जोशी की गीता

जोशी की गीता

असंगठित शब्द, बिना लय-छंद कविता
एक आग्रह "विनती", जोशी की गीता

झूठ फरेब कुरीति और आडम्बर
नैसर्गिक न्याय सबके लिए बराबर

चोरी चकारी, झूठ लूट डकैती
धर्म नहीं तेरे बाप की बपौती

धोखा अफवाह मोबलिंचिंग हिंसा
एक रास्ता है अब करले अहिंसा

स्वर्ग नरक नहीं कोई जन्नत
है मेरा भी एक ही मन्नत

संगठन शक्ति की तुम करते हो बर्बादी
निष्ठा कर संविधान में, जो देती आजादी

5000 हजार साल पीछे की कल्पना
कोई गैर नहीं, आज तेरा भी है अपना

अपना पराया, उच्च नीच
एक सेल्फी तो साथ में खींच

खोद के गड्ढा जिसने गिराया
उठा उन्हें भी नही पराया

Image of HP Joshi












रचनाकार - श्री एचपी जोशी
Share:

0 टिप्पणियाँ:

Post a Comment


प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कैसे करें?


यह वेबसाइट /ब्लॉग भारतीय संविधान की अनुच्छेद १९ (१) क - अभिव्यक्ति की आजादी के तहत सोशल मीडिया के रूप में तैयार की गयी है।
यह वेबसाईड एक ब्लाॅग है, इसे समाचार आधारित वेबपोर्टल न समझें।
इस ब्लाॅग में कोई भी लेखक/व्यक्ति अपनी मौलिक पोस्ट प्रकाशित करवा सकता है। इस ब्लाॅग के माध्यम से हम शैक्षणिक, समाजिक और धार्मिक जागरूकता लाने तथा वैज्ञानिक सोच विकसित करने के लिए प्रयासरत् हैं। लेखनीय और संपादकीय त्रूटियों के लिए मै क्षमाप्रार्थी हूं। - श्रीमती विधि हुलेश्वर जोशी

सबसे अधिक बार पढ़ा गया लेख