यातायात पुलिस नारायणपुर ने राष्ट्रीय सड़क सुरक्षा माह के 11वें दिन आयोजित किया रंगोली प्रतियोगिता और लर्निंग लायसेंस के लिए भरवाया फॉर्म

यातायात पुलिस नारायणपुर ने राष्ट्रीय सड़क सुरक्षा माह के 11वें दिन आयोजित किया रंगोली प्रतियोगिता और लर्निंग लायसेंस के लिए भरवाया फॉर्म

पुलिस अधीक्षक श्री मोहित गर्ग के निर्देशानुसार ASP श्री नीरज चंद्राकर के मार्गदर्शन और यातायात प्रभारी श्री प्रदीप जोशी के नेतृत्व में यातायात पुलिस जिला नारायणपुर द्वारा राष्ट्रीय सड़क सुरक्षा माह के 11वें दिन रंगोली प्रतियोगिता का आयोजन किया गया जिसमें रामकृष्ण मिशन आश्रम, शासकीय हाई स्कूल गढ़बेगाल, शासकीय हाई स्कूल बखरूपारा, महिला आईटीआई बंगलापारा और कन्या हाई स्कूल बंगलापारा के बच्चों के द्वारा रंगोली बनाकर आम नागरिकों को यातायात जागरूकता का संदेश दिया गया। यातायात प्रभारी श्री प्रदीप जोशी एवं कृषि महाविद्यालय एवं अनुसंधान केंद्र केरलापाल के प्राचार्य डॉ. रतना नशिने के द्वारा रंगोली का निरीक्षण कर उत्कृष्ट प्रदर्शन करने वाले प्रतिभागियों को राष्ट्रीय सड़क सुरक्षा माह के समापन के अवसर पर पुरूस्कृत किया जाएगा।

यातायात पुलिस नारायणपुर द्वारा जागरूकता रथ के माध्यम से जिला मुख्यालय के सभी गली मोहल्ले में जाकर पम्पलेट वितरण और लाउडस्पीकर के माध्यम से सड़क सुरक्षा से संबंधित जागरूकता लाने का प्रयास किया गया। इस दौरान पुलिस द्वारा 27 लोगों का लर्निंग लायसेंस का आवेदन फॉर्म भी भरवाया गया।
Dated: 28/01/2021

Related Images:





Share:

नारायणपुर पुलिस की उपलब्धियां 2019-2020


नारायणपुर पुलिस की उपलब्धियां 2019-2020, आईपीएस मोहित गर्ग के नेतृत्व में 

हम विकास, विश्वास और सुरक्षा के ध्येय से मजबूत और विश्वसनीय पुलिसिंग की दिशा में अपने लक्ष्य की ओर निरंतर अग्रसर है, हमारे इस लक्ष्य की प्राप्ति में नारायणपुर पुलिस के प्रत्येक अधिकारी/कर्मचारियों का अहम योगदान है। चाहे वे अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक से आरक्षक स्तर के जवान हों, या सहायक आरक्षक और गोपनीय सैनिक सबने मिलकर साझा प्रयास किया है। हमारे लक्ष्य में केन्द्रीय बलों और छत्तीसगढ़ सशस्त्र बल के जवानों का भी अहम योगदान है। मै बतौर पुलिस अधीक्षक नारायणपुर जिला में तैनात होकर कार्य करने वाले समस्त बल को बधाई देता हूं, साथ ही अपेक्षा करता हूं कि आगामी भविष्य में भी निरंतर इसी तरह पूरी निष्ठा और ईमानदारी से अनुशासित और समर्पित होकर कार्य करते रहेंगे।

मोहित गर्ग, IPS 
पुलिस अधीक्षक, नारायणपुर

नारायणपुर पुलिस की उपलब्धियां 2019-2020, आईपीएस मोहित गर्ग के नेतृत्व में कॉफी टेबल बुक पढ़ने एवं डाउनलोड करने के लिए यहाँ क्लिक करें। 



Share:

गणतंत्रता दिवस विशेषांक : लोकतंत्र राजतंत्र से लाख गुणा बेहतर...... संविधान लोकतंत्र की आत्मा है - श्री एच.पी. जोशी


लोकतंत्र राजतंत्र से लाख गुणा बेहतर...... संविधान लोकतंत्र की आत्मा है : श्री एच.पी. जोशी
गणतंत्रता दिवस विशेषांक :

देशवासियों को गणतंत्रता दिवस की हार्दिक बधाई, शुभकामनाएं....

लोकतंत्र का पावन पर्व, गणतंत्रता दिवस सारे पर्व से अद्वितीय और दूसरा सबसे बड़ा पर्व है। जिसप्रकार स्वतंत्रता के बिना गणतंत्रता की कल्पना व्यर्थ और अधूरा है ठीक उसी प्रकार स्वतंत्रता को बनाये रखने के लिए लोकतंत्र की आत्मा अर्थात संविधान अत्यंत महत्वपूर्ण है। हम भारतीयों के लिए भारत का संविधान ही एक ऐसा ग्रंथ है जो देश के हर नागरिक को न्याय, समान अवसर तथा अधिकार प्रदान करता है। 

संविधान लागू होने के पूर्व घोर अमानवीय कृत्यों को ही कानून और सर्वोच्च सत्ता का नियम बताने का भ्रम फैलाया जाकर बहुसंख्य लोगों का शोषण किया जाता रहा। अंग्रेजी सरकार ही नहीं उसके पूर्व स्थापित राजतंत्र में भी राजाओं के इच्छा तक ही जनता को सुविधाओं और जीवन का अधिकार था, हालांकि राजतंत्र के दरबारी कवियों, साहित्यकारों और इतिहासकारों द्वारा अपने राजा को खुश करने के उद्देश्य से कपोल कल्पित रचना/लेख के माध्यम से उनकी तुलना ईश्वर से भी किया गया है। कुछ चाटुकारों ने तो अपने मालिकों के राज्य में न्याय और समानता की कोरी कल्पना को भी सत्य प्रमाणित कर दिया गया है। कुछ राजा वास्तव में कल्याणकारी भी रहे हैं उनके समानता और न्याय के व्यवस्था भी अच्छे रहे होंगे, मगर देश हजारों राजाओं के आधिपत्य में था जिसके कारण सबको न्याय, अवसर की समानता और आवश्यक मानव अधिकार मिले हों ऐसा कल्पना करना व्यर्थ बहकावा मात्र है। सबसे खास बात तो यह है कि राजतंत्र में कुछ विशेष लोगों को ही अधिकार प्राप्त रहता है जबकि लोकतंत्र में हर नागरिक को असीमित अधिकार प्राप्त होते हैं।

अतएव हम सभी भारतीय नागरिकों का कर्तव्य है कि हम लोकतंत्र की रक्षा के लिए संविधान को सुरक्षा प्रदान करते हुए और अधिक बेहतर बनाने में अपना योगदान दें। हमें इस बात का भी पूरा ज्ञान होना चाहिए कि लोकतंत्र का नहीं होना अघोषित रूप से गुलाम होने का ही पर्याय है।

मेरे प्यारे देशवासियों, संविधान भारत के हर नागरिकों को हजारों बेहतर और आवश्यक अधिकार देने के साथ साथ हमसे कुछ चंद कर्तव्य पालन का भी अपेक्षा करता है जिसका पालन कर हम अपने राष्ट्र को अधिक बेहतर बना सकते हैं। तो आइए संकल्प लें कि हम लोकतंत्र की रक्षा के लिए अपने प्राणों की आहुति देने से भी पीछे नहीं हटेंगे...... क्योंकि हम भली भांति जानते हैं कि राजतंत्र या परतंत्र होना हमें पशु से भी बदतर जीवन को मजबूर करती है इतना ही नहीं हमारा जीवन भी उनके क्रूर इच्छाओं पर निर्भर रहती है।
Share:

दिनांक 27 फरवरी 2021 को जिला नारायणपुर (Chhattisgarh) में अबूझमाड़ महोत्सव- तृतीय अंतर्राष्ट्रीय मैराथन 2021का होगा आयोजन; आनलाइन पंजीयन के लिए क्लिक करें........ (पंजीयन की अंतिम तिथि - 25 फरवरी 2021)

अबूझमाड़ महोत्सव- तृतीय अंतर्राष्ट्रीय मैराथन 2021, 27 फरवरी 2021 को जिला मुख्यालय, नारायणपुर में आयोजित होगी, यह मैराथन अबूझमाड़ में शांति स्थापित करने के उद्देश्य से आयोजित की जाती है। जो इस वर्ष हाई स्कूल मैदान, नारायणपुर से बासिंग तक 21 किलोमीटर (हाफ मैराथन) का आयोजन किया जा रहा है। यह स्थान प्राकृतिक सुंदरता, वन, झरना और विशालकाय पर्वत श्रृंखलाओं से ओतप्रोत है।

उल्लेखनीय है कि यह मैराथन बस्तर का एकलौता और बड़ा अंतर्राष्ट्रीय मैराथन है जो अबुझमाड़ और बस्तर को विश्वस्तर पर ख्याति दिलाने में कारगर साबित हो रहा है, इस अंतर्राष्ट्रीय मैराथन में देश के प्रसिद्ध हस्तियां भी शामिल हो रहे हैं, विजयी प्रतिभागियों को माननीय मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल द्वारा पुरस्कृत किया जाएगा। इस मैराथन में महिला और पुरूष दोनो वर्ग के लिए पृथक-पृथक 05 पुरस्कार क्रमशः 1 लाख 21 हजार रूपये, 61 हजार रूपये, 31 हजार रूपये, 21 हजार रूपये और 11 हजार रूपये रखा गया है। मैराथन में शामिल होने वाले धावकों/प्रतिभागियों के लिए जिला प्रशासन और पुलिस प्रशासन, नारायणपुर द्वारा ठहरने और भोजन की निःशूल्क व्यवस्था उपलब्ध करायी जा रही है।

उल्लेखनीय है कि यह मैराथन जिला प्रशासन, पुलिस प्रशासन और स्थानीय प्रशासन द्वारा सामाजिक संगठनों, पंजीकृत/गैर-पंजीकृत समितियों, पत्रकार साथियों, व्यापारिक संस्थानों और गणमान्य नागरिकों के सहयोग से आयोजित बस्तर का सबसे बड़ा मैराथन है जो विगत 03 वर्षों से हर साल पूरे उत्साह के साथ नारायणपुर में आयोजित किया जा रहा है। विगत वर्षों में हर साल 5 हजार से अधिक लोगों ने इस मैराथन में शामिल होकर आयोजन को सफल बनाने में अपना अहम योगदान दिया है, जिसमें देश-विदेश के धावक भी शामिल हैं।

(पंजीयन की अंतिम तिथि - 25 फरवरी 2021) 
अबूझमाड़ महोत्सव- तृतीय अंतर्राष्ट्रीय मैराथन में भाग लेने के लिए अपना आनलाईन नामांकन आज ही भरें, आनलाईन नामांकन भरने के लिए यहां क्लिक करें, क्लिक करने पर मैराथन का वेबसाईड खुलेगा, जिसमें फार्म भरना अनिवार्य है।
Share:

नारायणपुर प्रवास के दौरान मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने मितान पुलिस पेट्रोल पंप का किया उदघाटन और डीआरजी के जवानों से मिलकर किया उनका हौसला अफजाई

श्री भूपेश बघेल दिनांक 9 जनवरी और 10 जनवरी 2021 को नारायणपुर जिला के प्रवास पर रहे, इस दौरान दिनांक 09 जनवरी 2021 को उन्होंने श्री मोहित गर्ग, पुलिस अधीक्षक, नारायणपुर के निर्देशन में तैयार "सुना गोठ - अबूझमाड़ के संगवारी" (हल्बी, गोंडी और छत्तीसगढ़ी बोली में, एल्बम) श्रीमती जागृति डी के निर्देशन और श्री मोहित गर्ग पुलिस अधीक्षक नारायणपुर के संकल्पना पर आधारित डॉक्यूमेंट्री "एक्सप्लोरिंग अबूझमाड़ - द लार्जेस्ट अनसर्वेड एरिया ऑफ इंडिया" नारायणपुर पुलिस द्वारा राकेश डांस क्रू के सहयोग से तैयार शॉर्ट फिल्म "पूना डेरा - Surrender", "मुखबीर - Police Informer",  "विस्फोट - Blast of Fear" और "विकास- Need of Development" तथा "गोंडी से हिंदी - शब्दकोश" का विमोचन किया। उन्होने कहा बस्तर से बाहर के जो अधिकारी/कर्मचारी बस्तर में सेवा और निवास के लिए आते हैं उनके लिए यह शब्दकोश अत्यंत उपयोगी साबित होगा। तत्पश्चात उन्होंने शासकीय स्कूल परिसर में नारायणपुर जिला प्रशासन के सहयोग से नारायणपुर पुलिस द्वारा संचालित देश के सबसे बड़े मलखम्ब खेल ग्राउंड का उद्घाटन किया, श्री बघेल ने मलखम्ब खिलाड़ी बच्चों के मलखम्ब प्रदर्शन को देखकर खिलाड़ी बच्चों को अपनी शुभकामनाएं देते हुए इन्हें राज्य के गौरव बढ़ाने के लिए खेल के मूल सिद्धांतों से बच्चों को अवगत कराया। ज्ञातव्य हो कि नारायणपुर पुलिस द्वारा पुलिस जवान श्री मनोज प्रसाद जो मलखम्ब प्रशिक्षक हैं के अधीन मलखम्ब प्रशिक्षण केन्द्र की शुरूआत कराया गया, जिसे अब जिला प्रशासन और राज्य सरकार का भी सहयोग प्राप्त होने लगा है। इस प्रशिक्षण केन्द्र में वर्तमान में लगभग 120 प्रशिक्षणार्थी प्रशिक्षण प्राप्त कर रहें हैं, जल्द ही यह प्रशिक्षण केन्द्र देश के सबसे बडे मलखम्ब प्रशिक्षण केन्द्र के रूप में विकसित हो सकता है। श्री मनोज प्रसाद के नेतृत्व में अलग-अलग केटेगरी में 8गोल्ड मेडल प्राप्त कर  वर्ष- 2020 में छत्तीसगढ़ के खिलाडी देश में प्रथम रेंकिंग में हैं। राजेश कोर्राम (9वर्ष) आल इंडिया इन्विटेशन मलखम्ब चैम्पियन शीप, प्रतापपुर (अम्बिकापुर) के ओपन केटेगरी में गोल्ड मेडल प्राप्त किये जो छत्तीसगढ़ और अबुझमाड का प्रथम गोल्डमेडलिस्ट है। सभी 8 गोल्डमेडलिस्ट बच्चे खिलाडी अबुझमाड के मूल निवासी हैं। 

उल्लेखनीय है कि श्री मोहित गर्ग, पुलिस अधीक्षक, नारायणपुर के निर्देशन में तैयार ‘‘सुना गोठ - अबुझमाड के संगवारी एल्बम नारायपुर पुलिस के जवानों और राकेट डांस क्रु द्वारा संयुक्त रूप से तैयार किया गया है इस एल्बम के गाने हल्बी, गोंडी और छत्तीसगढ़ी बोली में रिकार्ड किये गये हैं। सुना गोठ आडियो एल्बम में कुल 05 गाने हैं ये गीत (01) करा समर्पण - हल्बी के माध्यम से स्थानीय युवाओं और बालकों को किस प्रकार से जबरदस्ती नक्सली बना लिया जाता है और उन्हें अमानवीय हिंसा के लिए कितना प्रताड़ित किया जाता है तथा उन्हें अपने बडे नक्सली लीडर का कितना अधिक गुलामी करना पडता है, इसका फिल्मांकन किया गया है। इस गीत के माध्यम से दिखाया गया है कि अत्यधिक क्रुर नक्सली बनने के बाद भी उन्हें प्रेम, शिक्षा, सम्मान, स्वाभिमान और मानव अधिकारों से वंचित होकर दहशत और किल्लत भरे जीवन जीने को मजबूर रहना पडता है। (02) सुना काय दादा दीदी - हल्बी में (03) प्रशासन करे दे सुरक्षा - हल्बी में (04) वाय निमा वाय बाबा - गोंडी में और (05) बस्तर के माटी महान - छत्तीसगढी में रिकार्डेड है। उल्लेखनीय है कि ‘‘करा समर्पण’’ हल्बी गीत का विडियो वर्जन अभी हाल ही में रिलिज किया गया है, जो लम्बे दिनों तक सोशल मीडिया में ट्रेण्ड करता रहा शेष गाने का विडियो वर्जन की रिकार्डिग चल रही है। वहीं श्रीमती जागृति डी के निर्देशन और श्री मोहित गर्ग, पुलिस अधीक्षक नारायणपुर के संकल्पना पर आधारित डाक्यूमेंट्री ‘‘एक्सप्लोरिंग अबुझमाड’’ - द लार्जेस्ट अनसर्वेड एरिया आफ इंडिया नारायणपुर पुलिस द्वारा तैयार किया गया है। इस डाक्यूमेंट्री के माध्यम से जनजातीय जीवन के सुंदरता जिसमें खासकर मारिया, मुरिया, गोड और हल्बा के परम्पराओं, संस्कृति और नैतिक मूल्यों को बखुबी से दिखाया गया है। इसके अंतर्गत जहां एक ओर नारायणपुर में लगने वाले हाट बाजार, मुर्गा लडाई और यहां के आम जन जीवन पर आधारित स्कील्स को दिखाया गया है तो वहीं नक्सल अभियान में तैनात जवानों के कार्य पद्धिति और दिनचर्या को भी दिखाने का प्रयास किया गया है। बस्तर संभाग में अपने औषधी गुणों के लिए प्रचलित खाद्य एवं पेय पदार्थ जैसे चापडा चटनी और सल्फी ताडी को भी दिखाया गया है। पुलिस प्रशासन के विशेष योगदान से नारायणपुर अब उन्नत और विकसित हो रहा है, कुछ दशकों पूर्व सडक, स्कूल और स्वास्थ्य के मामले में सबसे पिछडा नारायणपुर अब अपने प्राकृतिक सौन्दर्य, सैकडों पर्वत श्रृंखला, नदियों और दर्जनों झरना को पर्यटन के स्वरूप को विश्व पटल में ख्याति दिलाने तथा पर्यटकों को भयमुक्त माहौल देने की ओर अग्रसर है, यह डाक्यूमेंट्री ट्रेवलिंग गाईड के रूप में भी तैयार किया गया है। नारायणपुर पुलिस द्वारा राकेश डांस क्रू के सहयोग से तैयार शॉर्ट फिल्म पुना-डेरा : Surrender के माध्यम से बस्तर के नक्सल-प्रभावित इलाकों में भटके हुए नौजवान जो नक्सली बन गए उन्हें मुख्यधारा में वापस लौटने तथा सरेंडर करने के लिए प्रेरित किया गया है। शॉर्ट फिल्म मुखबीर : Police Informer के माध्यम से दिखाने का प्रयास किया गया है कि किस प्रकार से नक्सली लोगों को गुमराह करके धोखा देकर पुलिस के मुखबीर होने का झूठा आरोप लगाकर युवा, छात्रों, व्यवसायी और किसानों को मौत के घाट उतार देते हैं। इसके माध्यम से बताने का प्रयास किया गया है कि कैसे नक्सली लीडर लूट पाट और हिंसा का मार्ग अपनाकर लोगों को अच्छे जीवन जीने से रोकने के लिए भयभीत करते हैं। शॉर्ट फिल्म विस्फोट : Blast of Fear के माध्यम से दिखाया गया है कि बस्तर में नक्सली किस तरह से आम नागरिकों जीवन का भय दिखाकर सरकार और पुलिस के खिलाफ काम करने को मजबूर करते हैं; जो लोग उनके आपराधिक षड्यंत्र और हिंसा में भाग नही लेते उन्हें कैसे ये लोग मार देते हैं और उनके परिवारों को भी प्रताड़ित करते हैं तथा शार्ट फिल्म विकास : Need of Development के माध्यम से बस्तर के आम नागरिकों के मानव अधिकारों के लिए क्षेत्र का विकास कितना आवश्यक है इसे बताने का प्रयास किया है साथ ही यह भी दिखाने का प्रयास किया गया है कि पुलिस-प्रशासन के द्वारा उनके लिए आवश्यक संसाधनों को मुहैया कराया जा रहा है।

मंचीय कार्यक्रम के बाद श्री बघेल द्वारा नारायणपुर पुलिस द्वारा तैयार "मितान पुलिस पेट्रोल पंप" का उदघाटन किया गया, उन्होंने पुलिस अधीक्षक श्री गर्ग को निर्देशित किया कि इस पेट्रोल पंप में नक्सली पीड़ित परिवार के ही महिला सदस्यों को रोजगार में रखा जावे तथा महिला पुलिस अधिकारियों द्वारा ही पेट्रोल पंप का संचालन हो। श्री बघेल ने घोषणा किया कि मितान पुलिस पेट्रोल पंप के किनारे जो खाली जगह है उसमें दुकान बनाया जाकर उस दुकान को स्थानीय स्व-सहायहता समुह को दिए जाएंगे ताकि वे अपने संस्था द्वारा निर्मित प्रोडक्ट्स/सामग्रियों को बेच कर आत्मनिर्भर हो सकेंगे। मुख्यमंत्री श्री बघेल ने आईजी बस्तर श्री पी सुन्दरराज और श्री माहित गर्ग, पुलिस अधीक्षक नारायणपुर के तारिफ करते हुए कहा कि यह पेट्रोल पंप महिलाओं का सशक्त बनाएगी। 

"मितान पुलिस पेट्रोल पंप" के उदघाटन के बाद श्री बघेल DRG हाल में ITBP, BSF, CAF, DEF और DRG के जवानों से मिलकर उनके हौसला अफजाई किया तथा उनके कार्यों की सराहना भी किया। उल्लेखनीय है कि नारायणपुर जिला में यह पहला अवसर है जब राज्य के मुख्यमंत्री डीआरजी के महिला जवानों से उनके टेबल में बैठकर उनसे बातचीत की तथा उनकी समस्याओं को जाना। श्री बधेल ने जवानों को उपहार भी दिया और नक्सल क्षेत्र में स्वस्थ्य निरोगी रहकर कैसे नक्सलियों का सामना कर सकते हैं इस पर जवानों को टिप्स दिए।

Related Images :







 

 























Share:

नया साल के नये संकल्प.................... नया साल 2021 में क्या-क्या लें संकल्प??

आदरणीय/आदरणीया
सबले पहिली आपमन ल नवा बछर के अंतल ले बधई अउ सुभकामना। नवा बछर 2021 आपके जिगनी म उजियारा लेके आवय, आप अपन जीनगी भर सफल अउ शांतिपूर्ण जिनगी जीयव, आप स्वस्थ अउ निरोगी रहव ...... एहि शुभकाना के संगे-संग एक बार फेर नवा बछर के गंज बकन बधाई हुलेश्वर जोशी

आइए नये साल में कुछ ऐसे संकल्प लें कि हम, सुखमय, सफलतम और दीघार्य जीवन का भरपूर आनंद ले सकें:-
ऽ मैं सकल्प लेता/लेती हूं कि मैं जीवन पर्यंत सर्वोत्तम मानव व्यवहार को अपने जीवन में शामिल करूंगा/करूंगी।
ऽ मैं संकल्प लेता/लेती हूं कि मैं अपने राष्ट्र के संविधान और कानून के दायरे में रहकर श्रेष्ठतम् जीवन शैली को अपनाउंगा/अपनाउंगी, किसी भी स्थिति में इसके विपरित कार्य नही करूंगा/करूंगी और न तो किसी भी अन्य व्यक्ति अथवा समूह के मानव अधिकारों का हनन करूंगा/करूंगी बल्कि दूसरे व्यक्ति और समूह के मानव अधिकारों की रक्षा के लिए भी कार्य करूंगा/करूंगी।
ऽ मैं संकल्प लेता/लेती हूं कि मैं अपने संतान, नजदीकी रिस्तेदारों और दोस्तों को धर्मनिरपेक्ष रहकर दूसरे धर्म के अनुयायी से व्यवहार करने का शिक्षा दूंगा/दूंगी।
ऽ मैं संकल्प लेता/लेती हूं कि किसी भी स्थिति में किसी दूसरे व्यक्ति, समाज अथवा धर्म के लोगों से द्वेष, दुर्भावना अथवा ईष्र्या नही करूंगा/करूंगी। खासकर सामाजिक/धार्मिक नेताओं के बहकावे में आकर जाति, वर्ण या धर्म के आधार पर किसी अन्य मनुष्य से दुर्भावना नही रखूंगा/रखूंगी।
ऽ मै पूरे दूनिया के केवल इंसान ही नहीं वरन् अन्य जीव जन्तुओं और पशु/पक्षियों को भी अपने भाई-बहन के समान ही मानूंगा/मानूंगी।
ऽ मैं संकल्प लेता/लेती हूं कि मैं किसी भी स्थिति में शराब सेवन करने के बाद वाहन ड्रायविंग नही करूंगा/करूंगी, वाहन को नियंत्रित गति में चलाउंगा/चलाउंगी और यातायात नियमों का पालन करूगा/करूंगी। क्योंकि मैं जानता/जानती हूं कुछ महत्वपूर्ण यातायात नियमों का पालन नही करने से मेरी मृत्यु हो सकती है।
ऽ मैं संकल्प लेता/लेती हूं कि मैं सदैव उच्च शिक्षा और स्कील प्राप्त करते रहने का यत्न करूंगा/करूंगी।
ऽ मैं संकल्प लेता/लेती हूं कि मैं किसी भी स्थिति में सोशल मीडिया में शेयर होने वाले ऐसे संदेश को फारवर्ड नही करूंगा/करूंगी जिससे धार्मिक उन्माद पैदा होने अथवा किसी व्यक्ति/वर्ग के धार्मिक भावना को आघात पहुंचना संभावित हो।
ऽ मैं संकल्प लेता/लेती हूं कि वर्तमान में हो रहे आर्थिक धोखाधडी का शिकार होने से बचकर रहूंगा/रहूंगी, क्योंकि मै जानता हूं ऐसे लोग हमें प्रलोभन देकर हमसे हमारी गोपनीय जानकारी और ओटीपी प्राप्त करने पर ही धोखाधडी कर सकेंगे।
Share:


सबसे अधिक बार पढ़ा गया लेख


यह वेबसाइट /ब्लॉग भारतीय संविधान की अनुच्छेद १९ (१) क - अभिव्यक्ति की आजादी के तहत सोशल मीडिया के रूप में तैयार की गयी है।
यह वेबसाईड एक ब्लाॅग है, इसे समाचार आधारित वेबपोर्टल न समझें।
इस ब्लाॅग में कोई भी लेखक/कवि/व्यक्ति अपनी मौलिक रचना और किताब निःशुल्क प्रकाशित करवा सकता है। इस ब्लाॅग के माध्यम से हम शैक्षणिक, समाजिक और धार्मिक जागरूकता लाने तथा वैज्ञानिक सोच विकसित करने के लिए प्रयासरत् हैं। लेखनीय और संपादकीय त्रूटियों के लिए मै क्षमाप्रार्थी हूं। - श्रीमती विधि हुलेश्वर जोशी

प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कैसे करें?

Blog Archive