"जीवन बचाओ मुहिम"

हत्यारा और मांसाहार नहीं बल्कि जीवों की रक्षा करने वाला बनो।

शनिवार, दिसंबर 18, 2021

गुरू घासीदास जयंती विशेषांक: गुरु घासीदास बाबा के सात सिद्धांत और प्रचलित 42 अमृतवाणी (उपदेश)

गुरू घासीदास जयंती विशेषांक: गुरु घासीदास बाबा के सात सिद्धांत और प्रचलित 42 अमृतवाणी (उपदेश)
संकलन: श्री हुलेश्वर जोशी

"धार्मिक होये के (सतनामियत दिखाए के) लाख उदिम कर लेवव फेर कहूँ तुमन गुरु घासीदास बाबा के बताए रसदा म नई चलहू त फेर तुहर सतनामी होय के कोनों फायदा नई हे। अइसनहा चरित्तर ह दिखावा अऊ ढोंग ले बढ़के काहीं नोहे।" - स्वर्गीय श्री मालिकराम जोशी 

गुरु घासीदास के सात सिद्धांत -
1- सतनाम पर अडिग विश्वास रखो।
2 - मूर्ति पूजा मत करो।
3 - जाति-पाती के प्रपंच में मत पडो।
4 - जीव हत्या मत करो।
5 - नशा का सेवन मत करो।
6 - पराई स्त्री को माता-बहन मानो।
7 - चोरी और जुआ से दूर रहव।

गुरु घासीदास बाबा के प्रचलित 42 अमृतवाणी (उपदेश) -
1 - सत ह मनखे के गहना आय। (सत्य ही मानव का आभूषण है।)
2 - जन्म से मनखे मनखे सब एक बरोबर होथे फेर कर्म के आधार म मनखे मनखे गुड अऊ गोबर होथे। (मनखे-मनखे एक बरोबर)
3- सतनाम ल जानव,समझव, परखव तब मानव।
4 - बइला-भईसा ल दोपहर म हल मत चलाव।
5 - सतनाम ल अपन आचरण में उतारव।
6 - अंधविश्वास, रूढ़िवाद, परंपरावाद ल झन मानव।
7 - दाई-ददा अउ गुरू के सनमान करिहव।
8 - सतनाम ह घट घट में समाय हे, सतनाम ले ही सृष्टि के रचना होए हावय।
9 - मेहनत के रोटी ह सुख के आधार आय।
10 - पानी पीहु जान के अउ गुरू बनावव छान के।
11 - मोर ह सब्बो संत के आय अउ तोर ह मोर बर कीरा ये। (चोरी अउ लालच झन करव।)
12- पहुना ल साहेब समान जानिहव।
13 - इही जनम ल सुधारना साँचा ये। (पुनर्जन्म के गोठ झूठ आय।)
14 - गियान के पंथ किरपान के धार ये।
15 - दीन दुःखी के सेवा सबले बड़े धरम आय।
16 - मरे के बाद पीतर मनई मोला बईहाय कस लागथे। पितर पूजा झन करिहौ, जीते-जियात दाई ददा के सेवा अऊ सनमान करव। 
17 - जतेक हव सब मोर संत आव।
18 - तरिया बनावव, कुआँ बनावव, दरिया बनावव फेर मंदिर बनई मोर मन नई आवय। ककरो मंदिर झन बनाहू।  
19 - रिस अउ भरम ल त्यागथे तेकरे बनथे।
20 - दाई ह दाई आय, मुरही गाय के दुध झन निकालहव।
21 - बारा महीना के खर्चा सकेल लुहु तबेच भले भक्ति करहु नई ते ऐखर कोनो जरूरत नई हे।
22 - ये धरती तोर ये येकर सिंगार करव।
23 - झगरा के जर नइ होवय ओखी के खोखी होथे।
24 - नियाव ह सबो बर बरोबर होथे।
25 - मोर संत मन मोला काकरो ल बड़े कइही त मोला सूजगा मे हुदेसे कस लागही।
26 - भीख मांगना मरन समान ये न भीख मांगव न दव, जांगर टोर के कमाए ल सिखव।
27 - सतनाम ह जीवन के आधार आय।
28 - खेती बर पानी 
अऊ संत के बानी ल जतन के राखिहव।
29 - पशुबलि अंधविश्वास ये एला कभू झन करहु।
30 - जान के मरइ ह तो मारब आएच आय फेर कोनो ल सपना म मरई ह घलो मारब आय।
31 - अवैया ल रोकन नहीं अऊ जवैया ल टोकन झन।
32 - चुगली अऊ निंदा ह घर ल बिगाडथे।
33 - धन ल उड़ावव झन, बने काम में लगावव।
34 - जीव ल मार के झन खाहु।
35 - गाय भैंस ल नागर म झन जोतहु।
36 - मन के स्वागत ह असली स्वागत आय।
37 - जइसे खाहु अन्न वैसे बनही मन, जइसे पीहू पानी वइसे बोलहु बानी।
38 - एक धुबा मारिच तुहु तोर बराबर आय।
39 - काकरो बर काँटा झन बोहु।
40 - बैरी संग घलो पिरीत रखहु।
41 - अपन आप ल हीनहा अउ कमजोर झन मानहु, तहु मन काकरो ले कमती नई हावव।
42 - मंदिरवा म का करे जईबो अपन घट के ही देव ल मनईबो।

【श्री हुलेश्वर जोशी, लेखक, दार्शनिक एवम वरिष्ठ समाजसेवक द्वारा जनहित में प्रचारित।】

4 टिप्‍पणियां:

  1. Ky ap mujhe btayenge ki bkri chrana pap h ky ya hmamre smaj ke khilaf h..... Jay stnam

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. नहीं, मगर बकरी को हत्या के लिए बेचना और हत्या करना सामाजिक सिद्धांत के खिलाफ जरूर है ।

      हटाएं
  2. Haryana Satnami samaj se जोड़ते है ये गलत है क्योंकि हरियाणा में रहा हूं आज तक कोई सतनामी नही मिला । नही हमारा समाज शुद्र आता था।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. Bhai sahab vanha ke log saadh satnami hai jo ki hamara hi samaj hai

      हटाएं

अभी खरीदें 23% की छूट पर VIVO 5G मोबाइल

महत्वपूर्ण एवं भाग्यशाली फ़ॉलोअर की फोटो


Recent Information and Article

Satnam Dharm (सतनाम धर्म)

Durgmaya Educational Foundation


Must read this information and article in Last 30 Day's

पुलिस एवं सशस्त्र बल की पाठशाला

World Electro Homeopathy Farmacy


"लिख दूँ क्या ?" काव्य संग्रह

"लिख दूँ क्या ?" काव्य संग्रह
Scan or Click on QR Code for Online Reading Book

WWW.THEBHARAT.CO.IN

Important Notice :

यह वेबसाइट /ब्लॉग भारतीय संविधान की अनुच्छेद १९ (१) क - अभिव्यक्ति की आजादी के तहत सोशल मीडिया के रूप में तैयार की गयी है।
यह वेबसाईड एक ब्लाॅग है, इसे समाचार आधारित वेबपोर्टल न समझें।
इस ब्लाॅग में कोई भी लेखक/कवि/व्यक्ति अपनी मौलिक रचना और किताब निःशुल्क प्रकाशित करवा सकता है। इस ब्लाॅग के माध्यम से हम शैक्षणिक, समाजिक और धार्मिक जागरूकता लाने तथा वैज्ञानिक सोच विकसित करने के लिए प्रयासरत् हैं। लेखनीय और संपादकीय त्रूटियों के लिए मै क्षमाप्रार्थी हूं। - श्रीमती विधि हुलेश्वर जोशी

प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कैसे करें?

Blog Archive

मार्च २०१७ से अब तक की सर्वाधिक वायरल सूचनाएँ और आलेख