Saturday, September 22, 2018

अब डिजल, पेट्रोल अथवा चार्जिंग के बिना भी वाहन चलेगा....... जानें कैसे ?

अब डिजल, पेट्रोल अथवा चार्जिंग के बिना भी वाहन चलेगा....... जानें कैसे ?

आज देश को डीजल/पेट्रोल के मूल्य से लड़ने की नही, वरन पेट्रोलियम पदार्थों निर्भरता से आगे निकलने का वक्त है। बल्कि सोलर प्लेट व बैट्री में नैनो टेक्नोलॉजी के शोध को प्रोत्साहित करने की आवश्यकता है। ताकि नैनो टेक्नोलॉजी आने से हम बैट्री से चलने वाले वाहनों का प्रयोग कर सकेंगे।

इस लेख के पीछे मेरी मंशा यह है कि मै चाहता हूं मेरे देश के वैज्ञानिक/इंजिनियर साथी ऐसे वाहन तैयार करें जिसमें इंधन के रूप में पेट्रोल/डिजल या केरोसिन के बजाय नेचुरल अक्षय उर्जा का प्रयोग हो।

वाहन बैटरी से चलने वाला हो मगर उसके बैटरी को चार्ज करने के लिए विद्युत का प्रयोग न करना पडे, बल्कि वह स्वतः सौर उर्जा एवं पवन उर्जा के माध्यम से चार्ज हो सके इसके अलावा भी यदि बरसात के मौसम में चार्जिंग की आवश्यकता हो तो हम उसे घरेलु बिजली से चार्ज कर सकें। यह तभी संभव है जब हम सोलर प्लेट, पवन उर्जा व बैट्री में नैनो टेक्नोलॉजी तैयार करने में सक्षम हो जाएं।

यदि, कोई वैज्ञानिक अथवा इंजिनियर मेरे इस पोस्ट को पढ रहे हों और ऐसा कोई वाहन तैयार करना चाहते हों तो कृपया मुझसे (HP Joshi) से 94799-37515 में सम्पर्क स्थापित कर सकते हैं। 
Share:

Fight With Corona - Lock Down

Citizen COP - Mobile Application : छत्तीसगढ़ पुलिस की मोबाईल एप्लीकेशन सिटीजन काॅप डिजिटल पुलिस थाना का एक स्वरूप है, यह एप्प वर्तमान में छत्तीसगढ़ राज्य के रायपुर एवं दुर्ग संभाग के सभी 10 जिले एवं मुंगेली जिला में सक्रिय रूप से लागू है। वर्तमान में राज्य में सिटीजन काॅप के लगभग 1 लाख 35 हजार सक्रिय उपयोगकर्ता हैं जो अपराधमुक्त समाज की स्थापना में अपना योगदान दे रहे है। उल्लेखनीय है कि इस एप्लीकेशन को राष्ट्रीय स्तर पर डिजिटल इंडिया अवार्ड एवं स्मार्ट पुलिसिंग अवार्ड से सम्मानित किया गया है। यहां यह भी उल्लेखनीय है कि इसे शीघ्र ही पूरे देश में लागू किये जाने की दिशा में भारत सरकार विचार कर रही है। अभी सिटीजन काॅप मोबाईल एप्लीकेशन डाउलोड करने के लिए यहां क्लिक करिए - एच.पी. जोशी

लोकप्रिय ब्लाॅग संदेश (Popular Information)

यह वेबसाइट /ब्लॉग भारतीय संविधान की अनुच्छेद १९ (१) क - अभिव्यक्ति की आजादी के तहत सोशल मीडिया के रूप में तैयार की गयी है।
यह वेबसाईड एक ब्लाॅग है, इसे समाचार आधारित वेबपोर्टल न समझें।
इस ब्लाॅग में कोई भी लेखक/व्यक्ति अपनी मौलिक पोस्ट प्रकाशित करवा सकता है। इस ब्लाॅग के माध्यम से हम शैक्षणिक, समाजिक और धार्मिक जागरूकता लाने तथा वैज्ञानिक सोच विकसित करने के लिए प्रयासरत् हैं। लेखनीय और संपादकीय त्रूटियों के लिए मै क्षमाप्रार्थी हूं। - श्रीमती विधि हुलेश्वर जोशी

Recent

माह में सबसे अधिक बार पढ़ा गया लेख