Saturday, November 28, 2020

जिला कलेक्टर और पुलिस अधीक्षक ने किया शांत सरोवर का अवलोकन, जाहिर किया प्रशन्नता ........ जानिए कहाँ है पिकनिक स्पॉट शांत सरोवर?

आज दिनांक 28.11.2020 को जिला कलेक्टर श्री अभिजीत सिंह और पुलिस अधीक्षक श्री मोहित गर्ग ने किया शांत सरोवर का निरीक्षण किया। इस दौरान केरलापाल, खडकागांव और खैराभाट के सरपंच, सचिव और स्थानीय जनप्रतिनिधि सहित सैंकडो ग्रामीण महिला-पुरुष उपस्थित रहे। उल्लेखनीय है कि शांत सरोवर नारायणपुर जिला मुख्यालय से लगभग ७ किलोमीटर दूर खैराभाट नामक गांव में बना है जिसे लम्बे दिनों से बिजली डेम के नाम से जाना जाता रहा है, हाल ही में ग्रामीणों द्वारा इसका नाम शांत सरोवर सुझाया गया है। 

करूणा फाउंडेशन और पुलिस जवानों द्वारा शांत सरोवर के सौन्दर्यीकरण के लिए किये जा रहे श्रमदान का कलेक्टर श्री सिंह द्वारा प्रशंसा किया गया। उन्होने कहा कि करूणा फाउंडेशन और पुलिस के जवानों का कार्य अत्यंत सराहनीय है इनके कार्यों से जहां एक ओर पर्यटन को बढ़ावा मिलेगा वहीं युवाओं को प्रेरणा और स्थानीय लोगों के लिए रोजगार के अवसर भी खुलेंगे। श्री सिंह द्वारा शांत सरोवर में पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए अनेको सुझाव दिया गया और आर्थिक सहयोग की सहमति भी दी गई। आसपास के पंचायत प्रतिनिधियों द्वारा अपने पंचायत और क्षेत्र की विकास हेतु जिला कलेक्टर से कुछ विशेष मांग की गई, जिला कलेक्टर द्वारा संबंधित विभागों द्वारा मांग पूरी करने हेतु निर्देशित किया गया। 

करूणा फाउंडेशन टीम के फाइटर्स और रक्षित निरीक्षक श्री दीपक साव के नेतृत्व में पुलिस के जवानों के द्वारा शांत सरोवर में श्रमदान के माध्यम से रोड का निर्माण, साज-सज्जा और पेंटिग्स की गई तथा सेल्फी पाॅइंट का भी निर्माण किया गया है। नगर सेना के टीम द्वारा कलेक्टर और पुलिस अधीक्षक सहित स्थानीय लोगों को बोटिंग कराते हुए बोटिंग की संभावना तलासने का प्रयास किया गया, ताकि बोटिंग के माध्यम से भी लोगों को रोजगार मिल सके।

Related Images:












Share:

1 comment:

  1. Sir I love narayanpur likha hua hai isk place pe agar yaha ke common language halbi me hamcho narayanpur likhte ho jyada acha lgta🙂

    ReplyDelete


प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कैसे करें?


यह वेबसाइट /ब्लॉग भारतीय संविधान की अनुच्छेद १९ (१) क - अभिव्यक्ति की आजादी के तहत सोशल मीडिया के रूप में तैयार की गयी है।
यह वेबसाईड एक ब्लाॅग है, इसे समाचार आधारित वेबपोर्टल न समझें।
इस ब्लाॅग में कोई भी लेखक/व्यक्ति अपनी मौलिक पोस्ट प्रकाशित करवा सकता है। इस ब्लाॅग के माध्यम से हम शैक्षणिक, समाजिक और धार्मिक जागरूकता लाने तथा वैज्ञानिक सोच विकसित करने के लिए प्रयासरत् हैं। लेखनीय और संपादकीय त्रूटियों के लिए मै क्षमाप्रार्थी हूं। - श्रीमती विधि हुलेश्वर जोशी

सबसे अधिक बार पढ़ा गया लेख