पुलिस ने शहीदों की पूण्यतिथि में उनके बलिदान को याद कर श्रद्धांजलि अर्पित की, पुलिस अधीक्षक श्री सदानंद कुमार (भापुसे) ने शहीदों के प्रतिमा का किया अनावरण


पुलिस ने शहीदों की पूण्यतिथि में उनके बलिदान को याद कर श्रद्धांजलि अर्पित की, पुलिस अधीक्षक श्री सदानंद कुमार (भापुसे) ने शहीदों के प्रतिमा का किया अनावरण

शहीद दिवस के दिन जिला नारायणपुर अबूझमाड़ के सीमावर्ती कैम्प कड़ेमेंटा और कन्हारगांव के मध्य बुकिनतोर पुलिया में दिनांक 23.03.2021 को हुए बारूदी विस्फोट में प्रधान आरक्षक श्री पवन मण्डावी, प्रधान आरक्षक श्री जयलाल उईके, आरक्षक श्री सेवक सलाम, आरक्षक चालक श्री देवकरण देहारी और सहायक आरक्षक श्री विजय पटेल शहादत को प्राप्त हुए थे। आज इन वीर शहीदों की प्रथम पुण्यतिथि के अवसर पर पुलिस अधीक्षक श्री सदानंद कुमार (भापुसे) के पहल पर नारायणपुर पुलिस द्वारा उन्हें याद करते हुए जिलेभर में विभिन्न कार्यक्रम आयोजित किये गये, जिसमें हजारों लोगों ने हिस्सा लेकर शहीदों को अपनी श्रद्धांजलि अर्पित की है।

शहीदों की प्रतिमा का हुआ अनावरण
शहीदों के पूण्यतिथि के अवसर पर आज सर्वप्रथम पुलिस अधीक्षक श्री सदानंद कुमार (भापुसे) के द्वारा सोनपुर रोड़, मुरियापारा चौक, नारायणपुर में शहीद सहायक आरक्षक श्री विजय पटेल के प्रतिमा का अनावरण किया, उसके बाद शांतिनगर, गुडरीपारा चौक, नारायणपुर में शहीद प्रधान आरक्षक श्री जयलाल उईके के आदमकद प्रतिमा का अनावरण किया गया। प्रतिमा के अनावरण के दौरान पुलिस अधीक्षक श्री सदानंद कुमार के द्वारा शहीदों को श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए शहीदों के वीरगाथा और बलिदान से लोगों को अवगत कराया गया तथा शहीद परिवार को सम्मानित भी किया गया। इस दौरान अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक श्री अक्षय कुमार (भापुसे) सहित जिले के राजपत्रित पुलिस अधिकारियों, पुलिस अधिकारी, जवान, शहीद परिवार और गणमान्य नागरिक उपस्थित रहे।

जिला कोण्डागांव में अपुअ श्री नीरज चंद्राकर ने शहीद श्री पवन मण्डावी के प्रतिमा का किया अनावरण
अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक श्री नीरज चन्द्राकर द्वारा ग्राम भर्रीपारा-स्कूलपारा (बहीगांव) थाना फरसगांव, जिला कोण्डागांव में शहीद प्रधान आरक्षक श्री पवन मण्डावी के प्रतिमा का अनावरण किया गया। इस दौरान शहीद को श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए श्री चंद्राकर द्वारा उनके वीरगाथा और बलिदान से लोगों को अवगत कराया गया तथा शहीद परिवार को सम्मानित भी किया गया। प्रतिमा अनावरण के दौरान शहीद परिवार और डीआरजी नारायणपुर के जवानों सहित सैकड़ों स्थानीय लोगों उपस्थित रहे।

रक्षित केन्द्र में शहीदों को दी गई श्रद्धांजलि
पुलिस अधीक्षक श्री सदानंद कुमार (भापुसे) के नेतृत्व में अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक श्री अक्षय कुमार (भापुसे), राजपत्रित पुलिस अधिकारियों, पुलिस अधिकारियों, गणमान्य नागरिकों, जन प्रतिनिधियों, जवानों, पुलिस पुरिवार और शहीद परिवारों की उपस्थिति में सायं 5 बजे रक्षित केन्द्र, नारायणपुर स्थित शहीद स्मारक में शहीदे आजम श्री भगत सिंह और जिला नारायणपुर के बुकिनतोर ब्लास्ट में शहीद हुए शहीद श्री पवन मण्डावी, शहीद श्री जयलाल उईके, शहीद श्री सेवक सलाम, शहीद श्री देवकरण देहारी और शहीद श्री विजय पटेल को पुष्पांजलि अर्पित कर श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए शहीदों के शहादत को याद किया गया। इसके पश्चात् रक्षित केन्द्र स्थित वाहन शाखा में शहीद श्री देवकरण देहारी की स्मृति में पार्किग शेड का शुभारंभ किया गया।

थाना/कैम्पों में भी मनाया गया शहादत दिवस
शहीद दिवस और शहीद श्री पवन मण्डावी, शहीद श्री जयलाल उईके, शहीद श्री सेवक सलाम, शहीद श्री देवकरण देहारी और शहीद श्री विजय पटेल की प्रथम पूण्यतिथि के अवसर पर पुलिस अधीक्षक श्री सदानंद कुमार के पहल पर नारायणपुर पुलिस द्वारा थाना कोहकामेटा, थाना धनोरा, थाना छोटेडोंगर और कैम्प अमदईघाटी सहित जिले के समस्त थाना/कैम्पों में शहादत दिवस मनाकर उनके योगदान को याद किया गया।

शहीद दिवस के अवसर पर पुलिस अधीक्षक श्री सदानंद कुमार (भापुसे) ने उनके बलिदान को याद करते हुए कहा कि इन वीर शहीद जवानों नें राज्य की सुरक्षा में अपना सर्वस्व न्यौछावर किया है। हमारे वीर शहीद जाबांज योद्धाओं के शहादत का ही परिणाम है कि आज हम सब अबूझमाड़ सहित समूचे बस्तर में निर्भिक होकर शांतिपूर्ण जीवन जी रहे है। हमें अमर शहीद जवानों के बलिदान को सदैव याद रखना चाहिए क्योंकि उनके योगदान से ही हम उन्नति की ओर भी अग्रसर हुए हैं।

Related Images:






Share:

0 टिप्पणियाँ:

Post a Comment



प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कैसे करें?


यह वेबसाइट /ब्लॉग भारतीय संविधान की अनुच्छेद १९ (१) क - अभिव्यक्ति की आजादी के तहत सोशल मीडिया के रूप में तैयार की गयी है।
यह वेबसाईड एक ब्लाॅग है, इसे समाचार आधारित वेबपोर्टल न समझें।
इस ब्लाॅग में कोई भी लेखक/व्यक्ति अपनी मौलिक पोस्ट प्रकाशित करवा सकता है। इस ब्लाॅग के माध्यम से हम शैक्षणिक, समाजिक और धार्मिक जागरूकता लाने तथा वैज्ञानिक सोच विकसित करने के लिए प्रयासरत् हैं। लेखनीय और संपादकीय त्रूटियों के लिए मै क्षमाप्रार्थी हूं। - श्रीमती विधि हुलेश्वर जोशी

सबसे अधिक बार पढ़ा गया लेख