नक्सलियों ने रोड़ खुदाई की और पेड़ काटकर आवागमन को किया अवरुद्ध; एसपी श्री सदानंद कुमार (भापुसे) स्वयं अपने टीम के साथ घटनास्थल पहुँचे और यातायात व्यवस्था को किया बहाल


नक्सलियों ने रोड़ खुदाई की और पेड़ काटकर आवागमन को किया अवरुद्ध; एसपी श्री सदानंद कुमार (भापुसे) स्वयं अपने टीम के साथ घटनास्थल पहुँचे और यातायात व्यवस्था को किया बहाल

आज दिनांक 10/04/2022 को ओरछा के बटुमपारा और पहाड़ी मंदिर के पास नक्सलियों ने नारायणपुर-ओरछा मुख्य मार्ग की खुदाई करते हुए सड़क किनारे की पेड़ काटकर सड़क में लकड़ी और पोल डालकर बैनर लगाते हुए मार्ग अवरूद्ध कर दिया था। जिसके कारण ग्रामीण, मरीज और वाहन आदि आना जाना नहीं कर पा रहे थे। घटना की गंभीरता और क्षेत्र की नक्सल संवेदनशीलता को ध्यान में रखते हुए एसपी श्री सदानंद कुमार (भापुसे) स्वयं घटना स्थल पहुँचें। अपने टीम के साथ घटनास्थल के सभी पेड़, लकड़ी और बैनर को हटाया और खुदाई की गई सड़क को पाटकर प्रातः 8:30 बजे नारायणपुर ओरछा मुख्य मार्ग को पुनः चालू कराते हुए यातायात व्यवस्था को बहाल कराया।


यातायात सुचारू रूप से संचालित करने के बाद एसपी श्री सदानंद कुमार ने थाना ओरछा, कैंप ओरछा तथा थाना धनोरा का अकाश्मिक निरीक्षण किया। इस दौरान उन्होंने जवानों से रूबरू होकर उनकी समस्याओं को जाना और समाधान किया। इसके साथ ही एसपी ने जवानों का मनोबल बढ़ाते हुए वॉलीबाल, बैडमिंटन एवम् अन्य खेल सामग्री का वितरण करते हुए जवानों को नगद ईनाम देकर प्रोत्साहित किया ।।

इस दौरान श्री अभिषेक पैंकरा (एसडीओपी छोटेडोंगर) श्री दीपक साव (रक्षित निरीक्षक) श्री अजय सोनकर (थाना प्रभारी छोटेडोंगर), श्री उत्तम गावड़े (थाना प्रभारी ओरछा) श्री द्वारिका मंडावी (डीआरजी टीम कमांडर) तथा सीएएफ ओरछा की टीम उपस्थित रहे।
Share:

1 comment:



प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कैसे करें?


यह वेबसाइट /ब्लॉग भारतीय संविधान की अनुच्छेद १९ (१) क - अभिव्यक्ति की आजादी के तहत सोशल मीडिया के रूप में तैयार की गयी है।
यह वेबसाईड एक ब्लाॅग है, इसे समाचार आधारित वेबपोर्टल न समझें।
इस ब्लाॅग में कोई भी लेखक/व्यक्ति अपनी मौलिक पोस्ट प्रकाशित करवा सकता है। इस ब्लाॅग के माध्यम से हम शैक्षणिक, समाजिक और धार्मिक जागरूकता लाने तथा वैज्ञानिक सोच विकसित करने के लिए प्रयासरत् हैं। लेखनीय और संपादकीय त्रूटियों के लिए मै क्षमाप्रार्थी हूं। - श्रीमती विधि हुलेश्वर जोशी

सबसे अधिक बार पढ़ा गया लेख