Sunday, August 05, 2018

सिटीजन काॅप हर नागरिक को पुलिस अधिकारी के रूप में कार्य करने की सुविधा देती है - आईजी दुर्ग

सिटीजन काॅप हर नागरिक को पुलिस अधिकारी के रूप में कार्य करने की सुविधा देती है - आईजी दुर्ग

प्रेसक्लब राजनांदगांव द्वारा आयोजित कार्यक्रम ’प्रेस से मिलिए’ में शामिल हुए आईजी श्री जीपी सिंह

दुर्ग आईजी श्री जीपी सिंह दिनांक 5 अगस्त 2018 को प्रेसक्लब राजनांदगांव द्वारा आयोजित कार्यक्रम ’प्रेस से मिलिए’ में शामिल हुए। ’प्रेस से मिलिए’ कार्यक्रम के दौरान छत्तीसगढ़ पुलिस के मोबाइल एप्लीकेशन सिटीजन कॉप पर विशेष चर्चा हुई जहां उन्होने सिटीजन काॅप के उपयोग एवं वर्तमान परिदृश्य में सिटीजन काॅप की उपयोगिता से मीडिया साथियों को रूबरू कराया। उन्होंने सिटीजन काॅप की उपयोगिता बताते हुए कहा कि ’यह एप्लीकेशन हर नागरिक को पुलिस अधिकारी के रूप में कार्य करने की सुविधा देती है।’  कार्यक्रम के दौरान श्री सिंह ने कहा कि ’मैं मानता हूं कि प्रेस के माध्यम से प्राप्त सूचनाएं सही होती है।’ इसलिए मेरी अपेक्षा मीडिया साथियों से है कि वे अपराध मुक्त राज्य की स्थापना में अपना अमूल्य योगदान दें। 

उन्होनें बताया कि सिटीजन कॉप में आमनागरिकों से सारगर्भित सूचनाएं/शिकायतें प्राप्त हो रही है। चूंकि यह एप्प आम नागरिकों के पहचान की गोपनीयता पर आधारित है इसलिए अब आम नागरिक भी अपराधियों के खिलाफ पुलिस को सूचनाएं देने के लिए आगे आ रहे हैं। 

श्री सिंह ने आगे बताया कि "सिटीजन काॅप एप्लीकेशन broken window theory पर कार्य करती है।" क्योंकि आम नागरिक बडे अपराधों से नही वरन् छोटे-छोटे अपराधों से अत्यधिक परेशान है, यदि छोटे अपराधियों पर त्वरित कार्यवाही करते हुए प्रतिबंध लगा लें तो बडी अपराध घटित ही नही होगी। सही समय पर अपराधिक तत्वों पर कार्यवाही नही होने से ही ऐसे तत्व की मनोबल बढता और आगे बडे-बडे अपराधिक घटनाओं को अंजाम देने में सक्षम होता चला जाता है।
Share:

0 टिप्पणियाँ:

Post a Comment

"करा समर्पण" हल्बी गीत

यह वेबसाइट /ब्लॉग भारतीय संविधान की अनुच्छेद १९ (१) क - अभिव्यक्ति की आजादी के तहत सोशल मीडिया के रूप में तैयार की गयी है।
यह वेबसाईड एक ब्लाॅग है, इसे समाचार आधारित वेबपोर्टल न समझें।
इस ब्लाॅग में कोई भी लेखक/व्यक्ति अपनी मौलिक पोस्ट प्रकाशित करवा सकता है। इस ब्लाॅग के माध्यम से हम शैक्षणिक, समाजिक और धार्मिक जागरूकता लाने तथा वैज्ञानिक सोच विकसित करने के लिए प्रयासरत् हैं। लेखनीय और संपादकीय त्रूटियों के लिए मै क्षमाप्रार्थी हूं। - श्रीमती विधि हुलेश्वर जोशी

सबसे अधिक बार पढ़ा गया लेख