रक्षाबंधन की शुभकामना संदेश - आप से निवेदन है कि आप इसे अपने भाई-बहन को जरूर शेयर करें।


आप जम्मो भाई-बहिनी मन ल रक्षा बंधन के हार्दिक बधाई अऊ शुभकामना।

सबले पहिली मोर जम्मों बहिनी मन के प्रेम, सद्भावना और शुभकामना के लिए मैं उँखर चिरऋणी रईहूँ। मोर जम्मों बहिनी मन ल अशेष आशीर्वाद.... ओहु जम्मो नोनी मन ल घलो आशीर्वाद जिखर कोनो भाई नई हे, जेन बहिनी मन मोला अपन भाई मानके मोर व्हाट्सएप नम्बर 9826164156 म राखी के फोटू भेजहिं, ओहु ल मैं स्वीकार करहुँ। भाई के रूप म उँखरों जीवन पर्यंत मार्गदर्शन करत रईहुँ।

⭕ गुरु घासीदास ने कहा है "कोई दिन तिथि अऊ बेरा ह शुभ या अशुभ मुहूर्त नई होवय।" 

📢📢 रक्षाबंधन ह बहिनी के प्रेम अऊ विश्वास के प्रतीक आय। मोर बहिनी होवव आपमन शुभ मुहूर्त के चक्कर म मत परहौ प्रकृति ह तुँहर आदेश अऊ विश्वास के पूरा-पूरा पालन और सम्मान जरूर करहि। वोमन शुभ अशुभ, ग्रह दोष अऊ कुंडली के नाव म अफवाह फईलाके तुँहला लूट लेहिं।

एक निवेदन 
यदि आप असल में रक्षाबंधन मना रहे हैं और रक्षाबंधन की महत्ता को समझ रहे हैं तो आपसे अनुरोध है कि, आप आज से ही जीवनपर्यन्त शाकाहार रहने की प्रतिज्ञा लें। क्योंकि आप जिन्हें माँस के रूप खा रहे हैं और जिनकी हत्या कर रहे हैं या आपके खाने के लिये कोई अन्य हत्या कर रहा है वह (बकरा, मुर्गा, मछली, इत्यादि) भी किसी का भाई और किसी की बहन है। यदि आप किसी की हत्या कर रहे हैं या किसी के मरने से खुश हैं तो आप कैसे उम्मीद कर सकते हैं कि आपके भाई और आपकी बहन दीर्घायु जीवन की स्वामी हो।  

हुलेश्वर जोशी "अबुझमाड़िया'
नारायणपुर
Share:

0 टिप्पणियाँ:

Post a Comment



सबसे अधिक बार पढ़ा गया लेख


यह वेबसाइट /ब्लॉग भारतीय संविधान की अनुच्छेद १९ (१) क - अभिव्यक्ति की आजादी के तहत सोशल मीडिया के रूप में तैयार की गयी है।
यह वेबसाईड एक ब्लाॅग है, इसे समाचार आधारित वेबपोर्टल न समझें।
इस ब्लाॅग में कोई भी लेखक/कवि/व्यक्ति अपनी मौलिक रचना और किताब निःशुल्क प्रकाशित करवा सकता है। इस ब्लाॅग के माध्यम से हम शैक्षणिक, समाजिक और धार्मिक जागरूकता लाने तथा वैज्ञानिक सोच विकसित करने के लिए प्रयासरत् हैं। लेखनीय और संपादकीय त्रूटियों के लिए मै क्षमाप्रार्थी हूं। - श्रीमती विधि हुलेश्वर जोशी

प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कैसे करें?

Blog Archive