Monday, November 05, 2018

धनतेरस पर दुर्ग आईजी श्री जी.पी. सिंह ने लौटाये 17 नग मोबाईल फोन

धनतेरस पर दुर्ग आईजी श्री जी.पी. सिंह ने लौटाये 17 नग मोबाईल फोन
सिटीजन काॅप के माध्यम से कुल 112 नग मोबाईल फोन बरामद
गाजियाबाद (उत्तर प्रदेश), सूल्तानपुर (उत्तर प्रदेश), बालाघाट (मध्य प्रदेश), अहमदनगर (महाराष्ट्र), गोंदिया (महाराष्ट्र), बरगढ़ (उडिसा), आसाम एवं दिल्ली से रिकवर
श्री जी.पी. सिंह, पुलिस महानिरीक्षक, दुर्ग रेंज, दुर्ग के निर्देशन में संचालित सिटीजन काॅप सेल द्वारा सिटीजन काॅप - मोबाईल एप्लीकेशन पर दर्ज मोबाईल फोन के गुम होने की शिकायतों पर कार्यवाही करते हुये 17 नग मोबाईल फोन रिकवर किया गया। श्री सिंह द्वारा इन 17 नग मोबाईल फोन को उनके मूल मालिको को आवश्यक दस्तावेज देखकर आज दिनांक 05/11/2018 को अपने कार्यालय में वापस सुपुर्द किया गया। उल्लेखनीय है कि दुर्ग संभाग में सिटीजन काॅप - मोबाइल एप्लीकेशन के अपग्रेडेड वर्जन के साथ मार्च 2018 में लाॅंच किया गया था, तब से अभी तक सिटीजन काॅप के माध्यम से कुल 112 नग मोबाईल फोन बरामद कर संबंधित मोबाईल धारको को लौटाया जा चुका है। ये सभी 17 नग मोबाईल फोन राज्य के बाहर से गाजियाबाद (उत्तर प्रदेश), सूल्तानपुर (उत्तर प्रदेश), बालाघाट (मध्य प्रदेश), अहमदनगर (महाराष्ट्र), गोंदिया (महाराष्ट्र), बरगढ़ (उडिसा), आसाम एवं दिल्ली से रिकवर किये गये हैं।
गुम/चोरी हुए मोबाईल फोन धनतेरस के अवसर पर वापस मिलने के कारण लोगों को अत्यधिक खुशी हुई है। लोगों ने मोबाईल फोन वापस मिलने पर खुशी जाहिर करते हुए सिटीजन काॅप मोबाईल एप्प व रेंज पुलिस महानिरीक्षक के द्वारा किये जा रहे कार्यों की सराहना की है। विक्रम नाग अपने मोबाईल सैमसंग जे-7 वापस पाकर सिटीजन काॅप के कार्यशैली की सराहना करते हुए अपने फीडबैक में लिखा है ‘वाह क्या बात है ! मै बहुत खुश हुआ, आपके सिटीजन काॅप एप्प के माध्यम से मेरा मोबाईल आज वापस मिला, आपके टीम को बधाईयां। मै तो सोचा था कि अब मुझे ये मोबाईल नही मिलेगा, किन्तु आईजी साहब द्वारा शुरू किये गये इस मोबाईल एप्प के कारण मुझे पुनः प्राप्त हो गया। कृपया सिटीजन काॅप एप्प को बंद न करें, इससे और बहुत लोगों को लाभ मिला है।’’
Share:

Fight With Corona - Lock Down

Popular Information

यह वेबसाइट /ब्लॉग भारतीय संविधान की अनुच्छेद १९ (१) क - अभिव्यक्ति की आजादी के तहत सोशल मीडिया के रूप में तैयार की गयी है।
यह वेबसाईड एक ब्लाॅग है, इसे समाचार आधारित वेबपोर्टल न समझें।
इस ब्लाॅग में कोई भी लेखक/व्यक्ति अपनी मौलिक पोस्ट प्रकाशित करवा सकता है। इस ब्लाॅग के माध्यम से हम शैक्षणिक, समाजिक और धार्मिक जागरूकता लाने तथा वैज्ञानिक सोच विकसित करने के लिए प्रयासरत् हैं। लेखनीय और संपादकीय त्रूटियों के लिए मै क्षमाप्रार्थी हूं। - श्रीमती विधि हुलेश्वर जोशी

Most Information