Wednesday, October 03, 2018

दोपहिया वाहन चलाते समय हेलमेट नही पहनने वाले पुलिसकर्मियो के खिलाफ होगी कडी कार्यवाही, आईजी का फरमान

दोपहिया वाहन चलाते समय हेलमेट नही पहनने वाले पुलिसकर्मियो के खिलाफ होगी कडी कार्यवाही, आईजी का फरमान


आईजी दुर्ग का फरमान, पुलिसकर्मी भी पहनेंगे हेलमेट

लाईफ का कोई ‘रि-सेट’ बटन नहीं होता है, प्रत्येक व्यक्ति का जीवन अमूल्य है : जी.पी. सिंह

दोपहिया वाहन चालन के दौरान हेलमेट न पहनने के कारण वाहन दुर्घटनाओं में पुलिसकर्मियों की आकस्मिक मृत्यु की घटनाओं को श्री जीपी सिंह, पुलिस महानिरीक्षक, दुर्ग रेंज, दुर्ग द्वारा अत्यंत गंभीरता से लिया जाकर विभागीय अधिकारियों/कर्मचारियों के स्तर पर भी हेलमेट पहनने की अनिवार्यता को सख्ती से लागू करने का निर्देष रेंज के पुलिस अधीक्षकों को दिया गया है। 

रेज पुलिस महानिरीक्षक ने निर्देषित किया है कि दोपहिया वाहन चालन के दौरान हेलमेट की अनिवार्यता सभी के लिए है, अतएव सुनिष्चित किया जावे कि आम जनता के साथ-साथ विभागीय अधिकारी/कर्मचारी के स्तर पर भी इसका सख्ती से पालन हो तथा उल्लंघन की स्थिति में विभागीय अधिकारियों/कर्मचारियों के विरूद्ध भी नियमानुसार कार्यवाही की जावे।


Share:

Fight With Corona - Lock Down

Citizen COP - Mobile Application : छत्तीसगढ़ पुलिस की मोबाईल एप्लीकेशन सिटीजन काॅप डिजिटल पुलिस थाना का एक स्वरूप है, यह एप्प वर्तमान में छत्तीसगढ़ राज्य के रायपुर एवं दुर्ग संभाग के सभी 10 जिले एवं मुंगेली जिला में सक्रिय रूप से लागू है। वर्तमान में राज्य में सिटीजन काॅप के लगभग 1 लाख 35 हजार सक्रिय उपयोगकर्ता हैं जो अपराधमुक्त समाज की स्थापना में अपना योगदान दे रहे है। उल्लेखनीय है कि इस एप्लीकेशन को राष्ट्रीय स्तर पर डिजिटल इंडिया अवार्ड एवं स्मार्ट पुलिसिंग अवार्ड से सम्मानित किया गया है। यहां यह भी उल्लेखनीय है कि इसे शीघ्र ही पूरे देश में लागू किये जाने की दिशा में भारत सरकार विचार कर रही है। अभी सिटीजन काॅप मोबाईल एप्लीकेशन डाउलोड करने के लिए यहां क्लिक करिए - एच.पी. जोशी

लोकप्रिय ब्लाॅग संदेश (Popular Information)

यह वेबसाइट /ब्लॉग भारतीय संविधान की अनुच्छेद १९ (१) क - अभिव्यक्ति की आजादी के तहत सोशल मीडिया के रूप में तैयार की गयी है।
यह वेबसाईड एक ब्लाॅग है, इसे समाचार आधारित वेबपोर्टल न समझें।
इस ब्लाॅग में कोई भी लेखक/व्यक्ति अपनी मौलिक पोस्ट प्रकाशित करवा सकता है। इस ब्लाॅग के माध्यम से हम शैक्षणिक, समाजिक और धार्मिक जागरूकता लाने तथा वैज्ञानिक सोच विकसित करने के लिए प्रयासरत् हैं। लेखनीय और संपादकीय त्रूटियों के लिए मै क्षमाप्रार्थी हूं। - श्रीमती विधि हुलेश्वर जोशी

Recent

माह में सबसे अधिक बार पढ़ा गया लेख