Thursday, November 22, 2018

पुलिस के सिटीजन काॅप एप्प की उपलब्धि, लगभग 14 लाख, 50 हजार का मोबाईल फोन किया रिकवर

पुलिस के सिटीजन काॅप एप्प की उपलब्धि, लगभग 14 लाख, 50 हजार का मोबाईल फोन किया रिकवर

सिटीजन काॅप के माध्यम से कुल 126 नग मोबाईल फोन बरामद

श्री जी.पी. सिंह, पुलिस महानिरीक्षक, दुर्ग रेंज, दुर्ग के निर्देशन में संचालित सिटीजन काॅप सेल द्वारा सिटीजन काॅप - मोबाईल एप्लीकेशन पर दर्ज मोबाईल फोन के गुम होने की शिकायतों पर कार्यवाही करते हुये 14 नग मोबाईल फोन रिकवर किया गया। श्री सिंह द्वारा इन 14 नग मोबाईल फोन को उनके मूल मालिको को आवश्यक दस्तावेज देखकर आज दिनांक 22/11/2018 को अपने कार्यालय में वापस सुपुर्द किया गया। ये मोबाईल फोन राज्य के बाहर हैदराबाद (तेलंगाना), पंजाब, झारखण्ड, सूरत (गुजरात), बरगढ़ (उडीसा), देवरी (महाराष्ट्र), एवं राज्य के सरायपाली, कांकेर एवं स्थानीय लोगों से रिकवर किये गये हैं।

उल्लेखनीय है कि दुर्ग संभाग में सिटीजन काॅप - मोबाइल एप्लीकेशन के अपग्रेडेड वर्जन के साथ मार्च 2018 में लाॅंच किया गया था, तब से अभी तक सिटीजन काॅप के माध्यम से कुल 126 नग मोबाईल फोन बरामद कर संबंधित मोबाईल धारको को लौटाया जा चुका है। अब तक रिकवर किये गये सभी मोबाईल फोन की कीमत लगभग 14 लाख 50 हजार रूपये के करीब है।।

गुम/चोरी हुए मोबाईल फोन वापस मिलने के कारण लोगों ने मोबाईल फोन वापस मिलने पर खुषी जाहिर करते हुए सिटीजन काॅप मोबाईल एप्प व रेंज पुलिस महानिरीक्षक के द्वारा किये जा रहे कार्यों की सराहना की है। करीमुद्दीन फरीद अपने मोबाईल वीवो-53आई वापस पाकर सिटीजन काॅप के कार्यषैली की सराहना करते हुए अपने फीडबैक में लिखा है ‘’मेरा मोबाईल खरीदने के एक सप्ताह बाद ही चोरी हो गया था इसलिए इस्तेमाल नही का पाने का अफसोस था। आपके प्रयासों से करीब चार महिने बाद यह मोबाईल मिला है। मुझे इसलिए भी खुषी है कि आपने जिस मोबाईल को खोजकर वापस दिया है उसे मैने अपनी पत्नी को गिफ्ट किया था। मै इसके लिए आपका धन्यवाद और आभार प्रकट करता हूं।’’

Related Images


Share:

"करा समर्पण" हल्बी गीत

यह वेबसाइट /ब्लॉग भारतीय संविधान की अनुच्छेद १९ (१) क - अभिव्यक्ति की आजादी के तहत सोशल मीडिया के रूप में तैयार की गयी है।
यह वेबसाईड एक ब्लाॅग है, इसे समाचार आधारित वेबपोर्टल न समझें।
इस ब्लाॅग में कोई भी लेखक/व्यक्ति अपनी मौलिक पोस्ट प्रकाशित करवा सकता है। इस ब्लाॅग के माध्यम से हम शैक्षणिक, समाजिक और धार्मिक जागरूकता लाने तथा वैज्ञानिक सोच विकसित करने के लिए प्रयासरत् हैं। लेखनीय और संपादकीय त्रूटियों के लिए मै क्षमाप्रार्थी हूं। - श्रीमती विधि हुलेश्वर जोशी

सबसे अधिक बार पढ़ा गया लेख