Tuesday, January 12, 2021

नारायणपुर प्रवास के दौरान मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने मितान पुलिस पेट्रोल पंप का किया उदघाटन और डीआरजी के जवानों से मिलकर किया उनका हौसला अफजाई

श्री भूपेश बघेल दिनांक 9 जनवरी और 10 जनवरी 2021 को नारायणपुर जिला के प्रवास पर रहे, इस दौरान दिनांक 09 जनवरी 2021 को उन्होंने श्री मोहित गर्ग, पुलिस अधीक्षक, नारायणपुर के निर्देशन में तैयार "सुना गोठ - अबूझमाड़ के संगवारी" (हल्बी, गोंडी और छत्तीसगढ़ी बोली में, एल्बम) श्रीमती जागृति डी के निर्देशन और श्री मोहित गर्ग पुलिस अधीक्षक नारायणपुर के संकल्पना पर आधारित डॉक्यूमेंट्री "एक्सप्लोरिंग अबूझमाड़ - द लार्जेस्ट अनसर्वेड एरिया ऑफ इंडिया" नारायणपुर पुलिस द्वारा राकेश डांस क्रू के सहयोग से तैयार शॉर्ट फिल्म "पूना डेरा - Surrender", "मुखबीर - Police Informer",  "विस्फोट - Blast of Fear" और "विकास- Need of Development" तथा "गोंडी से हिंदी - शब्दकोश" का विमोचन किया। उन्होने कहा बस्तर से बाहर के जो अधिकारी/कर्मचारी बस्तर में सेवा और निवास के लिए आते हैं उनके लिए यह शब्दकोश अत्यंत उपयोगी साबित होगा। तत्पश्चात उन्होंने शासकीय स्कूल परिसर में नारायणपुर जिला प्रशासन के सहयोग से नारायणपुर पुलिस द्वारा संचालित देश के सबसे बड़े मलखम्ब खेल ग्राउंड का उद्घाटन किया, श्री बघेल ने मलखम्ब खिलाड़ी बच्चों के मलखम्ब प्रदर्शन को देखकर खिलाड़ी बच्चों को अपनी शुभकामनाएं देते हुए इन्हें राज्य के गौरव बढ़ाने के लिए खेल के मूल सिद्धांतों से बच्चों को अवगत कराया। ज्ञातव्य हो कि नारायणपुर पुलिस द्वारा पुलिस जवान श्री मनोज प्रसाद जो मलखम्ब प्रशिक्षक हैं के अधीन मलखम्ब प्रशिक्षण केन्द्र की शुरूआत कराया गया, जिसे अब जिला प्रशासन और राज्य सरकार का भी सहयोग प्राप्त होने लगा है। इस प्रशिक्षण केन्द्र में वर्तमान में लगभग 120 प्रशिक्षणार्थी प्रशिक्षण प्राप्त कर रहें हैं, जल्द ही यह प्रशिक्षण केन्द्र देश के सबसे बडे मलखम्ब प्रशिक्षण केन्द्र के रूप में विकसित हो सकता है। श्री मनोज प्रसाद के नेतृत्व में अलग-अलग केटेगरी में 8गोल्ड मेडल प्राप्त कर  वर्ष- 2020 में छत्तीसगढ़ के खिलाडी देश में प्रथम रेंकिंग में हैं। राजेश कोर्राम (9वर्ष) आल इंडिया इन्विटेशन मलखम्ब चैम्पियन शीप, प्रतापपुर (अम्बिकापुर) के ओपन केटेगरी में गोल्ड मेडल प्राप्त किये जो छत्तीसगढ़ और अबुझमाड का प्रथम गोल्डमेडलिस्ट है। सभी 8 गोल्डमेडलिस्ट बच्चे खिलाडी अबुझमाड के मूल निवासी हैं। 

उल्लेखनीय है कि श्री मोहित गर्ग, पुलिस अधीक्षक, नारायणपुर के निर्देशन में तैयार ‘‘सुना गोठ - अबुझमाड के संगवारी एल्बम नारायपुर पुलिस के जवानों और राकेट डांस क्रु द्वारा संयुक्त रूप से तैयार किया गया है इस एल्बम के गाने हल्बी, गोंडी और छत्तीसगढ़ी बोली में रिकार्ड किये गये हैं। सुना गोठ आडियो एल्बम में कुल 05 गाने हैं ये गीत (01) करा समर्पण - हल्बी के माध्यम से स्थानीय युवाओं और बालकों को किस प्रकार से जबरदस्ती नक्सली बना लिया जाता है और उन्हें अमानवीय हिंसा के लिए कितना प्रताड़ित किया जाता है तथा उन्हें अपने बडे नक्सली लीडर का कितना अधिक गुलामी करना पडता है, इसका फिल्मांकन किया गया है। इस गीत के माध्यम से दिखाया गया है कि अत्यधिक क्रुर नक्सली बनने के बाद भी उन्हें प्रेम, शिक्षा, सम्मान, स्वाभिमान और मानव अधिकारों से वंचित होकर दहशत और किल्लत भरे जीवन जीने को मजबूर रहना पडता है। (02) सुना काय दादा दीदी - हल्बी में (03) प्रशासन करे दे सुरक्षा - हल्बी में (04) वाय निमा वाय बाबा - गोंडी में और (05) बस्तर के माटी महान - छत्तीसगढी में रिकार्डेड है। उल्लेखनीय है कि ‘‘करा समर्पण’’ हल्बी गीत का विडियो वर्जन अभी हाल ही में रिलिज किया गया है, जो लम्बे दिनों तक सोशल मीडिया में ट्रेण्ड करता रहा शेष गाने का विडियो वर्जन की रिकार्डिग चल रही है। वहीं श्रीमती जागृति डी के निर्देशन और श्री मोहित गर्ग, पुलिस अधीक्षक नारायणपुर के संकल्पना पर आधारित डाक्यूमेंट्री ‘‘एक्सप्लोरिंग अबुझमाड’’ - द लार्जेस्ट अनसर्वेड एरिया आफ इंडिया नारायणपुर पुलिस द्वारा तैयार किया गया है। इस डाक्यूमेंट्री के माध्यम से जनजातीय जीवन के सुंदरता जिसमें खासकर मारिया, मुरिया, गोड और हल्बा के परम्पराओं, संस्कृति और नैतिक मूल्यों को बखुबी से दिखाया गया है। इसके अंतर्गत जहां एक ओर नारायणपुर में लगने वाले हाट बाजार, मुर्गा लडाई और यहां के आम जन जीवन पर आधारित स्कील्स को दिखाया गया है तो वहीं नक्सल अभियान में तैनात जवानों के कार्य पद्धिति और दिनचर्या को भी दिखाने का प्रयास किया गया है। बस्तर संभाग में अपने औषधी गुणों के लिए प्रचलित खाद्य एवं पेय पदार्थ जैसे चापडा चटनी और सल्फी ताडी को भी दिखाया गया है। पुलिस प्रशासन के विशेष योगदान से नारायणपुर अब उन्नत और विकसित हो रहा है, कुछ दशकों पूर्व सडक, स्कूल और स्वास्थ्य के मामले में सबसे पिछडा नारायणपुर अब अपने प्राकृतिक सौन्दर्य, सैकडों पर्वत श्रृंखला, नदियों और दर्जनों झरना को पर्यटन के स्वरूप को विश्व पटल में ख्याति दिलाने तथा पर्यटकों को भयमुक्त माहौल देने की ओर अग्रसर है, यह डाक्यूमेंट्री ट्रेवलिंग गाईड के रूप में भी तैयार किया गया है। नारायणपुर पुलिस द्वारा राकेश डांस क्रू के सहयोग से तैयार शॉर्ट फिल्म पुना-डेरा : Surrender के माध्यम से बस्तर के नक्सल-प्रभावित इलाकों में भटके हुए नौजवान जो नक्सली बन गए उन्हें मुख्यधारा में वापस लौटने तथा सरेंडर करने के लिए प्रेरित किया गया है। शॉर्ट फिल्म मुखबीर : Police Informer के माध्यम से दिखाने का प्रयास किया गया है कि किस प्रकार से नक्सली लोगों को गुमराह करके धोखा देकर पुलिस के मुखबीर होने का झूठा आरोप लगाकर युवा, छात्रों, व्यवसायी और किसानों को मौत के घाट उतार देते हैं। इसके माध्यम से बताने का प्रयास किया गया है कि कैसे नक्सली लीडर लूट पाट और हिंसा का मार्ग अपनाकर लोगों को अच्छे जीवन जीने से रोकने के लिए भयभीत करते हैं। शॉर्ट फिल्म विस्फोट : Blast of Fear के माध्यम से दिखाया गया है कि बस्तर में नक्सली किस तरह से आम नागरिकों जीवन का भय दिखाकर सरकार और पुलिस के खिलाफ काम करने को मजबूर करते हैं; जो लोग उनके आपराधिक षड्यंत्र और हिंसा में भाग नही लेते उन्हें कैसे ये लोग मार देते हैं और उनके परिवारों को भी प्रताड़ित करते हैं तथा शार्ट फिल्म विकास : Need of Development के माध्यम से बस्तर के आम नागरिकों के मानव अधिकारों के लिए क्षेत्र का विकास कितना आवश्यक है इसे बताने का प्रयास किया है साथ ही यह भी दिखाने का प्रयास किया गया है कि पुलिस-प्रशासन के द्वारा उनके लिए आवश्यक संसाधनों को मुहैया कराया जा रहा है।

मंचीय कार्यक्रम के बाद श्री बघेल द्वारा नारायणपुर पुलिस द्वारा तैयार "मितान पुलिस पेट्रोल पंप" का उदघाटन किया गया, उन्होंने पुलिस अधीक्षक श्री गर्ग को निर्देशित किया कि इस पेट्रोल पंप में नक्सली पीड़ित परिवार के ही महिला सदस्यों को रोजगार में रखा जावे तथा महिला पुलिस अधिकारियों द्वारा ही पेट्रोल पंप का संचालन हो। श्री बघेल ने घोषणा किया कि मितान पुलिस पेट्रोल पंप के किनारे जो खाली जगह है उसमें दुकान बनाया जाकर उस दुकान को स्थानीय स्व-सहायहता समुह को दिए जाएंगे ताकि वे अपने संस्था द्वारा निर्मित प्रोडक्ट्स/सामग्रियों को बेच कर आत्मनिर्भर हो सकेंगे। मुख्यमंत्री श्री बघेल ने आईजी बस्तर श्री पी सुन्दरराज और श्री माहित गर्ग, पुलिस अधीक्षक नारायणपुर के तारिफ करते हुए कहा कि यह पेट्रोल पंप महिलाओं का सशक्त बनाएगी। 

"मितान पुलिस पेट्रोल पंप" के उदघाटन के बाद श्री बघेल DRG हाल में ITBP, BSF, CAF, DEF और DRG के जवानों से मिलकर उनके हौसला अफजाई किया तथा उनके कार्यों की सराहना भी किया। उल्लेखनीय है कि नारायणपुर जिला में यह पहला अवसर है जब राज्य के मुख्यमंत्री डीआरजी के महिला जवानों से उनके टेबल में बैठकर उनसे बातचीत की तथा उनकी समस्याओं को जाना। श्री बधेल ने जवानों को उपहार भी दिया और नक्सल क्षेत्र में स्वस्थ्य निरोगी रहकर कैसे नक्सलियों का सामना कर सकते हैं इस पर जवानों को टिप्स दिए।

Related Images :







 

 























Share:

Friday, January 01, 2021

नया साल के नये संकल्प.................... नया साल 2021 में क्या-क्या लें संकल्प??

आदरणीय/आदरणीया
सबले पहिली आपमन ल नवा बछर के अंतल ले बधई अउ सुभकामना। नवा बछर 2021 आपके जिगनी म उजियारा लेके आवय, आप अपन जीनगी भर सफल अउ शांतिपूर्ण जिनगी जीयव, आप स्वस्थ अउ निरोगी रहव ...... एहि शुभकाना के संगे-संग एक बार फेर नवा बछर के गंज बकन बधाई हुलेश्वर जोशी

आइए नये साल में कुछ ऐसे संकल्प लें कि हम, सुखमय, सफलतम और दीघार्य जीवन का भरपूर आनंद ले सकें:-
ऽ मैं सकल्प लेता/लेती हूं कि मैं जीवन पर्यंत सर्वोत्तम मानव व्यवहार को अपने जीवन में शामिल करूंगा/करूंगी।
ऽ मैं संकल्प लेता/लेती हूं कि मैं अपने राष्ट्र के संविधान और कानून के दायरे में रहकर श्रेष्ठतम् जीवन शैली को अपनाउंगा/अपनाउंगी, किसी भी स्थिति में इसके विपरित कार्य नही करूंगा/करूंगी और न तो किसी भी अन्य व्यक्ति अथवा समूह के मानव अधिकारों का हनन करूंगा/करूंगी बल्कि दूसरे व्यक्ति और समूह के मानव अधिकारों की रक्षा के लिए भी कार्य करूंगा/करूंगी।
ऽ मैं संकल्प लेता/लेती हूं कि मैं अपने संतान, नजदीकी रिस्तेदारों और दोस्तों को धर्मनिरपेक्ष रहकर दूसरे धर्म के अनुयायी से व्यवहार करने का शिक्षा दूंगा/दूंगी।
ऽ मैं संकल्प लेता/लेती हूं कि किसी भी स्थिति में किसी दूसरे व्यक्ति, समाज अथवा धर्म के लोगों से द्वेष, दुर्भावना अथवा ईष्र्या नही करूंगा/करूंगी। खासकर सामाजिक/धार्मिक नेताओं के बहकावे में आकर जाति, वर्ण या धर्म के आधार पर किसी अन्य मनुष्य से दुर्भावना नही रखूंगा/रखूंगी।
ऽ मै पूरे दूनिया के केवल इंसान ही नहीं वरन् अन्य जीव जन्तुओं और पशु/पक्षियों को भी अपने भाई-बहन के समान ही मानूंगा/मानूंगी।
ऽ मैं संकल्प लेता/लेती हूं कि मैं किसी भी स्थिति में शराब सेवन करने के बाद वाहन ड्रायविंग नही करूंगा/करूंगी, वाहन को नियंत्रित गति में चलाउंगा/चलाउंगी और यातायात नियमों का पालन करूगा/करूंगी। क्योंकि मैं जानता/जानती हूं कुछ महत्वपूर्ण यातायात नियमों का पालन नही करने से मेरी मृत्यु हो सकती है।
ऽ मैं संकल्प लेता/लेती हूं कि मैं सदैव उच्च शिक्षा और स्कील प्राप्त करते रहने का यत्न करूंगा/करूंगी।
ऽ मैं संकल्प लेता/लेती हूं कि मैं किसी भी स्थिति में सोशल मीडिया में शेयर होने वाले ऐसे संदेश को फारवर्ड नही करूंगा/करूंगी जिससे धार्मिक उन्माद पैदा होने अथवा किसी व्यक्ति/वर्ग के धार्मिक भावना को आघात पहुंचना संभावित हो।
ऽ मैं संकल्प लेता/लेती हूं कि वर्तमान में हो रहे आर्थिक धोखाधडी का शिकार होने से बचकर रहूंगा/रहूंगी, क्योंकि मै जानता हूं ऐसे लोग हमें प्रलोभन देकर हमसे हमारी गोपनीय जानकारी और ओटीपी प्राप्त करने पर ही धोखाधडी कर सकेंगे।
Share:

Thursday, December 24, 2020

"Exploring Abujmad" - The Largest Unserved Area of India (Short Film)

‘‘एक्सप्लोरिंग अबुझमाड’’ - द लार्जेस्ट अनसर्वेड एरिया आफ इंडिया का विमोचन:- राज्योत्सव के उपलक्ष्य में सुश्री जागृति डी के निर्देशन और श्री मोहित गर्ग, पुलिस अधीक्षक नारायणपुर के संकल्पना में तैयार डाक्यूमेंट्री ‘‘एक्सप्लोरिंग अबुझमाड’’ - द लार्जेस्ट अनसर्वेड एरिया आफ इंडिया का विमोचन श्री चंदन कश्यप, माननीय विधायक, नारायणपुर द्वारा किया गया। इस डाक्यूमेंट्री के माध्यम से जनजातीय जीवन के सुंदरता जिसमें खासकर मारिया, मुरिया, गोड और हल्बा के परम्पराओं, संस्कृति और नैतिक मूल्यों को बखुबी से दिखाया गया है। इसके अंतर्गत जहां एक ओर नारायणपुर में लगने वाले हाट बाजार, मुर्गा लडाई और यहां के आम जन जीवन पर आधारित स्कील्स को दिखाया गया है तो वहीं नक्सल अभियान में तैनात जवानों के कार्य पद्धिति और दिनचर्या को भी दिखाने का प्रयास किया गया है। बस्तर संभाग में अपने औषधी गुणों के लिए प्रचलित खाद्य एवं पेय पदार्थ जैसे चापडा चटनी और सल्फी ताडी को भी दिखाया गया है। पुलिस प्रशासन के विशेष योगदान से नारायणपुर अब उन्नत और विकसित हो रहा है, कुछ दशकों पूर्व सडक, स्कूल और स्वास्थ्य के मामले में सबसे पिछडा नारायणपुर अब अपने प्राकृतिक सौन्दर्य, सैकडों पर्वत श्रृंखला, नदियों और दर्जनों झरना को पर्यटन के स्वरूप को विश्व पटल में ख्याति दिलाने तथा पर्यटकों को भयमुक्त माहौल देने की ओर अग्रसर है, यह डाक्यूमेंट्री ट्रेवलिंग गाईड के रूप में भी तैयार किया गया है। 



Share:

Tuesday, December 22, 2020

बिंजली डेम (शांत सरोवर) - पिकनिक स्पाट के रूप में विकसित

बिंजली डेम (शांत सरोवर) को पिकनिक स्पाट के रूप में विकसित करना:- नारायणपुर पुलिस द्वारा करूणा फाउण्डेशन के सहयोग से श्रमदान कर बिंजली डेम का सौन्दर्यीरण कर पिकनिक स्पाट के रूप में विकसित किया गया। बांध में रेलिंग लगाया गया, नहर किनारे जाली और पेंटिग्स किया गया, सडक में मुरमीकरण, सडक के किनारे लगे पेडो की छटाई कर पोताई किया गया, बांध किनारे शासकीय भूमि में जाली से बाउण्ड्री बनाकर वहां हट का निर्माण किया गया, वृद्ध होकर गिर चूके मोटे लकडियों की छटाई कर बैठने हेतु प्राकृतिक बैंच और लोहे के कुर्सियां भी तैयार कर लगाया गया है। पुलिस विभाग द्वारा हमर नारायणपुर और आई लव नारायणपुर की थीम पर दो विशालकाय आईलैण्ड सहित कुछ सेल्फी प्वाइंट तैयार किया गया। वहीं उद्यानिकी विभाग के सहयोग से पौधारोपण तथा जिला पंचायत और जिला प्रशासन द्वारा हाई मास्क लाईट, बाथरूम, नल और सोलर पानी टंकी हेतु नींव भी रखी गई है। सौन्दर्यीरण के बाद 02.12.2020 को माननीय सांसद, बस्तर और माननीय विधायक, नारायणपुर द्वारा पिकनिक स्पाट का उद्घाटन कराया गया।






Share:

Sunday, December 20, 2020

पुना-डेरा : Surrender (Short Film)

पुना-डेरा : Surrender - बस्तर के नक्सल-प्रभावित इलाकों में भटके हुए नौजवान जो नक्सली बन गए उन्हें मुख्यधारा में वापस लौटने तथा सरेंडर करने के लिए प्रेरित करने के लिए नारायणपुर पुलिस द्वारा बनाया गया वीडियो।



Share:

Friday, December 18, 2020

मुखबीर : Police Informer

मुखबीर : Police Informer - बस्तर के नक्सल-प्रभावित इलाकों में नक्सलियों द्वारा आम जनता को प्रताड़ित करने वाली घटनाओं को वीडियो के माध्यम से प्रदर्शित करने का नारायणपुर पुलिस का एक प्रयास।



Share:

मनखे-मनखे एक समान का सिद्धांत प्रतिपादित करने वाले गुरु घासीदास बाबा समूचे मानव समाज का गुरु है; केवल किसी एक धर्म या समाज की कॉपीराइट नहीं - श्री हुलेश्वर जोशी

#गुरु घासीदास जयंती विशेषांक

गुरु घासीदास बाबा द्वारा प्रतिपादित समानता और मानव अधिकार पर आधारित सभी सिद्धांत आज भी मानव जीवन के बेहतरी के लिए प्रासंगिक है; उनके सिद्धांत युगों युगों तक प्रासंगिक रहेंगे। उनके सामाजिक, धार्मिक, आध्यात्मिक और शैक्षणिक आंदोलन से केवल सतनामी समाज ही नहीं वरन देश का हर जाति, वर्ण और धर्म के लोग लाभान्वित हुए हैं; खासकर दलित और महिलाएं। महिलाओं की बात होती है तो केवल महिला तक सीमित समझना न्यायोचित नहीं है क्योंकि हम सब महिलाओं के गर्भ ही जन्म लेते हैं। महिलाओं के बेहतर जीवन के अभाव में पुरुषों का जीवन भी व्यर्थ और अधूरा है, क्योंकि महिलाएं हर स्तर हर पुरुषों के जीवन और सुख में भागीदार रहती हैं। इसके बावजूद कुछ असामाजिक तत्वों द्वारा गुरु घासीदास बाबा को किसी एक समाज का आराध्य/गुरु बताने का प्रयास किया का रहा है जबकि वे समूचे मानव समाज का गुरु हैं। गुरु घासीदास बाबा के मानव मानव एक समान का सिद्धांत समस्त सामाजिक, धार्मिक, शैक्षणिक, आध्यात्मिक और दार्शनिक सिद्धांतों का मूल संक्षेप है। उल्लेखनीय है कि गुरु घासीदास बाबा का जन्म ऐसे समय में हुआ जब पूरे देश में सामाजिक असमानता, छुआछूत, द्वेष, दुर्भावना और घृणा जैसे घोर अमानवीय सिद्धांतो के माध्यम से समाज कई वर्गों खासकर शोषक और शोषित वर्ग में बटा हुआ था, जिसे समाप्त करने में गुरु घासीदास बाबा का अहम योगदान है।

आज गुरु घासीदास बाबा जी की 264 जयंती है, गुरु घासीदास बाबा के द्वारा सामाजिक चेतना के लिए किए गए योगदान को किसी एक लेख में समाहित कर पाना संभव नहीं है, खासकर तब जब उनके योगदान को पूरी ईमानदारी और निष्ठा से इतिहास में लिखा न गया हो। कपोल कल्पित कहानी के माध्यम से उन्हें चमत्कारी पुरुष के रूप में प्रचारित कर उनके मूल योगदान को भुलाने का भी षड्यंत्र रचा गया; कुछ अशिक्षित, अज्ञानी और अतार्किक लोगों के द्वारा अपने लेख, गीतों के माध्यम से अतिसंयोक्तिपूर्ण अवैज्ञानिक साक्ष्य के माध्यम से उनके कार्य के मूल प्रकृति के खिलाफ गुरु घासीदास बाबा के चरित्र का वर्णन किया गया है। 

यदि गुरु घासीदास बाबा के जीवनी और योगदान पर लिखने का प्रयास करूं तो सम्भव है मैं भी गलत, झूठा या भ्रामक ही लिखूंगा। इसलिए मैं गुरु घासीदास बाबा के सिद्धांतों विपरीत परन्तु उनके नाम से प्रचलित हो चुके झूठ का पर्दाफाश करना आवश्यक समझता हूं; मेरे लेख से अधिकांश लोगों को आपत्ति भी होगा, मगर मैं गुरु घासीदास बाबा के लिए फैलाये जा रहे झूठ को कदापि बर्दाश्त नहीं करना चाहता। कुछ धार्मिक अंधत्व के शिकार लोगों के फर्जी आस्था का ख्याल रखना मेरी मजबूरी है इसलिए मैं खुलकर अपनी बात नही रख पा रहा हूँ, मगर सांकेतिक रूप से सत्य को सामने लाने का प्रयास जरूर करूँगा :-
1- गुरु घासीदास बाबा ने जीवन पर्यंत मूर्ति पूजा का विरोध किया और कुछ लोग उनके ही मूर्ति बनाकर पूजने लगे।

2- गुरु घासीदास बाबा ने चमत्कार और अतिसंयोक्तिपूर्ण कपोल कल्पित कहानियों का विरोध किया और लोग उनके बारे में ही चमत्कारिक अफवाहें फैला दी।
# मरणासन्न को मृत बताकर, मृत बछिया को जिंदा करने की अफवाह फैलाई गई।
# भाटा के बारी से मिर्चा लाना : गुरु घासीदास बाबा ने भाटा के बारी से मिर्च नही लाया बल्कि उन्होंने कृषि सुधार के तहत एक समय में, एक ही भूमि में, एक साथ एक से अधिक फसल के उत्पादन करने का तरीका सिखाया। जैसे - राहर के साथ कोदो, धान अथवा मूंगफली का उत्पादन। चना के साथ धनिया, सूरजमुखी, अलसी और सरसों का उत्पादन। सब्जी में मूली के साथ धनिया और भाजी; बैगन के साथ मिर्च, और मीर्च के साथ टमाटर।
# गरियार बैल को चलाना : सामाजिक रूप से पिछड़े, दबे लोगों को मोटिवेट कर शोषक वर्ग के बराबर लाने का काम किया; अर्थात दलितोद्धार का कार्य किया। इसके तहत उन्होंने ऐसे लोगों (शोषित लोगों) को चलाया, आगे बढ़ाया जो स्वयं शोषक समाज के नीचे और दबे हुए मानकर उनके समानांतर चलने का साहस नहीं करते थे उन्हें सशक्त कर उनके समानांतर लाकर बराबर का काम करने योग्य बनाया।
# शेर और बकरी को एक घाट में पानी पिलाना : गुरु घासीदास बाबा सामाजिक न्याय के प्रणेता थे, उन्होंने शोषित और शोषक दोनों ही वर्ग के योग से सतनाम पंथ की स्थापना करके सबको एक समान सामाजिक स्तर प्रदान किया, एक घाट मतलब एक ही सामाजिक भोज में शामिल किया।
# 5मुठा धान को बाहरा डोली में पुरोकर बोना : गुरु घासीदास बाबा ने बाहरा डोली में 5मुठा धान को पुरोकर बोया का मतलब कृषि सुधार हेतु रोपा पद्धति का शुरआत किया, कुछ विद्ववान मानते हैं सतनाम (पंच तत्व के ज्ञान) को पूरे मानव समाज में विस्तारित किया।
# गोपाल मरार का नौकर : गुरु घासीदास बाबा को कुछ विरोधी तत्व गोपाल मरार का नौकर मानते हैं जबकि गोपाल मरार उन्हें गुरु मानते थे। हालांकि शुरुआती दिनों में गुरु घासीदास बाबा कृषि सुधार हेतु वैज्ञानिक पद्धति के विकास करने के लिए गोपाल मरार के बारी में अधिक समय देते थे और बहुफसल उत्पादन को लागू कर मरार समाज को प्रशिक्षण देने का काम करते थे।
# अमरता और अमरलोक का सिद्धांत : गुरु घासीदास बाबा द्वारा किसी भी प्रकार से भौतिक रूप से अमरता और अमर लोक या अधमलोक की बात नहीं कहा, उन्होंने नाम की अमरता और अच्छे बुरे सामाजिक व्यवस्था की बात कही जिसे कुछ लोगों द्वारा समाज को गुमराह किया जा रहा है।
गुरू घासीदास बाबा ने पितर-पुजा का विरोध किया।
# जैतखाम को सतनामी मोहल्ले का और निशाना को सतनामी घर का पहचान बताया, स्वेत ध्वज हमें सदैव सत्य के साथ देने और सागी पूर्ण जीवन जीने का संदेश देता है। 

3- गुरु घासीदास बाबा ने जन्म आधारित महानता का विरोध किया, इसके बावजूद समाज मे जन्म आधारित महानता की परंपरा बनाकर समाज में थोपने का प्रयास किया जा रहा है। एक परिवार विशेष में जन्म लेने वाले अबोध शिशु को धर्मगुरु घोषित कर दिया जा रहा है।

4- गुरु घासीदास बाबा और गुरु बालकदास के योगदान को भुलाकर काल्पनिक पात्र को आराध्य बनाया जा रहा है। इतना ही नहीं ऐसे लोगों को भी समाज का आराध्य बताया जा रहा है जो वास्तव में आराध्य होने के लायक नहीं है या समाज में उनका कोई योगदान नहीं रहा है।

5- मनखे-मनखे एक समान : ये एक ऐसा क्रांतिकारी सिद्धांत है जो मानव को मानव बनने का अधिकार देता है। मनखे मनखे एक समान का सिद्धांत मानव के सामाजिक, धार्मिक, शैक्षणिक और आध्यात्मिक विकास और समानता के लिए अत्यंत प्रभावी रहा है।

6- मानव अधिकारों की नींव : सतनाम रावटी के माध्यम से गुरु घासीदास बाबा द्वारा लोगों को बताया गया कि सभी मनुष्य समान हैं, कोई उच्च या नीच नहीं है; प्राकृतिक संसाधनों में भी सभी मनुष्य का बराबर अधिकार है।

7- महिलाओं के मानव अधिकार और स्वाभिमान की रक्षा : गुरु बालकदास के नेतृत्व में महिलाओं के मानव अधिकार और स्वाभिमान की रक्षा के लिए अखाड़ा प्रथा की शुरआत कराया गया। पराय (गैर) स्त्री को माता अथवा बहन मानने की परम्परा की शुरूआत कर स्त्री को विलासिता और भोग की वस्तुएं समझने वाले अमानुष लोगो को सुधरने का रास्ता दिखाया।

8- सामाजिक बुराइयों अंत : गुरु घासीदास बाबा द्वारा समाज मे व्याप्त कुरीतियों और सामाजिक बुराइयों को विरोध करते हुए उसे समाप्त करने का काम किया गया; उन्होंने सामाजिक बुराइयों से मुक्त सतनाम पंथ की स्थापना की थी; परंतु आज जो लोग स्वयं को सतनाम पंथ के मानने वाले प्रचारित करते हैं वे समाज में सैकड़ों सामाजिक बुराइयों को सामाजिक नियम का आत्मा बना दिया है।

9- प्रत्येक जीव के लिए दया और प्रेम : गुरु घासीदास बाबा ने केवल मानव ही नहीं बल्कि अन्य सभी जीव के अच्छे जीवन की बात कही, इसी परिपेक्ष्य में उन्होंने हिंसा, नरबलि, पशुबलि और मांसाहार का विरोध किया था। इसके बावजूद स्वयं को सामाजिक /धार्मिक नेता समझने वाले कुछ लोग मांसाहार के माध्यम से जीव हत्या को बढ़ावा देने का काम कर रहे हैं।


गुरु घासीदास बाबा के योगदान को एक लेख में लिखकर पूर्ण समझना किसी भी लेखक की बेवकूफी पूर्ण सोच होगा; मैंने सांकेतिक रूप से संक्षेप में उनके कुछ योगदान को बताने का असफल प्रयास किया है; मगर अंत मे कुछ सवाल:- 
प्रश्न-1 : गुरु घासीदास बाबा की जयंती या big poster competition?
कुछ सामाजिक कार्यकर्ता/संगठन गुरु घासीदास जयंती के नाम पर चंदा लेकर लाखों रुपए एकत्र करते हैं और गुरु घासीदास बाबा की जयंती के नाम पर सांस्कृतिक कार्यक्रमों के माध्यम से समाज को गुमराह करने का काम करते हैं। गुरु घासीदास के जीवनी, उनके संदेश और उनके योगदान की चर्चा या उल्लेख नही करते बल्कि बड़े बड़े पोस्टर में अपने खुद के या अपने मालिकों के फोटो छपवा लेते हैं। 

प्रश्न-2: सतनामी समाज/सतनाम पंथ में कुरीतियों को फैलाने के लिए जिम्मेदार कौन?
वे जो सतनामी समाज के लोगों का धर्म परिवर्तन कराना चाहते हैं या स्वयं को बडे समाज सेवक अथवा महान साहित्यकार/ग्रंथकार घोषित करना चाहते हैं।

प्रश्न-3: सतनामी समाज मनखे-मनखे एक समान के नीव पर खडा है फिर सतनामी समाज के साथ कुछ दीगर समाज के लोग द्वन्द क्यों कर रहा है?
जो मानवता के घोर विरोधी, अमानवीय और काल्पनिक सिद्धांतों को अपना धर्म समझते हैं उन्हें समानता के सिद्धांत बर्दास्त नही हो सकते, वहीं दूसरी ओर समाज के भीतर कुछ बहिरूपिया लोग भी विद्यमान हैं, जिन्हे सतनामी समाज को दीगर समाज से लडाकर अपने राजनैनिक स्वार्थ सिद्ध करना है अथवा उन्हें दीगर धर्म में शामिल कराना है।

प्रश्न-4: क्या सतनाम धर्म को धर्म का संवैधानिक दर्जा मिलना चाहिए?
हां, मगर वर्तमान में सतनामी समाज में गुरू घासीदास बाबा के मूल अवधारणा के खिलाफ सैकडों कुरीतियां भरी पडी है, जब तक ये सारे कुरीतियां समाप्त नहीं हो जाते सतनाम धर्म को संवैधानिक मान्यता प्रदान करने का कोई औचित्य नही है।

प्रश्न-5: क्या जन्म के आधार पर किसी एक परिवार के लोगों को धर्म गुरू अथवा गुरू मानकर उनका पूजा करना उचित है?
नहीं, क्योंकि जन्म आधारित महानता की अवधारणा पर आधारित जीवन जीना मानसिक गुलामी और मानसिक दिवालियेपन का द्योतक मात्र है, मानवता और समानता के लिए काम करने वाले महापुरूष ही महान हो सकते हैं।

प्रश्न-6: क्या धर्मों का विभाजन मानवता के अनुकूल है?
नहीं, क्योंकि वास्तविक रूप से धर्म अब केवल कल्पना मात्र की वस्तु बन चूकी है। मौजूदा धर्म के कुछ धार्मिक नेता आपस में वर्चस्व की लडाई लडने मशगुल हैं और धर्म को मानवता के खिलाफ एक विनाशकारी शक्ति के रूप में स्थापित कर चूके हैं।

----------------
मै अपने कठोर परन्तु सत्य और तार्किक प्रश्नों व तथ्य को उजागर करने के लिए ऐसे लोगों से माफी चाहता हूं जिनकी आस्था बहुत कमजोर है, जिनके धार्मिक आस्था और विश्वास प्रश्न से डरता है, जिनके आस्था और विश्वास सदैव अतार्किक, अवैज्ञानिक और काल्पनिक रहने में अपनी भलाई समझता है।
आलेख - श्री हुलेश्वर जोशी सतनामी, जिला नारायणपुर
Share:

Thursday, December 17, 2020

डाॅ संजीव शुक्ला, डीआईजी कांकेर जिला नारायणपुर का भ्रमण कर जवानों और आम नागरिकों से मिले; थाना बेनुर में शक्ति केन्द्र और बाल मित्र का किया उद्घाटन....

थाना बेनूर में नारी शक्ति केंद्र एवं बाल मित्र केंद्र का शुभारंभ : दिनांक 17:12 2020 को थाना बेनूर का भ्रमण कर पुलिस जवानों को सुरक्षा संबंधी निर्देश दिया गया, शासन की योजना अंतर्गत पुलिसिंग में सुधार एवं महिलाओं एवं बच्चों को थाना आने पर सुरक्षित एवं अच्छा वातावरण उपलब्ध कराने के उद्देश्य से थाना बेनूर में नारी शक्ति केंद्र एवं बाल मित्र केंद्र का शुभारंभ डॉ संजीव शुक्ला डीआईजी एवं डॉ लाल उमेद सिंह प्रभारी पुलिस अधीक्षक नारायणपुर की उपस्थिति में क्षेत्र के महिलाओं एवं बच्चों के द्वारा कराया गया इस दौरान आसपास क्षेत्र के करीबन 150 महिला पुरुष एवं बच्चे उपस्थित थे। नारी शक्ति केंद्र में महिलाओं के लिए बैठने की उपयुक्त व्यवस्था की गई है महिला डेस्क के महिला पुलिस द्वारा महिलाओं की समस्या सुनेंगे तथा उनकी समस्याओं का निराकरण करेंगे उसी प्रकार बाल मित्र केंद्र में रिपोर्ट करने आने वाली महिलाओं के बच्चों को पुलिस थाना में घर जैसा अच्छा माहौल देने के उद्देश्य से उनके बैठने व मनोरंजन हेतु कैरम, बेटबॉल फुटबॉल एवं खिलौने आदि की व्यवस्था की गई है। थाना नारायणपुर एवं छोटेडोंगर  में नारी शक्ति केंद्र एवं बालमित्र का सञ्चालन कर महिलाओं एवं बच्चों को सुविधा प्रदान किया जा रहा है।  उद्धघाटन के दौरान श्री जयंत वैष्णव अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक, श्री नीरज चंद्राकर अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक, श्री अनुज कुमार अनुविभागीय पुलिस अधिकारी, सुश्री उन्नति ठाकुर उप पुलिस अधीक्षक एवं श्री दीपक साव , रक्षित निरीक्षक उपस्थित रहे। 

थाना कुरूषनार के सरहदी ग्राम अरशगढ़ और कंदाडी का भ्रमण और ग्रामीणों की मीटिंग : श्रीमान पुलिस उप महानिरीक्षक, डॉ0 श्री संजीव शुक्ला महोदय, श्रीमान पुलिस अधीक्षक श्री लाल उमेंद सिंह महोदय, अति0 पुलिस अधीक्षक श्री नीरज चंद्राकर महोदय, श्रीमान SDOP श्री अनुज कुमार महोदय, एवम् श्रीमान रक्षित निरीक्षक श्री दीपक साव महोदय, नारायणपुर की उपस्थिति में थाना कुरूषनार मे दिनांक 14/12/2020 को समय 14:30 बजे सरहदी ग्राम अरशगढ़ और कंदाडी के 60-70 की संख्या में उपस्थित ग्रामवासियों की बैठक लिया गया जिसमे उपस्थित श्रीमान वरिष्ठ अधिकारीगण द्वारा शासन के विभिन्न योजनाओं और उससे लाभ उत्सर्जन एवम् वर्तमान में घटित अपराध जैसे महिला संबंधी अपराध, Cyber Crime, Human Trafficking, चिटफंड व अन्य अपराध के संबंध में बताकर सतर्क व जागरूक रहने निर्देश दिया गया। समाज की मुख्य धारा में जुड़ने और क्षेत्र में शांति व्यवस्था बनाए रखने अपील किया गया। ग्रामवासियों के समस्याओ के संबंध में जानकारी ली गई जिसमे सौर ऊर्जा के नए कने्शन का साल भर से सामान मिलने के बाद भी कनेक्शन नहीं किया गया, सड़क व पुलिया के विकास कार्य, नरेगा योजना से साल भर देरी से मजदूरी मिलना, थाने के सामने स्थित क्रिकेट ग्राउंड के विस्तार हेतु गुजारिश किया गया है। जिससे श्रीमान वरिष्ठ अधिकारीगण द्वारा मौके पर समस्याओं का हल किया गया। श्रीमान वरिष्ठ अधिकारीगण के निर्देशानुसार पुलिस और ग्रामवासियों के बीच मधुर संबंध बनाए रखने एवम् जनता को जागरूक करने भविष्य में निरंतर जनसभा कर ऐसे जागरूकता कार्यक्रम किए जाएंगे। इस जनसभा में सरहदी ग्राम अरशगढ और कंदाडी के ग्रामवासी और श्रीमान वरिष्ठ अधिकारीगण एवम् थाना कुरुसनार के अधिकारी/कर्मचारी उपस्थित रहे।

Related Images : 

Share:

Tuesday, December 15, 2020

विस्फोट : Blast of Fear (Short Film)

विस्फोट : Blast of Fear - बस्तर के नक्सल-प्रभावित इलाकों में नक्सलियों द्वारा आम जनता को प्रताड़ित करने वाली घटनाओं को वीडियो के माध्यम से प्रदर्शित करने का नारायणपुर पुलिस का एक प्रयास।



Share:

Sunday, December 13, 2020

विकास : Need of Development (Short Film)

विकास  : Need of Development - बस्तर के नक्सल-प्रभावित इलाकों में नक्सलियों द्वारा आम जनता को प्रताड़ित करने वाली घटनाओं को वीडियो के माध्यम से प्रदर्शित करने का नारायणपुर पुलिस का एक प्रयास।



Share:

Saturday, November 28, 2020

जिला कलेक्टर और पुलिस अधीक्षक ने किया शांत सरोवर का अवलोकन, जाहिर किया प्रशन्नता ........ जानिए कहाँ है पिकनिक स्पॉट शांत सरोवर?

आज दिनांक 28.11.2020 को जिला कलेक्टर श्री अभिजीत सिंह और पुलिस अधीक्षक श्री मोहित गर्ग ने किया शांत सरोवर का निरीक्षण किया। इस दौरान केरलापाल, खडकागांव और खैराभाट के सरपंच, सचिव और स्थानीय जनप्रतिनिधि सहित सैंकडो ग्रामीण महिला-पुरुष उपस्थित रहे। उल्लेखनीय है कि शांत सरोवर नारायणपुर जिला मुख्यालय से लगभग ७ किलोमीटर दूर खैराभाट नामक गांव में बना है जिसे लम्बे दिनों से बिजली डेम के नाम से जाना जाता रहा है, हाल ही में ग्रामीणों द्वारा इसका नाम शांत सरोवर सुझाया गया है। 

करूणा फाउंडेशन और पुलिस जवानों द्वारा शांत सरोवर के सौन्दर्यीकरण के लिए किये जा रहे श्रमदान का कलेक्टर श्री सिंह द्वारा प्रशंसा किया गया। उन्होने कहा कि करूणा फाउंडेशन और पुलिस के जवानों का कार्य अत्यंत सराहनीय है इनके कार्यों से जहां एक ओर पर्यटन को बढ़ावा मिलेगा वहीं युवाओं को प्रेरणा और स्थानीय लोगों के लिए रोजगार के अवसर भी खुलेंगे। श्री सिंह द्वारा शांत सरोवर में पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए अनेको सुझाव दिया गया और आर्थिक सहयोग की सहमति भी दी गई। आसपास के पंचायत प्रतिनिधियों द्वारा अपने पंचायत और क्षेत्र की विकास हेतु जिला कलेक्टर से कुछ विशेष मांग की गई, जिला कलेक्टर द्वारा संबंधित विभागों द्वारा मांग पूरी करने हेतु निर्देशित किया गया। 

करूणा फाउंडेशन टीम के फाइटर्स और रक्षित निरीक्षक श्री दीपक साव के नेतृत्व में पुलिस के जवानों के द्वारा शांत सरोवर में श्रमदान के माध्यम से रोड का निर्माण, साज-सज्जा और पेंटिग्स की गई तथा सेल्फी पाॅइंट का भी निर्माण किया गया है। नगर सेना के टीम द्वारा कलेक्टर और पुलिस अधीक्षक सहित स्थानीय लोगों को बोटिंग कराते हुए बोटिंग की संभावना तलासने का प्रयास किया गया, ताकि बोटिंग के माध्यम से भी लोगों को रोजगार मिल सके।

Related Images:












Share:

Saturday, November 14, 2020

दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं ...... आपके जीवन मंगलमय हो

आदरणीय/आदरणीया
दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं ......

मैं हुलेश्वर जोशी आपके, आपके परिवार और आपके स्वजनों के  उज्जवल जीवन की कामना करता हूँ।  

महोदय/महोदया, दीपावली केवल बड़े बड़े फटाके फोड़कर पर्यावरण को प्रदूषित करने का प्रतियोगिता मात्र नहीं बल्कि अपने आसपास के लोगों के जीवन में खुशहाली लाने, उनके जीवन को प्रकाशमान करने तथा उनके हर सुख दुख और जरूरत में साथी होने का अवसर और प्रतिज्ञा है। आइए इस दीपावली में एक संकल्प लें कि हम समस्त मानव समुदाय को जाति, वर्ण, धर्म और सीमा के बंधन से मुक्त होकर अपना परिवार मानेंगे और उनके साथ भाईचारे और सद्भावना पूर्ण रिश्ते बरकरार रखेंगे ....

हुलेश्वर जोशी  #औराबाबा #जोगीबाबा

Share:

श्री मोहित गर्ग, पुलिस अधीक्षक के नेतृत्व में नारायणपुर पुलिस के कुछ चूनिंदा उपलब्धियां

श्री मोहित गर्ग, पुलिस अधीक्षक के नेतृत्व में नारायणपुर पुलिस के कुछ चूनिंदा उपलब्धियां

श्री मोहित गर्ग 27 फरवरी 2019 को नक्सल प्रभावित जिला नारायणपुर में पदभार ग्रहण किये उसके बाद से श्री गर्ग के नेतृत्व में जिला पुलिस बल का प्रबंधन, नक्सल हिंसा कमी और आम नागरिकों और पुलिस के बीच बेहतर संबंध स्थापित हुए हैं। श्री गर्ग अत्यंत सहृदयी पुलिस अधिकारी हैं जो अपने पदीय दायित्वों के निर्वहन में संवैधानिक और कानूनी दायरे के अंतर्गत रहते हुए मावनीय आधार पर कार्य करने के पक्षधर हैं। उनका मानना है कि आदेश जारी करने मात्र से या कठोरतापूर्ण रवैया अपनाने मात्र से नही वरन् व्यवहारिक दृश्टिकोण से कार्य करने से ही बेहतर परिणाम प्राप्त की जा सकती है। श्री गर्ग द्वारा हाल ही में लम्बे दिनों से एक ही स्थान पर तैनात रहने वाले 222 पुलिस अधिकारियों की पदस्थापना आदेश जारी किया गया, इस स्थानांतरण आदेश की सबसे खास बात यह कि श्री गर्ग द्वारा महिला पुलिस अधिकारियों को उनके सहमति के आधार पर पदस्थापना दी गई है। संभवतः पूरे दूनिया के इतिहास में यह पहली बार ऐसा हुआ हो कि महिला पुलिस अधिकारियों को उनके मनचाहे स्थान और कार्य पर पदस्थापना दी गई हो। आरक्षक और प्रधान आरक्षक स्तर के इन महिला पुलिस अधिकारी में अधिकतर पुलिस अधिकारी गर्भवती, नवजात शिशूओं और छोटे-छोटे बच्चों की मां, शहीद की पत्नी अथवा विधवा हैं। इन महिला पुलिस अधिकारियों को श्री गर्ग के निर्देशन में कार्यालयीन कार्य में निपूर्ण करने के लिए विभागीय रूप से निःशूल्क कम्प्यूटर प्रषिक्षण दिया जा रहा है तथा कार्यालयीन कार्य भी सीखाया जा रहा है। 
मजबूत पुलिस - विश्वसनीय पुलिस - नारायणपुर पुलिस
श्री गर्ग के नेतृत्व में जिला नारायणपुर 03 पुलिस थाना/कैम्प (सोनपुर-थाना, कोहकामेटा-थाना, कडेमेटा-कैम्प) का उद्घाटन कराया गया है जो नक्सल मुक्त जिला के लिए कार्य करने में अपना योगदान दे रहे हैं। साथ ही अनुसूचित जाति/जनजाति के विरूद्ध होने वाले अपराधों में नियंत्रण-रोकथाम और प्रभावी कार्यवाही हेतु अजाक थाना भी खोले गये हैं जबकि महिलाओं को घरेलू हिंसा और प्रताडना से बचाने और इस संबंध में महिलाओं को समूचित मार्गदर्शन देने के लिए विषेश महिला परामर्श केन्द्र भी खाले गये हैं। माड मैराथन और खेलो इंडिया के तहत् खेलों का आयोजन, मलखम्ब-खेल हेतु प्रशिक्षण का संचालन, स्टूडेंट पुलिस कैडेट, ‘‘सुना गोठ’’ अबुझमाड के संगवारी (हल्बी, गोण्डी और छत्तीसगढ़ी बोली में) एल्बम और ‘‘एक्सप्लोरिंग अबुझमाड’’ - द लार्जेस्ट अनसर्वेड एरिया आफ इंडिया नामक डाक्यूमेंट्री का विमोचन भी इनके कुछ उल्लेखनीय कार्य है।

Related Some Images :


























Share:

प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कैसे करें?

यह वेबसाइट /ब्लॉग भारतीय संविधान की अनुच्छेद १९ (१) क - अभिव्यक्ति की आजादी के तहत सोशल मीडिया के रूप में तैयार की गयी है।
यह वेबसाईड एक ब्लाॅग है, इसे समाचार आधारित वेबपोर्टल न समझें।
इस ब्लाॅग में कोई भी लेखक/व्यक्ति अपनी मौलिक पोस्ट प्रकाशित करवा सकता है। इस ब्लाॅग के माध्यम से हम शैक्षणिक, समाजिक और धार्मिक जागरूकता लाने तथा वैज्ञानिक सोच विकसित करने के लिए प्रयासरत् हैं। लेखनीय और संपादकीय त्रूटियों के लिए मै क्षमाप्रार्थी हूं। - श्रीमती विधि हुलेश्वर जोशी

सबसे अधिक बार पढ़ा गया लेख