Friday, July 31, 2020

लिख दूँ क्या बात पुरानी - एक प्रेमी का प्रेमिका से वार्ता

नवयौवना की कहानी, कुछ तेरी ही जुबानी
लिख दूँ क्या बात पुरानी?
तुम तब भी थी सयानी, अब हो गई तू जो दीवानी लिख दूँ क्या बात पुरानी?
"As You Like" हर पन्ने में पढ़ाता था, 'हस्तलिपियों में' लिख दूँ क्या बात पुरानी?
नवयौवना की कहानी, कुछ तेरी ही जुबानी
लिख दूँ क्या बात पुरानी?
---

दुश्मन जो तुम कहलाती थी, अंतर्मन में मुस्कराती थी।
जब पास तुम्हारे आता, धड़कने तेज हो जाती थी।।
फिर भी मोर फोहराबाई, दूर दूर तुम जाती थी।
दुश्मन जो तुम कहलाती थी, अंतर्मन में मुस्कराती थी।
---

रातें सारी जाग जाग कर, दिनभर जो जमहाती थी।
लाखों बातें होती, फिर भी अधूरी रह जाती थी।।
भौतिकी के पीरियड में, रेकी जो मुझे पढ़ाती थी।
रातें सारी जाग जाग कर, दिनभर जो जमहाती थी।
---

नवयौवना की कहानी, कुछ तेरी ही जुबानी
लिख दूँ क्या बात पुरानी?
दुश्मन जो तुम कहलाती थी, अंतर्मन में मुस्कराती थी।
रातें सारी जाग जाग कर, दिनभर जो जमहाती थी।
नवयौवना की कहानी, कुछ तेरी ही जुबानी
लिख दूँ क्या बात पुरानी?
---

राइटर : HP Joshi
Dated: 31/07/2020
कैम्प कवारेन्टीन, नारायणपुर

Imege :


Share:

2 comments:


प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कैसे करें?


यह वेबसाइट /ब्लॉग भारतीय संविधान की अनुच्छेद १९ (१) क - अभिव्यक्ति की आजादी के तहत सोशल मीडिया के रूप में तैयार की गयी है।
यह वेबसाईड एक ब्लाॅग है, इसे समाचार आधारित वेबपोर्टल न समझें।
इस ब्लाॅग में कोई भी लेखक/व्यक्ति अपनी मौलिक पोस्ट प्रकाशित करवा सकता है। इस ब्लाॅग के माध्यम से हम शैक्षणिक, समाजिक और धार्मिक जागरूकता लाने तथा वैज्ञानिक सोच विकसित करने के लिए प्रयासरत् हैं। लेखनीय और संपादकीय त्रूटियों के लिए मै क्षमाप्रार्थी हूं। - श्रीमती विधि हुलेश्वर जोशी

सबसे अधिक बार पढ़ा गया लेख