Tuesday, March 20, 2018

मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह विश्व वानिकी दिवस पर करेंगे 21 मार्च को करेंगे कार्यशाला का शुभारंभ

मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह विश्व वानिकी दिवस पर करेंगे 21 मार्च को करेंगे कार्यशाला का शुभारंभ

विश्व वानिकी दिवस के अवसर पर 21 मार्च को राजधानी रायपुर में राज्य सरकार के वन विभाग द्वारा एक दिवसीय कार्यशाला का आयोजन किया जा रहा है। कार्यशाला में छत्तीसगढ़ राज्य के विभिन्न जिलों में कार्यरत वन प्रबंधन समितियों और वनोपज सहकारी समितियों के लगभग डेढ़ हजार प्रतिनिधि शामिल होंगे। स्थानीय शासकीय विज्ञान महाविद्यालय परिसर स्थित पंडित दीनदयाल उपाध्याय ऑडिटोरियम में मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह सवेरे 10.30 बजे कार्यशाला का शुभारंभ करेंगे। यह कार्यशाला ‘सतत् जीविकापार्जन का आधार-वनोपज व्यापार’ विषय पर केन्द्रित रहेगी।

शुभारंभ सत्र की अध्यक्षता वन मंत्री श्री महेश गागड़ा करेंगे। कार्यशाला के शुभारंभ सत्र की अध्यक्षता वन मंत्री श्री महेश गागड़ा करेंगे। मुख्यमंत्री इस अवसर पर छत्तीसगढ़ राज्य लघु वनोपज व्यापार एवं विकास सहकारी संघ की ओर से स्थापित उत्कृष्टता सम्मान भी प्रदान करेंगे। यह सम्मान राज्य स्तरीय समिति द्वारा चयनित कटघोरा वन मंडल के जिला यूनियन, जगदलपुर वन मंडल के जिला यूनियन, केशकाल वनमंडल के जिला यूनियन और सूरजपुर वन मंडल के जिला यूनियन को प्रदान किया जाएगा। इन जिला यूनियनों के प्रबंध संचालक और उपप्रबंधक यह पुरस्कार ग्रहण करेंगे। वनों के विनाश विहीन विदोहन गुणवत्ता सुधार प्रसंस्करण और मूल्य संवर्धन पर यह उत्कृष्टता सम्मान दिया जाता है। प्रदेश की छह प्राथमिक वनोपज सहकारी समितियों को भी मुख्यमंत्री पुरस्कृत करेंगे। मुख्यमंत्री के हाथों इन समितियों के प्रबंधक अपनी समितियों के लिए पुरस्कार ग्रहण करेंगे।

कार्यशाला के शुभारंभ समारोह में देश के प्रसिद्ध पर्यावरण विशेषज्ञ, पद्मभूषण अलंकरण और मैगसेसे पुरस्कार से सम्मानित श्री चण्डीप्रसाद भट्ट और छत्तीसगढ़ राज्य लघु वनोपज संघ के अध्यक्ष श्री भरत साय अतिविशिष्ट अतिथि के रूप में शामिल होंगे। उनके साथ ही समारोह में उतराखण्ड राज्य ग्राम्य विकास एवं पलायन नियंत्रण आयोग के उपाध्यक्ष डॉ. एस.एस. नेगी, छत्तीसगढ़ राज्य वनौषधि बोर्ड के अध्यक्ष श्री रामप्रताप सिंह और छत्तीसगढ़ राज्य वन विकास निगम के अध्यक्ष श्री श्रीनिवास मद्दी समारोह के विशेष अतिथि होंगे।
Share:

"करा समर्पण" हल्बी गीत

यह वेबसाइट /ब्लॉग भारतीय संविधान की अनुच्छेद १९ (१) क - अभिव्यक्ति की आजादी के तहत सोशल मीडिया के रूप में तैयार की गयी है।
यह वेबसाईड एक ब्लाॅग है, इसे समाचार आधारित वेबपोर्टल न समझें।
इस ब्लाॅग में कोई भी लेखक/व्यक्ति अपनी मौलिक पोस्ट प्रकाशित करवा सकता है। इस ब्लाॅग के माध्यम से हम शैक्षणिक, समाजिक और धार्मिक जागरूकता लाने तथा वैज्ञानिक सोच विकसित करने के लिए प्रयासरत् हैं। लेखनीय और संपादकीय त्रूटियों के लिए मै क्षमाप्रार्थी हूं। - श्रीमती विधि हुलेश्वर जोशी

सबसे अधिक बार पढ़ा गया लेख