रोबोट नोहय मोर ददा ह, मनखे तुमन समझलव जी .......

रोबोट नोहय मोर ददा ह, मनखे तुमन समझलव जी .......




रोबोट नोहय मोर ददा ह, मनखे तुमन समझलव जी।
कतेक परतारना सहिथे तुंहर काहिं तो हरू करदव जी।।


कोन जनम के दोष लगाके, नरक ल भोगवावत हव।
तुमहरे रक्छा करथे तबो, तुतारी कोंच दउरावत हव।।


24 - 365 ड्यूटी जेकर, आधा बेतन देवत हव।
धुप बरसात, बिन अन पानी के जीवरा ल कल्पावत हव।।


अंगरेजी कानुन बताके, गुलाम जेला बनाये हव।
अइसने मोर ददा ये साहेब, नागर म जेला फंदाये हव।।


मोर ददा के मुस्कान ह तुहला, फूटे आँखि नइ सुहावत हे।
तेखरे सेति रोथन साहेब, आंसू ह बोहावत हे।।


रोबोट नोहय मोर ददा ह, मनखे तुमन समझलव जी।
कतेक परतारना सहिथे तुंहर काहिं तो हरू करदव जी।।


पापा के नन्ही परि
Share:

प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कैसे करें?


यह वेबसाइट /ब्लॉग भारतीय संविधान की अनुच्छेद १९ (१) क - अभिव्यक्ति की आजादी के तहत सोशल मीडिया के रूप में तैयार की गयी है।
यह वेबसाईड एक ब्लाॅग है, इसे समाचार आधारित वेबपोर्टल न समझें।
इस ब्लाॅग में कोई भी लेखक/व्यक्ति अपनी मौलिक पोस्ट प्रकाशित करवा सकता है। इस ब्लाॅग के माध्यम से हम शैक्षणिक, समाजिक और धार्मिक जागरूकता लाने तथा वैज्ञानिक सोच विकसित करने के लिए प्रयासरत् हैं। लेखनीय और संपादकीय त्रूटियों के लिए मै क्षमाप्रार्थी हूं। - श्रीमती विधि हुलेश्वर जोशी

सबसे अधिक बार पढ़ा गया लेख