Sunday, August 16, 2020

आपको भी आ सकता है हार्ट अटैक - स्वास्थ्य जागरूकता पर आधारित लेख

Heart Attack के कारण और बचाव के उपाय - श्री हुलेश्वर जोशी

(स्वास्थ्य जागरूकता पर आधारित लेख)

यदि आप नशीले पदार्थों का सेवन करते हैं या जंकफूड खाते हैं; कठोर परिश्रम या योगा अथवा व्यायाम नहीं करते और स्मार्टफोन अथवा लेपटॉप / कंप्यूटर का अधिक इस्तेमाल करते हैं तो सावधान 50% से अधिक गारंटी है कि आपको Heart Attack होगा।

महिलाओं में हार्ट अटैक से बचने के लिए पर्याप्त प्रतिरोधक क्षमता होती है, मगर यदि कोई महिला नशीले पदार्थों का सेवन, जंकफूड का सेवन और स्मार्टफोन अथवा लेपटॉप/कंप्यूटर का अधिक इस्तेमाल करती हो तो मोनोपॉज के 5-10 साल के बाद पुरुषों के बराबर ही संभावना होगी कि उन्हें भी Heart Attack आ जाए। इसलिए महिलाओं को नशीले पदार्थों के सेवन से बचना चाहिए।

खराब और असंयमित दिनचर्या के कारण अब 30 साल से कम उम्र के युवाओं में भी Heart Attack की संभावना दिनोंदिन बढ़ती जा रही है; इसलिए सीने में अधिक दर्द होने की स्थिति में तत्काल चिकित्सकीय सहायता लें।

Heart Attack से बचाव कैसे संभव है?
# कभी भी किसी भी शर्त में नशीले पदार्थों का सेवन न करें।
# जंकफूड अर्थात अधिक तेल में तले भोज्यपदार्थों का सेवन न करें। भोजन में सलाद और कम पके सब्जियों को शामिल करें। अधिक मसालेदार भोजन आपके सेहत के लिए हानिकारक ही होगा। अपने भोजन में न्यूनतम मात्रा में ही नमक को शामिल करें।
# स्मार्टफोन, गैजेट्स, लेपटॉप अथवा कंप्यूटर सिस्टम का न्यूनतम इस्तेमाल करें।
# नितमित रूप से कठोर शारीरिक परिश्रम करें; अर्थात अपने सारे काम खुद करें। यदि संभव न हो तो योगा अथवा व्यायाम करें।
# भरपूर नींद लें और तनावमुक्त रहें।
# मोटापा से बचें।
# बेवजह औषधियों के प्रयोग से बचें।

---
आवश्यक सूचना : उपरोक्त जानकारी लेखक के जानकारी के आधार पर लिखे गए हैं, यह किसी भी प्रकार से दावा अथवा गारंटी नहीं है।
Share:

3 comments:


प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कैसे करें?


यह वेबसाइट /ब्लॉग भारतीय संविधान की अनुच्छेद १९ (१) क - अभिव्यक्ति की आजादी के तहत सोशल मीडिया के रूप में तैयार की गयी है।
यह वेबसाईड एक ब्लाॅग है, इसे समाचार आधारित वेबपोर्टल न समझें।
इस ब्लाॅग में कोई भी लेखक/व्यक्ति अपनी मौलिक पोस्ट प्रकाशित करवा सकता है। इस ब्लाॅग के माध्यम से हम शैक्षणिक, समाजिक और धार्मिक जागरूकता लाने तथा वैज्ञानिक सोच विकसित करने के लिए प्रयासरत् हैं। लेखनीय और संपादकीय त्रूटियों के लिए मै क्षमाप्रार्थी हूं। - श्रीमती विधि हुलेश्वर जोशी

सबसे अधिक बार पढ़ा गया लेख