Sunday, February 18, 2018

पूजा पचिस्ठा के नवा तरीका .....

पूजा पचिस्ठा के नवा तरीका .....

हे भगवान मोर रक्षा करबे, जिनगी ह भारी आर्थिक संकट ले गुजरत हे ............।
अरे तय कहां चल दे ओ, दे तो माचिस ल लइकामन कहां रख देहे।
मोर गोड म कभु काटा झन गड़य भले दूसर के गोड म खीला गड जावय, परोसी ह बड़े आदमी बनत हे ओला घटा के कुछ मोला देदे।
अरे माचिस मांगे हावव कहां मर गे! ओ ...........

एले काकर फोन आगे, पूजा घलो म बाधा!लातो मोर मोबाइल ल काखर फोन आगे, वो सारा बेटा xxxx होहि, 2महीना होंगे ₹5000 वापिस नई करे है। अउ फेर ₹25000 मंगत हे, xxxx होहि त कहि देबे मय मोबाइल ल भूल गे हावव।
हे भगवान मोर परोसी के लइका मन भारी हो हल्ला करथें, थोरकुन लइका मन ल बुध्दि देहव।
पूजा समाप्त .... बिना अगरबत्ती जलाए।

Share:

Popular Information

यह वेबसाइट /ब्लॉग भारतीय संविधान की अनुच्छेद १९ (१) क - अभिव्यक्ति की आजादी के तहत सोशल मीडिया के रूप में तैयार की गयी है।
यह वेबसाईड एक ब्लाॅग है, इसे समाचार आधारित वेबपोर्टल न समझें।
इस ब्लाॅग में कोई भी लेखक/व्यक्ति अपनी मौलिक पोस्ट प्रकाशित करवा सकता है। इस ब्लाॅग के माध्यम से हम शैक्षणिक, समाजिक और धार्मिक जागरूकता लाने तथा वैज्ञानिक सोच विकसित करने के लिए प्रयासरत् हैं। लेखनीय और संपादकीय त्रूटियों के लिए मै क्षमाप्रार्थी हूं। - श्रीमती विधि हुलेश्वर जोशी

Most Information