Saturday, October 31, 2020

जीवन क्या है? जीवन का सार क्या है?

प्रश्न- जीवन क्या है? जीवन का सार क्या है?

उत्तर- ‘‘जी’’ सार है जीवन का यदि जीवन से ‘‘जी’’ निकाल दिया जाए तो केवल ‘‘वन‘‘ ही रह जायेगा। ख्याल रखना जीवन के लिए जितना अवश्य ‘‘वन’’ है उतना ही वन के लिए ‘‘जी’’ आवश्यक है। जीवन क्या है? इसे जानने की लिए आपको जीना चाहिए, भरपूर जीना चाहिए, यदि आप जीएंगे नही तो जीवन को जान नही पाएंगे। 


जीवन का ‘‘जी’’ एक प्रेरणादायक शब्द है जो आपको निरंतर प्रेरित करता है कि आप जीवन को जीएं, यदि आप जीवन को जीने के बजाय केवल घसीटते हैं, रगडते हैं काम में, क्रोध में, लोभ में और मोह में संलिप्त रखते हैं तो आपका जीवन निरर्थक हो जाएगा इसलिए आपको जीवन को जीना चाहिए, भरपूर जीना चाहिए, आनंद, खुसी, शांति और संतोष को अपना स्वभाविक गुण बनाकर जीएं। काम, क्रोध, लोभ और मोह के लिए स्वयं को संघर्ष, षडयंत्र और अमानवीय कृत्यों में संलग्न कर देंगे तो आपका जीवन व्यर्थ होगा क्योंकि जीवन एक प्रेरणादायक संदेश है जो आपको जीने के लिए प्रेरित करती है न कि घृणा, नफरत और द्वेष में लगे रहने के लिए।


Share:

0 टिप्पणियाँ:

Post a Comment

"करा समर्पण" हल्बी गीत

यह वेबसाइट /ब्लॉग भारतीय संविधान की अनुच्छेद १९ (१) क - अभिव्यक्ति की आजादी के तहत सोशल मीडिया के रूप में तैयार की गयी है।
यह वेबसाईड एक ब्लाॅग है, इसे समाचार आधारित वेबपोर्टल न समझें।
इस ब्लाॅग में कोई भी लेखक/व्यक्ति अपनी मौलिक पोस्ट प्रकाशित करवा सकता है। इस ब्लाॅग के माध्यम से हम शैक्षणिक, समाजिक और धार्मिक जागरूकता लाने तथा वैज्ञानिक सोच विकसित करने के लिए प्रयासरत् हैं। लेखनीय और संपादकीय त्रूटियों के लिए मै क्षमाप्रार्थी हूं। - श्रीमती विधि हुलेश्वर जोशी

सबसे अधिक बार पढ़ा गया लेख