Monday, June 12, 2017

केवल शंका के आधार पर न करे कोई ऐसा कार्य कि आपको जीवनभर पछताना पड़े

केवल शंका के आधार पर न करे कोई ऐसा कार्य कि आपको जीवनभर पछताना पड़े .......


एक पुरानी सी धूल खाई सी कहानी है जिसमें एक दंपत्ति ने एक नेवला पाल रखी थी कुछ समय के अंतराल में उनको एक सुन्दर सा बालक हुआ। लम्बे समय से नेवला के साथ रहने के कारण दंपत्ति को उसमे विश्वाश हो गया था सो उसके संरक्षण में बालक को छोड़कर वे अपने कार्य में चले जाते थे। 

एकदिन हुआ यूँ कि दंपत्ति खेत से काम करके लौटी तो देखा कि नेवला के मुख व शरीर के अधिकांश भाग में खून लगा हुआ था यानि वह खून से लथपथ था वह आँगन में उस नव दंपत्ति का प्रतीक्षा कर रहा था। दंपत्ति देखते ही यह निर्धारित कर लिया कि नेवला ने उनके बालक का वध कर खा लिया है। छण भर भी विलम्ब किये बिना दंपत्ति ने फावड़े और कुदाल से प्रहार कर उस नेवले का हत्या कर दिया। 

नेवला का हत्या कर लेने के बाद वे रोते बिलखते हुए घर के भीतर प्रवेश किये तो पता चला कि नीचे एक सर्प कई टुकड़ों में कटा मरा हुआ मिला। दंपत्ति में थोड़ी आस जगी हे ईश्वर मेरा बालक जीवित हो। देखा सच में बालक जीवित मिला। 

बिना पुष्टि के मात्र शंका के आधार पर किये गए हत्या से आपको क्या शिक्षा मिलती है जरूर बताएं। 


writer by : Shri HP Joshi

Share:

Fight With Corona - Lock Down

Citizen COP - Mobile Application : छत्तीसगढ़ पुलिस की मोबाईल एप्लीकेशन सिटीजन काॅप डिजिटल पुलिस थाना का एक स्वरूप है, यह एप्प वर्तमान में छत्तीसगढ़ राज्य के रायपुर एवं दुर्ग संभाग के सभी 10 जिले एवं मुंगेली जिला में सक्रिय रूप से लागू है। वर्तमान में राज्य में सिटीजन काॅप के लगभग 1 लाख 35 हजार सक्रिय उपयोगकर्ता हैं जो अपराधमुक्त समाज की स्थापना में अपना योगदान दे रहे है। उल्लेखनीय है कि इस एप्लीकेशन को राष्ट्रीय स्तर पर डिजिटल इंडिया अवार्ड एवं स्मार्ट पुलिसिंग अवार्ड से सम्मानित किया गया है। यहां यह भी उल्लेखनीय है कि इसे शीघ्र ही पूरे देश में लागू किये जाने की दिशा में भारत सरकार विचार कर रही है। अभी सिटीजन काॅप मोबाईल एप्लीकेशन डाउलोड करने के लिए यहां क्लिक करिए - एच.पी. जोशी

लोकप्रिय ब्लाॅग संदेश (Popular Information)

यह वेबसाइट /ब्लॉग भारतीय संविधान की अनुच्छेद १९ (१) क - अभिव्यक्ति की आजादी के तहत सोशल मीडिया के रूप में तैयार की गयी है।
यह वेबसाईड एक ब्लाॅग है, इसे समाचार आधारित वेबपोर्टल न समझें।
इस ब्लाॅग में कोई भी लेखक/व्यक्ति अपनी मौलिक पोस्ट प्रकाशित करवा सकता है। इस ब्लाॅग के माध्यम से हम शैक्षणिक, समाजिक और धार्मिक जागरूकता लाने तथा वैज्ञानिक सोच विकसित करने के लिए प्रयासरत् हैं। लेखनीय और संपादकीय त्रूटियों के लिए मै क्षमाप्रार्थी हूं। - श्रीमती विधि हुलेश्वर जोशी

Recent

माह में सबसे अधिक बार पढ़ा गया लेख