मनखे अव रे भाई... मानवीय आचरण को रेखांकित करने वाली बेहतरीन छत्तीसगढ़ी कविता

मनखे अव रे भाई...

मनखे अव रे भाई...मनखे कस "जी" लव।
दुआभेदी तुम काबर करथव? मनखे ल तो चीन्ह लव।

"नफ़रत, घृणा अऊ छुआछूत"
नोहय हमर सिंगार।
मनखे अव रे भाई
मनखे ले कर लव पिंयार।

मनखे अव रे भाई...मनखे कस "जी" लव।
दुआभेदी तुम काबर करथव? मनखे ल तो चीन्ह लव।


कुकुर चराए अउ टट्टी कराये बर
होत बिहनिया, जग जाथव।
फेर दाई-ददा ल एक गिलास पानी देहे बर
जीव ल काबर चोराथव?

मनखे अव रे भाई...मनखे कस "जी" लव।
दुआभेदी तुम काबर करथव? मनखे ल तो चीन्ह लव।


अन्न उगईया किसान मन ल
भाई, नीच तुमन कहिथव जी।
फ़ेर ख़ैरात के खवईया जांगरचोट्टा मन ल
महान कइसे समझथव जी।

मनखे अव रे भाई...मनखे कस "जी" लव।
दुआभेदी तुम काबर करथव? मनखे ल तो चीन्ह लव।


गोबर-पिसाब ल पी के कइसे?
पतित पावन हो जाथव जी।
मनखे के छुए ले, कांही नई होवय
फेर छइन्हा म घलो छूआथव जी।

मनखे अव रे भाई...मनखे कस "जी" लव।
दुआभेदी तुम काबर करथव? मनखे ल तो चीन्ह लव।


काबर घुमत हवव
धरे-धरे
जब्बर बरछी अउ तलवार।
गुसियाये गुसियाये टिहक़त हवव
अपन देवता के तो बन जव चिन्हार।

मनखे अव रे भाई...मनखे कस "जी" लव।
दुआभेदी तुम काबर करथव? मनखे ल तो चीन्ह लव।


भाई रे...
अगास म काबर, फ़ेंकत हव तलवार।
एक फुल तो गोंदा के फ़ेंकव
मिलहि तुँहला मया दुलार।

मनखे अव रे भाई...मनखे कस "जी" लव।
दुआभेदी तुम काबर करथव? मनखे ल तो चीन्ह लव।


धरम के नाव म, भाई तुमन
धरम ले काबर भटकत हव।
"जम्मो जीव हे भाई-बहिनी बरोबर"
फेर तुम ईंखरे जीव ल लेवत हव।

मनखे अव रे भाई...मनखे कस "जी" लव।
दुआभेदी तुम काबर करथव? मनखे ल तो चीन्ह लव।


रचनाकार : 
श्री हुलेश्वर प्रसाद जोशी, 
नारायणपुर-बस्तर (छत्तीसगढ़) 
Share:

2 comments:

  1. बहुत सुन्दर 👍

    ReplyDelete
  2. मैं आपके स्वरचित छत्तीसगढ़ी कविता के दीवाना बन गे हव। भविष्य में मुलाकात करके बधाई दिए के अब्बर इच्छा हे। अगर आप मन मोला समय दिह तो मै जरूर मिलिह। छत्तीसगढ़ के जनता के मयारू भाई आप मन छत्तीसगढ़ के शान हाव और ऐसे कविता लिखेबर दिल से आप मन ला कोटि कोटि शुभकामना । मोर से कॉन्टेक्ट जरूर करिह 9340991642 Dr.Kamlesh

    ReplyDelete



प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कैसे करें?


यह वेबसाइट /ब्लॉग भारतीय संविधान की अनुच्छेद १९ (१) क - अभिव्यक्ति की आजादी के तहत सोशल मीडिया के रूप में तैयार की गयी है।
यह वेबसाईड एक ब्लाॅग है, इसे समाचार आधारित वेबपोर्टल न समझें।
इस ब्लाॅग में कोई भी लेखक/व्यक्ति अपनी मौलिक पोस्ट प्रकाशित करवा सकता है। इस ब्लाॅग के माध्यम से हम शैक्षणिक, समाजिक और धार्मिक जागरूकता लाने तथा वैज्ञानिक सोच विकसित करने के लिए प्रयासरत् हैं। लेखनीय और संपादकीय त्रूटियों के लिए मै क्षमाप्रार्थी हूं। - श्रीमती विधि हुलेश्वर जोशी

सबसे अधिक बार पढ़ा गया लेख