Monday, July 16, 2018

पुलिस परिवारों के लिए खुशखबरी, राज्य के सभी 27 जिलों में खुलेगी पुलिस कैन्टीन

पुलिस परिवारों के लिए खुशखबरी, राज्य के सभी 27 जिलों में खुलेगी पुलिस कैन्टीन


वर्तमान में राज्य के लगभग सभी छत्तीसगढ़ सशस्त्र बटालियन मुख्यालयों में  "पुलिस  कैन्टीन" संचालित है जिसमें पुलिस के अधिकारियों/कर्मचारियों को कम दर में सामग्री उपलब्ध कराया जाता है। राज्य में पुलिस कैन्टीन की स्थापना तत्कालीन योजना प्रबन्ध के आईजी श्री जीपी सिंह के अथक प्रयासों की देन है। पुलिस कैन्टीन का उपयोग राज्य में तैनात छत्तीसगढ़ सशस्त्र बल जिला पुलिस बल सहित केंद्रीय पुलिस बल के जवान और उनके परिवार भी कर रहे हैं। 4थी वाहिनी माना रायपुर में संचालित पुलिस कैन्टीन समूचे राज्य में ख्यातिप्राप्त है। जिलाबल के अधिकांश अधिकारी/कर्मचारी पुलिस कैन्टीन से लाभान्वित हो रहे हैं। जिला बल के जवानों को CAF बटालियन मुख्यालयों में संचालित पुलिस कैंटीन का लाभ लेना चाहिए।



बता दें कि आईजी श्री सिंह पुलिस आधुनिकीकरण एवं जवानों के वेफेयर के माने जाने आईजी हैं। उनके द्वारा आमजन को पुलिस सुविधा उनके स्मार्टफोन में उपलब्ध कराने के लिए Citizen COP - mobile application तैयार कराया है जो वर्तमान में राज्य के 11 जिलों में संचालित है। केंद्रसरकार ने एप्लीकेशन को बहुउपयोगी मानते हुए Digital India Award से सम्मानित किया है।



ज्ञातव्य हो कि आईजी श्री सिंह ने योजना प्रबंध में पोस्टिंग के दौरान राज्य के सभी 27 जिलों में पुलिस कैंटीन की स्थापना के लिए प्रस्ताव भेजा था। इसके अलावा हाल ही में १० जुलाई को आईजी दुर्ग ने दुर्ग संभाग के सभी पुलिस अधीक्षकों का बैठक लेकर उन्हें निर्देशित किया है कि "पुलिस जवानों के लिये 4थी बटालियन माना में स्थापित केंटिन की तरह सभी जिलों में पुलिस केेंटिन खोलने का प्रस्ताव पुलिस मुख्यालय को भेजकर स्वीकृति प्राप्त करें।" 
Share:

0 टिप्पणियाँ:

Post a Comment

Fight With Corona - Lock Down

Popular Information

यह वेबसाइट /ब्लॉग भारतीय संविधान की अनुच्छेद १९ (१) क - अभिव्यक्ति की आजादी के तहत सोशल मीडिया के रूप में तैयार की गयी है।
यह वेबसाईड एक ब्लाॅग है, इसे समाचार आधारित वेबपोर्टल न समझें।
इस ब्लाॅग में कोई भी लेखक/व्यक्ति अपनी मौलिक पोस्ट प्रकाशित करवा सकता है। इस ब्लाॅग के माध्यम से हम शैक्षणिक, समाजिक और धार्मिक जागरूकता लाने तथा वैज्ञानिक सोच विकसित करने के लिए प्रयासरत् हैं। लेखनीय और संपादकीय त्रूटियों के लिए मै क्षमाप्रार्थी हूं। - श्रीमती विधि हुलेश्वर जोशी

Most Information