एसपी श्री गिरिजा शंकर जायसवाल (आईपीएस) ने मड़ोनार, होड़नार, तुरूसमेटा और चमेली में चल रहे सड़क निर्माण कार्य का किया आकस्मिक निरीक्षण

एसपी श्री गिरिजा शंकर जायसवाल (आईपीएस) ने मड़ोनार, होड़नार, तुरूसमेटा और चमेली में चल रहे सड़क निर्माण कार्य का किया आकस्मिक निरीक्षण

# चमेली गांव के माटी त्यौहार में हुए शामिल और पूजा-अर्चना के बाद ग्रामीणों को पुलिस बल के माध्यम से सुरक्षा, विकास और विश्वास का भरोसा दिलाया

आज दिनांक 18.01.2022 को पुलिस अधीक्षक श्री गिरिजा शंकर जायसवाल, आईपीएस ने थाना छोटेड़ोंगर क्षेत्रांतर्गत छोटेड़ोगर से मड़ोनार तक निर्माणाधीन सड़क के अंतर्गत ग्राम मड़ोनार, होड़नार, तुरूसमेटा और चमेली में चल रहे सड़क निर्माण कार्य का जायजा लिया। सड़क निर्माण का जायजा लेने के बाद श्री जायसवाल मड़ोनार, होड़नार और तुरूसमेटा के ग्रामीणों से मिलने पहुंचे जहां उन्होने उनकी कुशलक्षेम और सड़क निर्माण से संबंधित जानकारी व उनकी राय जानी। इसके बाद श्री जायसवाल चमेली गांव के माटी त्यौहार में शामिल होकर पूजा-अर्चना किये, पूजा-अर्चना के बाद ग्रामीणों को पुलिस बल के माध्यम से सुरक्षा, विकास और विश्वास का भरोसा दिलाने चमेली के ग्रामीणों से मिलकर बात की तथा उनके समस्याओं को जाना। पुलिस अधीक्षक को उनके टीम सहित पहली बार अपने गांव की माटी त्यौहार में शामिल पाकर चमेली के ग्रामीण अत्यंत खुश हुए तथा ग्रामीणों में विश्वास की भावना का विकास हुआ।

आकस्मिक निरीक्षण एवं सुदुरवर्ती क्षेत्रों की प्रवास के दौरान आईपीएस श्री गिरिजा शंकर जायसवाल के साथ श्री नीरज चन्द्राकर (अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक), श्री अनुज कुमार (एसडीओपी, नारायणपुर), सुश्री उन्नती ठाकूर (उप पुलिस अधीक्षक, अजाक एवं मुख्यालय), श्री अभिषेक पैकरा (एसडीओपी, छोटेड़ोंगर), श्री दीपक साव (रक्षित निरीक्षक, नारायणपुर) एवं श्री अजय सोनकर (थाना प्रभारी छोटेड़ोंगर) उपस्थित रहे।

Related Images:




Share:

1 comment:



प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कैसे करें?


यह वेबसाइट /ब्लॉग भारतीय संविधान की अनुच्छेद १९ (१) क - अभिव्यक्ति की आजादी के तहत सोशल मीडिया के रूप में तैयार की गयी है।
यह वेबसाईड एक ब्लाॅग है, इसे समाचार आधारित वेबपोर्टल न समझें।
इस ब्लाॅग में कोई भी लेखक/व्यक्ति अपनी मौलिक पोस्ट प्रकाशित करवा सकता है। इस ब्लाॅग के माध्यम से हम शैक्षणिक, समाजिक और धार्मिक जागरूकता लाने तथा वैज्ञानिक सोच विकसित करने के लिए प्रयासरत् हैं। लेखनीय और संपादकीय त्रूटियों के लिए मै क्षमाप्रार्थी हूं। - श्रीमती विधि हुलेश्वर जोशी

सबसे अधिक बार पढ़ा गया लेख