एसपी ने विश्वप्रसिद्ध ऐतिहासिक मावली माता मेला की सुरक्षा व्यवस्था का लिया जायज़ा; कहा आम नागरिक निर्भीक होकर मेला का आनंद लें

एसपी ने विश्वप्रसिद्ध ऐतिहासिक मावली माता मेला की सुरक्षा व्यवस्था का लिया जायज़ा; कहा आम नागरिक निर्भीक होकर मेला का आनंद लें

आज दिनाँक 22/02/2022 को एसपी श्री गिरिजा शंकर जायसवाल ने प्रभावी सुरक्षा व्यवस्था सुनिश्चित करने के उद्देश्य से विश्वप्रसिद्ध ऐतिहासिक मावली माता मेला सुरक्षा व्यवस्था का बारीकी से जायज़ा लिया, इसके अंतर्गत मंच सुरक्षा, मेला सुरक्षा, पार्किंग एवं सड़क सुरक्षा व्यवस्था सहित सीसीटीवी कैमरों की डिप्लॉयमेंट का अवलोकन किया। श्री जायसवाल ने मेला स्थल में तैनात जिला पुलिस बल, छत्तीसगढ़ सशस्त्र बल और आईटीबीपी के सभी अधिकारी/कर्मचारियों से मिलकर उन्हें आम नागरिकों की सुरक्षा और सुविधाओं को सर्वोच्च प्राथमिकता में रखने के निर्देश दिए। मावली माता मेला सुरक्षा व्यवस्था जायज़ा लेने के बाद श्री जायसवाल ने पैदल ही मेला स्थल का निरीक्षण किया तथा इस दौरान उन्होंने गन्ना रस पीने का आनंद लिया। मावली माता सुरक्षा व्यवस्था जायज़ा लेने के दौरान एसपी श्री जायसवाल के साथ एएसपी श्री नीरज चंद्राकर, डीएसपी श्री अनिल कुर्रे, आरआई श्री दीपक साव और थाना प्रभारी श्री तोप सिंह नवरंग उपस्थित रहे।

श्री जायसवाल ने बताया कि "मावली माता मेला अबूझमाड़ की धार्मिक - सांस्कृतिक विरासत की एक झाँकी है। यह मेला अबूझमाड़ की जनता के लिए ख़ुशियों का पर्व लेकर आता है, जिसे न सिर्फ़ अबूझमाड़ वरन देश - विदेश के भी लोग एन्जॉय करते हैं।" उन्होंने यह भी बताया कि जिला मुख्यालय नारायणपुर में आयोजित होने वाली मावली माता मेला इस वर्ष दिनाँक 23/02/2022 से 27/02/2022 तक चलेगी। मेला की सुरक्षा के लिए तीन लेयर में पुलिस और केंद्रीय बल के लगभग 300 जवानों को तैनात किया गया है, ताकि आगंतुक निर्भीक होकर इस ऐतिहासिक मेला का आनंद ले सकें।

श्री जायसवाल के निर्देश पर मावली माता मेला स्थल में अस्थाई पुलिस चौकी तथा हेल्प डेस्क बनाया गया है। आम जनता किसी भी प्रकार के असुविधा होने अथवा आकश्मिक स्थिति में मावली माता मेला कंट्रोल रूम के मोबाइल नंबर 94791-94213, 94791-94299 अथवा 07781-252236 में फ़ोन करके सुरक्षा और सहयोग प्राप्त कर सकते हैं।

Related Images:






Share:

0 टिप्पणियाँ:

Post a Comment



प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कैसे करें?


यह वेबसाइट /ब्लॉग भारतीय संविधान की अनुच्छेद १९ (१) क - अभिव्यक्ति की आजादी के तहत सोशल मीडिया के रूप में तैयार की गयी है।
यह वेबसाईड एक ब्लाॅग है, इसे समाचार आधारित वेबपोर्टल न समझें।
इस ब्लाॅग में कोई भी लेखक/व्यक्ति अपनी मौलिक पोस्ट प्रकाशित करवा सकता है। इस ब्लाॅग के माध्यम से हम शैक्षणिक, समाजिक और धार्मिक जागरूकता लाने तथा वैज्ञानिक सोच विकसित करने के लिए प्रयासरत् हैं। लेखनीय और संपादकीय त्रूटियों के लिए मै क्षमाप्रार्थी हूं। - श्रीमती विधि हुलेश्वर जोशी

सबसे अधिक बार पढ़ा गया लेख