यह क्या है?

यह क्या है?

यह क्या है?
बर्तन या टोकरी?
नही; न बर्तन, न टोकरी!

यह किससे बनी है?
मिट्टी या कागज?
नही; न मिट्टी, न कागज़!

तुमने कैसे सीखा, इसे बनाना
यूट्यूब, फेसबुक या रेसिपी?
नही; न यूट्यूब से, न फ़ेसबुक से, न रेसिपी से!

तुम नासमझ और अंधे हो, बेहुदा और जिद्दी हो।
हां।
हो सकता है मैं नासमझ हूँ।
हो सकता है मैं अंधा ही हूँ।
हो सकता है में बेहुदा और जिद्दी भी हूँ।

बाबूजी यह......
न बर्तन, न टोकरी; हमारी जरूरी इनोवेशन
न मिट्टी, न कागज; हमारी मेहनत और फैशन
न इसे यूट्यूब से सीखा, न फेसबुक से सीखा, न इसे रेसिपी से; सीखा है माँ से बनाती थी जैशन

Image for Innovation of Rural Bharat 


















रचनाकार - श्री एचपी जोशी
Share:

0 टिप्पणियाँ:

Post a Comment


प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कैसे करें?


यह वेबसाइट /ब्लॉग भारतीय संविधान की अनुच्छेद १९ (१) क - अभिव्यक्ति की आजादी के तहत सोशल मीडिया के रूप में तैयार की गयी है।
यह वेबसाईड एक ब्लाॅग है, इसे समाचार आधारित वेबपोर्टल न समझें।
इस ब्लाॅग में कोई भी लेखक/व्यक्ति अपनी मौलिक पोस्ट प्रकाशित करवा सकता है। इस ब्लाॅग के माध्यम से हम शैक्षणिक, समाजिक और धार्मिक जागरूकता लाने तथा वैज्ञानिक सोच विकसित करने के लिए प्रयासरत् हैं। लेखनीय और संपादकीय त्रूटियों के लिए मै क्षमाप्रार्थी हूं। - श्रीमती विधि हुलेश्वर जोशी

सबसे अधिक बार पढ़ा गया लेख