अबूझमाड़ के अंदरूनी गाँव कड़ेनार में पुलिस ने खोली पुलिस सहायता केन्द्र, आईपीएस श्री सदानंद कुमार ने गाँव के वरिष्ठ नागरिक से कराया उद्घाटन

अबूझमाड़ के अंदरूनी गाँव कड़ेनार में पुलिस ने खोली पुलिस सहायता केन्द्र, आईपीएस श्री सदानंद कुमार ने गाँव के वरिष्ठ नागरिक से कराया उद्घाटन

अबूझमाड़ क्षेत्रान्तर्गत कड़ेनार में नारायणपुर पुलिस ने किया सिविक एक्शन; एसपी अपने टीम के साथ पहुँचकर लोगों को बाँटे उपहार

आज दिनाँक 01/06/2022 को नारायणपुर पुलिस द्वारा अबूझमाड़ क्षेत्रान्तर्गत ओरछा ब्लॉक के अंदरूनी गाँव कड़ेनार में पुलिस सहायता केन्द्र का शुभारंभ किया गया। आईपीएस श्री सदानंद कुमार ने गाँव के वरिष्ठ नागरिक से सहायता केन्द्र की फीता काटकर उद्घाटन कराया फिर पुलिस सहायता केन्द्र का रोजनामचा खूद लिखा। पुलिस सहायता केन्द्र की शुभारंभ के बाद नारायणपुर पुलिस ने कड़ेनार में सिविक एक्शन कार्यक्रम का आयोजन किया। सिविक एक्शन के तहत् एसपी ने स्थानीय लोगों को उनके जरूरत के अनुसार उपहार बाँटा। कार्यक्रम में महिलाओं को साड़ी, बुजुर्गों को छाता और लूंगी, युवाओं को किताबें और खेल सामग्री दी गई।

पुलिस अधीक्षक श्री सदानंद कुमार (आईपीएस) ने लोगों से बात कर उनके समस्याओं को जाना। स्थानीय नागरिकों ने सड़क, बिजली, स्कूल और प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र जैसी मूलभूत सुविधाओं के विस्तार पर जोर दिया, जिसपर उन्होने आवश्यक पहल करने तथा पुलिस सहायता केन्द्र के माध्यम से स्थानीय लोगों की हर संभव मदद और सुरक्षा करने आश्वासन दिया।

इस दौरान आईपीएस श्री सदानंद कुमार (पुलिस अधीक्षक) के साथ आईपीएस श्री पुष्कर शर्मा (एएसपी, नक्सल आप्स), डीएसपी श्री अभिषेक पैकरा (एसडीओपी, छोटेड़ोगर), आरआई श्री दीपक साव, आरआई श्री सोनु वर्मा, निरीक्षक श्री अजय सोनकर (थाना प्रभारी, छोटेड़ोगर) एवं पुलिस अधिकारी व जवानों सहित सैकड़ों की संख्या में स्थानीय नागरिक उपस्थित रहे।


Related Images:





Share:

0 टिप्पणियाँ:

Post a Comment



यह वेबसाइट /ब्लॉग भारतीय संविधान की अनुच्छेद १९ (१) क - अभिव्यक्ति की आजादी के तहत सोशल मीडिया के रूप में तैयार की गयी है।
यह वेबसाईड एक ब्लाॅग है, इसे समाचार आधारित वेबपोर्टल न समझें।
इस ब्लाॅग में कोई भी लेखक/व्यक्ति अपनी मौलिक पोस्ट प्रकाशित करवा सकता है। इस ब्लाॅग के माध्यम से हम शैक्षणिक, समाजिक और धार्मिक जागरूकता लाने तथा वैज्ञानिक सोच विकसित करने के लिए प्रयासरत् हैं। लेखनीय और संपादकीय त्रूटियों के लिए मै क्षमाप्रार्थी हूं। - श्रीमती विधि हुलेश्वर जोशी

प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कैसे करें?

सबसे अधिक बार पढ़ा गया लेख