Friday, February 23, 2018

विभागीय जाॅच के दौरान नैसर्गिक न्याय के सिद्धांतों का पालन हो - आईजी दुर्ग


विभागीय जाॅच के दौरान नैसर्गिक न्याय के सिद्धांतों का पालन हो - आईजी दुर्ग 

श्री जी.पी. सिंह, पुलिस महानिरीक्षक, दुर्ग रेंज द्वारा दिनांक 23.02.2018 को जिला दुर्ग में लंबित विभागीय जांच प्रकरणों के त्वरित निराकरण के संबंध में जिले के समस्त विभागीय जाॅचकर्ता अधिकारियों की मीटिंग आयोजित कर निम्नानुसार निर्देश दिए गए:-

आईजी दुर्ग द्वारा लंबित विभागीय जांच की समीक्षा करते हुए विभागीय जांच में होने वाली व्यवहारिक त्रुटियों की ओर ध्यान आकृष्ट करते हुए विभागीय जांच में रही समस्याओं/दिक्कतों की जानकारी हासिल कर जाॅच एवं निराकरण के प्रभावी तरीके अपनाने के टिप्स दिए।

विभागीय जाॅच के दौरान नैसर्गिक न्याय के सिद्धांतों का पालन करते हुए अपचारी पुलिसकर्मी को अपना पक्ष रखने का अवसर देने तथा जाॅच के दौरान संबंधित नियमों का पालन करते हुए एक निश्चित समयावधि के भीतर विभागीय जांच को पूर्ण करने का लक्ष्य दिया गया। असहयोगात्मक रवैय्या अपनाने वाले अपचारी पुलिसकर्मियों के विरूद्ध पुलिस रेग्युलेशन में निहित प्रावधान के तहत नियमानुसार एकपक्षीय कार्यवाही करने हेतु निर्देशित किया गया।

श्री जी.पी. सिंह द्वारा बताया गया कि ‘‘रेंज अधीन जिलों में लंबित विभागीय जांच को त्वरित गति देने के लिए रेंज अधीन जिलों के विभागीय जांचकर्ता अधिकारियों की एक अभियान के रूप में जिलावार बैठक ली जायेगी तथा समय-समय पर विभागीय जाॅच प्रगति की नियमित रूप से समीक्षा की जायेगी।’’

Share:

प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कैसे करें?


यह वेबसाइट /ब्लॉग भारतीय संविधान की अनुच्छेद १९ (१) क - अभिव्यक्ति की आजादी के तहत सोशल मीडिया के रूप में तैयार की गयी है।
यह वेबसाईड एक ब्लाॅग है, इसे समाचार आधारित वेबपोर्टल न समझें।
इस ब्लाॅग में कोई भी लेखक/व्यक्ति अपनी मौलिक पोस्ट प्रकाशित करवा सकता है। इस ब्लाॅग के माध्यम से हम शैक्षणिक, समाजिक और धार्मिक जागरूकता लाने तथा वैज्ञानिक सोच विकसित करने के लिए प्रयासरत् हैं। लेखनीय और संपादकीय त्रूटियों के लिए मै क्षमाप्रार्थी हूं। - श्रीमती विधि हुलेश्वर जोशी

सबसे अधिक बार पढ़ा गया लेख