Friday, June 21, 2019

अंतरराष्ट्रीय योगा दिवस पर पुलिस ने किया योगाभ्यास, व्हीआईपी सुरक्षा वाहिनी, 4थी बटालियन छत्तीसगढ़ सशस्त्र बल और 20वीं वाहिनी छत्तीसगढ़ सशस्त्र बल के लगभग 300 अधिकारी/कर्मचारी हुए शामिल

अंतरराष्ट्रीय योगा दिवस पर पुलिस ने किया योगाभ्यास, व्हीआईपी सुरक्षा वाहिनी, 4थी बटालियन छत्तीसगढ़ सशस्त्र बल और 20वीं वाहिनी छत्तीसगढ़ सशस्त्र बल के लगभग 300 अधिकारी/कर्मचारी हुए शामिल


अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के अवसर पर व्हीआईपी सुरक्षा वाहिनी, 4थी बटालियन छत्तीसगढ़ सशस्त्र बल और 20वीं वाहिनी छत्तीसगढ़ सशस्त्र बल के लगभग 300 अधिकारी/कर्मचारियों ने 4थी वाहिनी के परेड ग्राउंड में योगाभ्यास किया। योगाभ्यास में व्हीआईपी सुरक्षा वाहिनी के सेनानी श्री मनोज कुमार खिलारी, 4थी वाहिनी के सेनानी श्री रामकृष्ण साहू, सहायक सेनानी श्री विनय भास्कर और सहायक सेनानी श्री जावेद अहमद अंसारी उपस्थित रहकर शामिल हुए। योग की शुरुआत ईश्वर की प्रार्थना से किया गया और योगाभ्यास का समापन अल्लाह का आभार प्रकट करते हुए किया गया। योग शिक्षक एपीसी श्री जयंत पाल ने सभी अधिकारी/कर्मचारियों को योग कराया और योग के फायदे और कायदे के बारीकियों से संबंधित टिप्स दिए।

इस दौरान व्हीआईपी सुरक्षा वाहिनी माना के सेनानी श्री मनोज कुमार खिलारी सर ने जवानों को संबोधित करते हुए कहा ‘‘हम भारतीय योग के जनक है, हमारे महर्षियों ने योग के माध्यम से हमें स्वस्थ, निरोगी और खुश रहने की कला सीखाया है।’’ भारत सरकार के प्रयास से 21 जून 2015 से अंतरराष्ट्रीय स्तर सभी राष्ट्र ने योग को जीवन के लिए महत्वपूर्ण मानते हुए अंतरराष्ट्रीय योग दिवस मानना शुरू किया है। उन्होंने जवानों से आह्वान किया कि वे स्वस्थ रहने के लिए योग को अपने दिनचर्या में शामिल करें।

4थी वाहिनी छत्तीसगढ सशस्त्र बल माना रायपुर के सेनानी श्री रामकृष्ण साहू सर ने जवानों संबोधित करते हुए कहा कि वे अपने दिनचर्या में पी. टी. के साथ योगा और खेल को शामिल करें, इसके लिए इकाई स्तर पर सभी प्रकार के सुविधाएं मुहैया कराया जाएगा।

----


Related Images - 






Share:

Fight With Corona - Lock Down

Popular Information

यह वेबसाइट /ब्लॉग भारतीय संविधान की अनुच्छेद १९ (१) क - अभिव्यक्ति की आजादी के तहत सोशल मीडिया के रूप में तैयार की गयी है।
यह वेबसाईड एक ब्लाॅग है, इसे समाचार आधारित वेबपोर्टल न समझें।
इस ब्लाॅग में कोई भी लेखक/व्यक्ति अपनी मौलिक पोस्ट प्रकाशित करवा सकता है। इस ब्लाॅग के माध्यम से हम शैक्षणिक, समाजिक और धार्मिक जागरूकता लाने तथा वैज्ञानिक सोच विकसित करने के लिए प्रयासरत् हैं। लेखनीय और संपादकीय त्रूटियों के लिए मै क्षमाप्रार्थी हूं। - श्रीमती विधि हुलेश्वर जोशी

Most Information