Thursday, July 12, 2018

दुर्ग में खुला हाईटेक साइबर क्राइम ब्रांच, अब शिकायतों में कार्यवाही में आएगी गति

दुर्ग में खुला हाईटेक साइबर क्राइम ब्रांच, अब शिकायतों में कार्यवाही में आएगी गति 

फेसबुक, ट्विटर, इंस्ट्राग्राम, टेलीग्राम और व्हाट्सप्प जैसे सोशल मीडिया में सक्रिय असामाजिक तत्वों और अपराधियों के लिए बुरी खबर यह है कि श्री जी. पी. सिंह, पुलिस महानिरीक्षक, दुर्ग रेंज द्वारा दिनांक 10.7.2018 को थाना भिलाई भटठी परिसर में निर्मित नवीन क्राईम भवन का लोकार्पण किया गया।
खबर है कि साइबर क्राइम ब्रांच सभी प्रकार के उन्नत और आधुनिक तकनीक के सुसज्जित है। यह सेल सभी सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म में सक्रिय रहकर जिले के प्रत्येक उपयोगकर्ताओं पर कड़ी नजर रखेगी।

संभावना : साइबर क्राइम ब्रांच के खुलने के बाद दुर्ग जिले में हो रही साइबर अपराधों में नियंत्रण की संभावना है।  साइबर क्राइम ब्रांच खुल जाने से अब दुर्ग के सोशल मीडिया प्लेटफार्म में सक्रीय असामाजिक तत्वों और अपराधियों पर कड़ी नजर रखी जा सकती है।  
Share:

0 टिप्पणियाँ:

Post a Comment

Fight With Corona - Lock Down

Citizen COP - Mobile Application : छत्तीसगढ़ पुलिस की मोबाईल एप्लीकेशन सिटीजन काॅप डिजिटल पुलिस थाना का एक स्वरूप है, यह एप्प वर्तमान में छत्तीसगढ़ राज्य के रायपुर एवं दुर्ग संभाग के सभी 10 जिले एवं मुंगेली जिला में सक्रिय रूप से लागू है। वर्तमान में राज्य में सिटीजन काॅप के लगभग 1 लाख 35 हजार सक्रिय उपयोगकर्ता हैं जो अपराधमुक्त समाज की स्थापना में अपना योगदान दे रहे है। उल्लेखनीय है कि इस एप्लीकेशन को राष्ट्रीय स्तर पर डिजिटल इंडिया अवार्ड एवं स्मार्ट पुलिसिंग अवार्ड से सम्मानित किया गया है। यहां यह भी उल्लेखनीय है कि इसे शीघ्र ही पूरे देश में लागू किये जाने की दिशा में भारत सरकार विचार कर रही है। अभी सिटीजन काॅप मोबाईल एप्लीकेशन डाउलोड करने के लिए यहां क्लिक करिए - एच.पी. जोशी

लोकप्रिय ब्लाॅग संदेश (Popular Information)

यह वेबसाइट /ब्लॉग भारतीय संविधान की अनुच्छेद १९ (१) क - अभिव्यक्ति की आजादी के तहत सोशल मीडिया के रूप में तैयार की गयी है।
यह वेबसाईड एक ब्लाॅग है, इसे समाचार आधारित वेबपोर्टल न समझें।
इस ब्लाॅग में कोई भी लेखक/व्यक्ति अपनी मौलिक पोस्ट प्रकाशित करवा सकता है। इस ब्लाॅग के माध्यम से हम शैक्षणिक, समाजिक और धार्मिक जागरूकता लाने तथा वैज्ञानिक सोच विकसित करने के लिए प्रयासरत् हैं। लेखनीय और संपादकीय त्रूटियों के लिए मै क्षमाप्रार्थी हूं। - श्रीमती विधि हुलेश्वर जोशी

Recent

माह में सबसे अधिक बार पढ़ा गया लेख