑफ सोशल मीडिया के प्रोफेसर असली तो दूर फर्जी सर्टिफिकेट, फर्जी डिप्लोमा और फर्जी डिग्री के भागमभाग से दूर रहते हैं।

यह लेख व्यंग और सच्ची घटना पर लिखी गई आप बीती है, फिर भी यदि किसा व्यक्ति अथवा समाज के आस्था अथवा कानून का उल्लंघन होता हो तो लेखक इसके लिए पूर्व क्षमाप्राथी है।
Share:

Monday, December 16, 2019

ज्ञान की ५बातें................... जरूर पढ़ें

ज्ञान की ५बातें...................
(हिंदुत्व अर्थात मूल सनातन धर्म परम्परा के मान्यता के अनुसार)
(लेखक - एचपी जोशी)

एक बार पूरा लेख जरूर पढ़ें, संभव है आपका विचार बदल जाए, आपकी सोचने और जीवन जीने का तरीका बदल जाए। पहले पढ़िए, अच्छा लगेगा फिर आगे पढ़िए थोड़ा बुरा लगेगा, हो सकता है बहुत बुरा लगेगा और लेखक को गाली देने का मन करेगा, थोड़ा ऐसा भी विचार आएगा कि लेखक एचपी जोशी मिल जाए तो दो चार जूते मार लेता, मगर ऐसा संभव नहीं थोड़ा भीतर ही भीतर मुझे गाली जरूर दे लेना, ध्यान रखना ज्यादा गाली गलौज आपको मानसिक रूप से विकलांग न बना दे। बड़े मज़े से गाली गलौज करने के बाद भी आगे पढ़ना और शांति से सोचना, समझने का प्रयास करना। यदि समझ में न आए तो एक बार फिर से पढ़ना, फिर भी समझ न आए तो कोई बात नहीं थोड़ा सा हिंदी पढ़ने का प्रयास करना। चलें अब पढ़ने समझने और जूते मारने या गाली गलौज के विचार से ऊपर उठकर ज्ञान की 05 बातें जानने का प्रयास करते हैं।

ये हैं ज्ञान की 5बातें.....
1- दुनिया में 84लाख योनि है।
2- मृत्यु के पश्चात पुनर्जन्म होता है।
3- सभी जीव में आत्मा होती है और भगवान ब्रम्हा परमात्मा है, अर्थात सभी जीव भगवान ब्रम्हा के पुत्र हैं।
4- मनखे- मनखे एक समान - गुरु घासीदास बाबा।
5- जम्मों जीव हे भाई बरोबर - HP Joshi.

अब जब आप 5 बातें पढ़ लिए, तो आइए कुछ तर्क करने, प्रश्न करने और सोचने या समझने का भी प्रयास करते हैं :-

अबोध बालक के प्रश्न:
हे मनुष्य, ऊपर के ५बातें तो कुछ और ही कहने का प्रयास करती है, फिर हम जाति, वर्ण, धर्म और जन्म के आधार पर घृणा, दुर्भावना और नफरत क्यों करते हैं? उच्च नीच के पैमाना क्यों? निर्धारित किए बैठे हैं?
क्यों न ऐसे मनोभाव को त्यागने का प्रयास करें, आओ इन बातों का सारांश जानें।

बिंदु 1+2 का सारांश यह है कि:-
# इस जनम में मैं इंसान हूं, अगले जनम में सुवर या गधा हो सकता हूं, मेंढ़क या छिपकली हो सकता हूं, मुर्गी या मछली हो सकता हूं अर्थात् 84लाख योनियों में किसी भी योनि को प्राप्त हो सकता हूं और आप भी!
# इस जनम में हिन्दू हूं अगले जनम में मुस्लिम, सिक्ख, ईसाई, पारसी, जैन या बौद्ध हो सकता हूं और आप भी!
# इस जनम में मैं नर हूं अगले जनम में मादा या हिजड़ा भी हो सकता हूं और आप भी!
# इस जनम में तुम मुझे नीच कहते हो, अगले किसी जनम में तुम्हे भी इसी नीच जाति / कुल में जनम लेना पड़ेगा।

बिंदु ३का सारांश यह है कि:-
लेखक इस जनम में जोशी है अगले जनम में मेहर या मोची हो सकता है, राउत या केंवट हो सकता है, तेली या कुर्मी हो सकता है, मरार या कलार हो सकता है आदिवासी या बैगा हो सकता है, ठाकुर या बनिया हो सकता है। ब्राम्हण, क्षत्री, वैश्य अथवा शूद्र के अलावा दूसरे धर्म में भी जनम लेे सकता है और आप भी! इसलिए आपसे विनती है केवल इस जनम के आधार पर व्यवहार मत करो, इस जनम के आधार पर जीवन जीने की अपेक्षा को त्याग दो, क्योंकि करोड़ों अरबों जनम से आप, मैं और अन्य सभी जीव जंतु भी भगवान ब्रम्हा के ही पुत्र हैं अर्थात सभी सगे भाई बहन हैं।

आओ आंखें खोलें, थोड़ा पानी डालकर धो लें, चिपर निकालकर अच्छे साफ सुथरे आखों से देखें। "मनखे- मनखे एक समान" और "जम्मों जीव हे भाई बरोबर" हमारे धार्मिक सिद्धांत का मूल तत्व है, मूल ज्ञान है। जरूरत है तो इन बातों को आत्मर्पित करने की। आओ थोड़ा ज्ञानी मुझे भी बनने दें मैं भी आपको थोड़ा सा ज्ञानी बनने का अवसर दूंगा, इस छोटे से लेख को पढ़कर अपने लोगों से तर्क कीजिए, चाहे आप सहमत न हों। यदि सहमत न हों तब भी जीवन में कम से कम एक बार किसी दूसरे ज्ञानी व्यक्ति के सामने इन ५बातों को रखिए और एक बार फिर मुझे मूर्ख या बेवकूफ जैसे गाली दीजिए और मेरे लेख को मूर्खतापूर्ण लेख मानकर खिलखिलाकर हस पड़िए।

सुधि पाठकों से निवेदन है कि यह लेख व्यंगात्मक काल्पनिक विचारधारा पर आधारित है, यदि किसी व्यक्ति अथवा समाज के आस्था विश्वास को क्षति पहुंचती है तो लेखक (एचपी जोशी) क्षमा प्रार्थी है।
Share:

Thursday, December 12, 2019

बलात्कार और क्रुर हत्या के आरोपी को कैसी मौत दी जाए? - HP Joshi

बलात्कार और क्रूर हत्या के अपराधियों को सामान्य फांसी न दी जाए, बल्कि उसके शरीर के महत्वपूर्ण Organ(s) और Tissue(s) को निकालकर बेची जाए और निर्भया का स्मारक बनाया जावे अथवा उनके आश्रितों को रकम दी जावे - एचपी जोशी

मृत्यु देखकर निर्भया के अपराधी को नैसर्गिक न्याय का सिद्धांत याद आने लगा। तरह तरह के उपाय बताने लगा है इसलिए हम भी एक उपाय एक धर्म की बात बताने का प्रयास करते हैं, नैसर्गिक न्याय के सिद्धांत के अनुरूप ही एक आइडिया बताते हैं।

ये है, नैसर्गिक न्याय के सिद्धांत के अनुकूल आइडिया:
अंगदान मृत्यु के पश्चात और पहले दोनों समय किया जा सकता है यह भी धर्म और नैसर्गिक न्याय के सिद्धांत के अनुरूप है। इसलिए निर्भया के अपराधियों के सभी आवश्यक Organ(s) और Tissue(s) को बेचकर निर्भया का स्मारक बनाया जावे अथवा उनके आश्रितों को यह रुपए दिए जाएं।

क्योंकि,
"निर्भया की मृत्यु भी उनके जीवन के अधिकार सहित समस्त प्रकार के मानव अधिकारों का हनन है।" निर्भया के अपराधियों को मृत्युदंड नहीं मिलना, केवल निर्भया ही नहीं वरन् समस्त बलात्कारी और हत्यारे जिन्हें फांसी दी जा चुकी है उसके साथ अन्याय होगा और बलात्कार को बढ़ावा देने का आमंत्रण होगा। इसलिए क्यों न, बलात्कारियों की आंख, आंत, किडनी व हृदय सहित समस्त आवश्यक Organ(s) और Tissue(s) (जिसे किसी दूसरे व्यक्ति में प्रत्यारोपित किया जा सके) को निकाल लिया जावे।

उल्लेखनीय है कि देश में अब तक लाखों लोगों ने अपने जीवित अवस्था में ही मृत्यु पश्चात अंगदान का संकल्प लिया है और हजारों लोगों के मृत्यु पश्चात उनके अंग को दूसरे व्यक्ति के शरीर में प्रत्यारोपित किया गया है। यहां यह भी उल्लेखनीय है कि लेखक स्वयं (Huleshwar Joshi) मृत्यु पश्चात अंगदान का संकल्प लिया है।

लेखक/संपादक, इस आलेख में किसी भी प्रकार के गलतियों, त्रुटियों और कानून के उल्लंघन पूर्ण क्षमाप्रार्थी है।
Share:

Saturday, December 07, 2019

बिना सेसन ट्रायल, तीन दिन में ही क्रूर हत्या और रेप के आरोपी को फांसी दी जा सकती है, वह भी न्याय के नैसर्गिक सिद्धांत के अनुरूप, तरीके जानने के लिए पूरा लेख पढ़ें - एचपी जोशी

पूरे देश के सभी क्रूर हत्यारे और बलात्कारियों को तीन महीने के भीतर सजा दी जा सकती है।

तीन दिन में ही क्रूर हत्या और रेप के आरोपी को फांसी दी जा सकती है, वह भी न्याय के नैसर्गिक सिद्धांत के अनुरूप।

(एक विकल्प (एक आईडिया) बलात्कार और हत्या के आरोपियों के लिए न्याय व्यवस्था हेतु)

कैसे, बिना सेसन ट्रायल, केवल माननीय उच्च न्यायालय के सीटिंग जज के सामने फोरेंसिक जांच के बाद आरोपी गिरफतार होने के तीसरे दिन ही आरोपी को फासी की सजा दी जा सकती है। इस संबंध में इस लेख में विस्तृत सुझाव और जानकारी दी गई है, लेख पढ़ने के पहले आप पाठक से लेखक का एक प्रश्न है, जवाब अपने अंतर्मन में जरूर तैयार कर लें।

लेखक का प्रश्न :
यदि उन 4 अपराधियों, क्रूर अमनुश दरिंदे में यदि कोई एक व्यक्ति वास्तविक रूप से रेप में सहभागी ही न होता और वो चौथा व्यक्ति यदि आप होते तो? या फिर वह चौथा व्यक्ति आपका अपना सगा भाई या पुत्र होता तो?
एक बार जरूर सोचिए.........

कुछ न्यायिक सिद्धांत :
"बिना जांच के सजा, न्यायोचित नहीं हो सकता!"
"किसी भी शर्त में हिंसा के बदले हिंसा, या हत्या के बदले हत्या और रेप के बदले रेप न्याय नहीं हो सकता।"
"नैसर्गिक न्याय के सिद्धांत के अनुसार अपराधी को अपना अपराध कबूलने अथवा अपनी बेगुनाही साबित करने का अवसर मिलना चाहिए।"
"पुलिस को सजा देने का अधिकार नहीं है, अपराधियों का एनकाऊंटर की कार्यवाही परिस्थितिजन्य प्रतीत होता है। इसे सजा देने का तरीका न मानें।"

संक्षेप में, तरीका:
1- आरोपी गिरफ्तार किया जाना और पुलिस कार्यवाही एक दिन में पूर्ण हो।
2- दूसरे दिन माननीय उच्च न्यायालय के सीटिंग जज के समक्ष, नार्को टेस्ट के साथ अन्य फोरेंसिक जांच हो, देर शाम तक 2-3 सदस्यीय माननीय न्यायाधीश द्वारा तत्काल मृत्यु दंड का आदेश जारी हो।
3- तीसरे दिन नए नियम के अनुसार, नियमानुसार आरोपी को फांसी दी जाए।

क्या हो तरीका, विस्तार से:
रेप और हत्या में सजा देने का प्रावधान अत्यंत कठोर और त्वरित करने की जरूरत है। ऐसे अपराधियों को एक माह या उससे कम समय सीमा में, अथवा आरोपी के पकड़े जाने के दूसरे दिन जांच और तीसरे दी मृत्युदंड/फांसी देने का प्रावधान होनी चाहिए। फोरेंसिक साइंस वर्तमान में बहुत आगे आ चुकी है बिना ट्रायल के ही ऐसे अपराधियों को सजा दी जा सकती है वह भी फोरेंसिक जांच और आरोपियों के ही बयान के आधार पर, बिल्कुल न्याय के नैसर्गिक सिद्धांत के अनुरूप।

इस तरीके को अपनाने के लिए केवल विशेषज्ञ द्वारा तैयार कुछ प्रश्नों की श्रृंखला के माध्यम से जांच की जा सकती है। माननीय उच्च न्यायालय के एक सीटिंग जज के सामने तत्काल प्रभाव से आरोपियों को पेश किया जावे, उसके बाद कुछ निम्नानुसार परीक्षण स्वतः माननीय न्यायाधीश के समक्ष हो:
1- Narco Analysis
2- एसडीएस (सस्पेक्ट डिटेक्शन सिस्टम) - पॉलीग्राफ + ब्रेन फिंगर प्रिंटिंग
2- LVA (Layered Voice Analysis)
3- Lie Detection (Polygraph)
4- BEOSP - Brain Electrical Oscillation Signature Profile
5- EyeDetect
उपरोक्त टेस्ट में नार्को टेस्ट के साथ किसी भी एक या दो टेस्ट करने से ही सत्यापित किया जा सकता है कि क्या जिसे हम आरोपी समझकर पकड़े हैं वह सही में आरोपी है। शासन को इस दिशा में काम करने की जरूरत है।

इस लेख के माध्यम से देश के नीति निर्धारकों से अपील है कि वे ऐसे नियम बनाकर तत्काल प्रभावी करें, अथवा माननीय राष्ट्रपति के माध्यम से अध्यादेश जारी कर देश में जितने भी क्रूरता पूर्वक हत्या और रेप के मामले हैं उन्हें तीन महीने के भीतर निपटारा कराएं। "ऐसा संभव भी है।" जरूरत है तो केवल फोरेंसिक साइंस को एक अध्यादेश अथवा कानून लाकर वैध बनाने की।

लेखक के ज्ञान और जानकारी के आधार पर ऐसा लेब हमारे देश में भी उपलब्ध हैं, विस्तृत जानकारी और लेख की पुष्टि के लिए गुजरात फोरेंसिक साइंस यूनिवर्सिटी से संपर्क किया जा सकता है। लेखक को विश्वास है गुजरात फोरेंसिक साइंस यूनिवर्सिटी के सहयोग से तीन महीने से भी कम समय सीमा में देश के सभी क्रूर हत्या और रेप के मामले को निपटाया का सकता है। बिना किसी प्रकार से फास्ट ट्रेक न्यायालय में ट्रायल किए बिना ही।

लेखक का माफीनामा:
उपरोक्त आइडिया लेखक के ज्ञान और विश्वास पर आधारित है, यदि इससे किसी कानून का उल्लघंन अथवा माननीय न्यायालय का अवमानना होती हो तो लेखक HP (Huleshwar) Joshi पूर्व से क्षमा मांगता है।

अंत में एक अपील:
सोशल मीडिया, समाचार पत्रों और वेब पोर्टल न्यूज चैनल में प्रकाशन और वायरल करने के लिए आपसे निवेदन है।
Share:

Wednesday, December 04, 2019

लड़के और लड़कियों के लिए अलग अलग चारित्रिक पैमाने की सोच ही बलात्कार का कारण है - एचपी जोशी

निर्भया मेरी भी बहन है, निर्भया मेरी भी बेटी है - एचपी जोशी
लड़के और लड़कियों के लिए अलग अलग चारित्रिक पैमाने की सोच ही बलात्कार का कारण है - एचपी जोशी
गुरु घासीदास जयंती के संबंध में आयोजक मंडल को सुझाव - एचपी जोशी

पर स्त्री (दूसरे की पत्नी, बहन और बेटी) को माता बहन मानों .... ऐसा शिक्षा देने वाले संत को केवल एक ही जाति तक सीमित कर देना अत्यंत दुर्भाग्य जनक है। उल्लेखनीय है कि गुरु घासीदास बाबा ने पराय स्त्री को माता बहन मानने की शिक्षा समाज को दी है यदि हम आज इतने वर्षों में यदि इस संदेश को स्वीकारते हुए अपने संस्कार में शामिल कर लेते तो कोई बेटी और कोई बहन निर्भया बनने पर मजबूर नहीं होती, किसी स्त्री का बलात्कार नहीं होता, किसी महिला का रेप नहीं होता, किसी बच्ची के साथ क्रूरता नहीं होती। मगर हमें तो जाति, वर्ण और धर्म के विभाजन और कुंठा से प्रेरित विभाजन में गर्व करना अच्छा लगता है इसलिए किसी दूसरे समाज में जन्म लेने वाले गुरु का बात क्यों मानें, चाहे वह प्रासंगिक ही क्यों न हो।

आज हमारी संस्कार पूरी तरह से दूषित हो चुकी है, नष्ट हो चुकी है और भ्रष्ट हो चुकी है। वर्तमान परिवेश में हम अपने आने वाली पीढ़ी को संस्कार के नाम पर कुछ नहीं देते हैं केवल प्रतियोगिता की शक्ति और श्रेष्ठता का विचारधारा ही दे पा रहे हैं। इसलिए हम बेटियों और बहनों के लिए गिद्ध बन चुके हैं और माताओं के लिए हिंसक जानवर हो चुके हैं हमारी भावी पीढ़ी भी इसी तरह हमारे तरह ही जन्म लेने वाली है बिल्कुल गिद्ध की तरह, बिल्कुल हिंसक जानवर की तरह, इसलिए क्यों न आने वाली पीढ़ी को सुधारने का प्रयास किया जाए, उच्च स्तरीय शिक्षा के साथ थोड़ा सा संस्कार भी दिया जाए। प्रतियोगी परीक्षाओं में सफलता के तरीकों के साथ थोड़ा सा मानवता का पाठ भी पढ़ाएं, घर में हमारे पास समय नहीं तो स्कूल और कोचिंग संस्थान के माध्यम से ही संस्कार सिखाएं। यदि हमारे संस्कार में पराय स्त्री माता बहन है और मनखे मनखे एक समान शामिल होता तो किसी बेटी को, किसी बहन को, किसी स्त्री को निर्भया कहलाने की जरूरत ही नहीं पड़ती। आइए संवेदनशील समाज बनाने का प्रयास करें, संवेदनहीनता के खिलाफ एकजुट होकर समाज को सुधारने का प्रयास करें।

आज हम बड़ी बेसब्री से अपनी बारी का इंतज़ार करने में समय बर्बाद कर रहे हैं, हम इंतजार कर रहे हैं कि "जब तक कोई गिद्ध, कोई दरिंदा कोई जानवर हमारी बेटी बहन के साथ ऐसी क्रूरता नहीं करेगा हमें किसी निर्भया से कोई मतलब नहीं" ऐसे सोच रखने वाले चेत जाएं सावधान हो जाएं। ऐसा सोचने वाले अमानुश भी सावधान हो जाएं कि मेरी तो बहन नहीं है, मेरी तो बेटी नहीं हैं। लड़का है बदमाशी नहीं करेगा तो क्या लड़की करेगी?? "लड़की लड़के में भेद करने वाली सोच ही बलात्कार का कारण है।" ये सोच आपको बर्बाद कर देगी, क्योंकि आपकी भी बेटी पैदा होने वाली है और जिसकी बेटी है उनके भी बेटा जन्म लेने वाला है। इसलिए बेटी और बेटा के लिए अलग अलग चरित्र का पैमाना बनाने वाले सावधान हो जाएं, अपनी ही बहन बेटियों के खिलाफ ऐसे सोच को जन्म देने की नींव मत डालो।

मेरे कुछ मित्र हैं जिनकी बहन या बेटियां नहीं हैं वे लड़कियों के चरित्र और उनके पालकों के संस्कार में प्रश्न करते रहते हैं, जबकि उनके संस्कार भी लड़की और लड़के के लिए दोहरे चरित्र का मापदंड तय करती है। उनके ऐसे मानसिकता पर शर्म आती है मुझे घिन आती है ऐसे विचारधारा पर। मेरे कुछ साथी ऐसे भी हैं जिनकी बेटियां हैं वे बहुत चिंतित रहते हैं मैं भी अत्यंत चिंतित हूं क्योंकि मेरी भी बेटी है, मैं भी बहुत चिंतित हूं क्योंकि मेरी और भी बेटियां जन्म लेने वाली हैं मेरे संस्कार में शामिल है पराय स्त्री माता बहन के समान हैं इसलिए पूरे दुनिया की स्त्री मेरी मां बहन और बेटियां हैं। जागरूकता की यह कठोर तरीके किसी व्यक्ति के आस्था को चोटिल करती हो तो लेखक माफ़ी चाहता है।

इस महीने के 18 तारिक से हम गुरु घासीदास बाबा जी के जयंती मनाने वाले हैं, ये वही संत हैं जो मानव मानव एक समान की शिक्षा देते हैं ये वहीं संत हैं जो पराय स्त्री को माता बहन मानने का सलाह देते हैं ये वही गुरु हैं जो हिंसा के खिलाफ और शाकाहार खाने को प्रेरित करते हैं ये वही धर्मगुरु हैं जो आडंबर से परे रहकर वास्तविक धर्म की बात करते हैं ये वहीं मार्गदर्शक हैं जो हमें सरल और सहज पद्धति से जीवन जीने की कला सीखते हैं। इसलिए इनके संदेशों को सभी समाज के संस्कार में शामिल होना चाहिए..... प्रिय पाठकों मैं इस लेख के माध्यम से गुरु घासीदास बाबा जी की जयंती मनाने वाले और जयंती नहीं मानने वाले दोनों को ही उनके संदेश को जानने के लिए निवेदन करता हूं। बताना चाहता हूं कि बड़े बड़े आयोजन करके, लाखों करोड़ों रुपए खर्च करके जयंती मनाने से कोई लाभ नहीं यदि आपको बाबा जी के संदेश प्रचारित नहीं किया जाता। हम कम से कम गुरु घासीदास दास बाबा जी के 07 संदेश ही जान लें, 07 संदेशों को ही प्रचारित कर लें, तो हमारा जयंती मानना सफल हो जाएगा।

मैं सतनामी समाज के पदाधिकारियों से आयोजक मंडल से अपील करता हूं कि इस बार बड़े आयोजन के बजाय मात्र गुरु घासीदास बाबा जी के संदेशों को पूरे दुनिया में प्रचारित करने का प्रयास करें, लाखों करोड़ों रुपए जयंती के नाम पर, विशेषकर सांस्कृतिक कार्यक्रम के लिए समाज का धन बर्बाद न करें। मैंने पिछले कुछ वर्षों से समाज से लगातार आग्रह किया कि वे बड़े विशाल होर्डिंग्स में नेताओं के और स्वयं के फोटो लगवाते हैं सायम को बड़ा नेता, बड़ा समाज सेवक, सामाजिक कार्यकर्ता बताने का प्रयास करते हैं जो केवल दिखावा है, यदि आपने गुरु घासीदास बाबा जी के संदेश को ही नहीं बताया, तो विशाल होर्डिंग्स का क्या औचित्य?? होश में आएं, गुरु घासीदास बाबा जी के संदेशों का प्रचार करें, विशाल होर्डिंग्स में नेताओं की फोटो नहीं बाबा जी के संदेश छपवाएं, संस्कृति कार्यक्रम के नाम पर अश्लीलता नहीं बल्कि बाबा जी के जीवन लीला और संदेशों के प्रसार के लिए प्रवचन कराएं। करोड़ों रुपए की बर्बादी नहीं सदुपयोग करें, बिना किसी बंधन के सभी जाति धर्म के लोगों को जयंती में शामिल होने के लिए आग्रह करें, उन्हें भी बाबा जी के संदेश बताएं।
Share:

Friday, November 29, 2019

हां, मैं पूर्णतः समानता का समर्थक हूं - HP Joshi

मैं टैक्सपेयर हूं। 
मैं भारत का आम नागरिक हूं।
मैं मनुष्य हूं और मानवता का समर्थक।

चाहे क्यों न मेरे बच्चे प्राइवेट स्कूल कॉलेज में पढ़ते हो या चाहे क्यों न मेरा पूरा परिवार निजी अस्पताल में इलाज करवाता हो।

फिर भी ..
मैं चाहता हूं कि स्वास्थ्य और शिक्षा पूर्णतः निःशुल्क होनी चाहिए।

क्योंकि मैं मानव हूं मानव मानव एक समान और जम्मो जीव हे भाई बरोबर के सिद्धांत का समर्थक हूं।

क्या??
क्या तुम्हें ...... 
क्या तुम ........

हां, हां मैं चाहता हूं कि सब समान हों, मानव मानव में कोई भेदभाव न हो।

हां, मैं चाहता हूं कि जो आज निर्धन है गरीबी रेखा के नीचे जीवन यापन कर रहे हैं उनके बच्चे भी अच्छे विद्यालय में पढ़ सकें, मेरे बच्चों के समान उन्नति कर सकें।

हां, मैं चाहता हूं कि गरीबों को भी उनके मेहनत का पूरा पूरा श्रेय उन्हें ही मिले, उन्हें भी मेहनत करने और उन्नति करने का अवसर मिले।

हां, मैं चाहता हूं कि जो गरीब हैं वे भी आनंद के साथ जीवन जी सकें, परिवार के साथ समय बिता सकें। अच्छे सेवन स्टार होटल में खाना खा सकें, होटल ताज में रात बिता सकें और विदेश टूर में जा सकें।

हां, मैं चाहता हूं कि गरीबों के बच्चे भी यूपीएससी और देश के प्रमुख प्रतियोगी परीक्षाओं की कोचिंग फ़्री में कर सकें, आईएएस आईपीएस अधिकारी बन सकें, वैज्ञानिक, डॉक्टर, इंजीनियर और प्रोफेसर बन सकें।

हां, मैं चाहता हूं कि उन्हें भी इतना सम्मान मिल सके कि वह देश के सर्वोच्च पदों में नियुक्त और निर्वाचित हो सके, इसके लिए उनकी आर्थिक स्थिति उन्हें न रोके।

हां, मैं चाहता हूं कि गरीबों के बच्चे भी मेरे बच्चों से आगे आ जाएं, उन्हें भी अपनी योग्यता साबित करने के लिए समान अवसर मिल सके।

हां, मैं चाहता हूं कि गरीबों के बच्चे भी एसी बस से स्कूल कॉलेज का सकें, एसी कमरे में रह कर अध्ययन कर सकें, आईआईटी आईआईएम में पढ़ सकें।

हां, हां, हां, मैं पूर्णतः समानता का समर्थक हूं, क्योंकि मैं जानता हूं मेरिट अवसर का प्रतिफल है सुविधाओं का प्रतिबिंब है इसलिए मेरिट और ज़ीरो के सिद्धांत में बदलाव की अपेक्षा करता हूं।

एचपी जोशी
नवा रायपुर, छत्तीसगढ़
Share:

Popular Information

यह वेबसाइट /ब्लॉग भारतीय संविधान की अनुच्छेद १९ (१) क - अभिव्यक्ति की आजादी के तहत सोशल मीडिया के रूप में तैयार की गयी है।
यह वेबसाईड एक ब्लाॅग है, इसे समाचार आधारित वेबपोर्टल न समझें।
इस ब्लाॅग में कोई भी लेखक/व्यक्ति अपनी मौलिक पोस्ट प्रकाशित करवा सकता है। इस ब्लाॅग के माध्यम से हम शैक्षणिक, समाजिक और धार्मिक जागरूकता लाने तथा वैज्ञानिक सोच विकसित करने के लिए प्रयासरत् हैं। लेखनीय और संपादकीय त्रूटियों के लिए मै क्षमाप्रार्थी हूं। - श्रीमती विधि हुलेश्वर जोशी

Most Information

Featured Post

अधिकारियों/स्टाफ की पदोन्नति एवं समयमान वेतनमान स्वीकृति के कार्यों को प्राथमिकता से पूर्ण कराया जावे - श्री जी.पी. सिंह, एडीजी

एडीजी श्री जी.पी. सिंह, नें लोक अभियोजन संचालनालय में अभियोजन अधिकारियों की मीटिंग ली  न्याय प्रणाली में लोक अभियोजन अधिकारियों की म...