मलखम्ब सुपरस्टार राकेश वरदा और राजेश कोर्राम को राष्ट्रीय स्तर पर आयोजित हैंड स्टैण्ड मलखम्ब प्रतियोगिता में प्रथम और द्वितीय स्थान प्राप्त करने पर एसपी श्री सदानंद कुमार, (भापुसे) ने दी बधाई

मलखम्ब सुपरस्टार राकेश वरदा और राजेश कोर्राम को राष्ट्रीय स्तर पर आयोजित हैंड स्टैण्ड मलखम्ब प्रतियोगिता में प्रथम और द्वितीय स्थान प्राप्त करने पर एसपी श्री सदानंद कुमार, (भापुसे) ने दी बधाई

मुंबई के गोरेगांव में राष्ट्रीय स्तर पर आयोजित मलखम्ब के हैंड स्टैंड प्रतिस्पर्धा में नारायणपुर के मास्टर राकेश वरदा और मास्टर राजेश कोर्राम क्रमशः प्रथम और द्वितीय स्थान हासिल करने के बाद नारायणपुर लौटे उसके बाद कोच मनोज प्रसाद के नेतृत्व में पुलिस अधीक्षक श्री सदानंद कुमार (भापुसे) से सौजन्य मुलाक़ात की। इस दौरान पुलिस अधीक्षक श्री सदानंद कुमार ने खिलाड़ियों को शुभकामनाएं देते हुए उनके उत्साहवर्धन के लिए उपहार दिये।

श्री सदानंद कुमार ने मलखम्ब प्रशिक्षक आरक्षक श्री मनोज प्रसाद के प्रयास और दोनों खिलाड़ियों मास्टर राकेश वरदा और मास्टर राजेश कोर्राम के मेहनत का प्रसंशा करते हुए उनके उपलब्धि को जिला नारायणपुर सहित पूरे प्रदेश के लिए गौरवशाली उपलब्धि बताई। श्री सदानंद कुमार (भापुसे) ने मलखम्ब अकादमी नारायणपुर को सदैव की तरह हर सम्भव मदद करने की बात कही।

यहाँ यह भी उल्लेखनीय है कि मलखम्ब प्रशिक्षक श्री मनोज प्रसाद ने एसटीएफ में तैनाती के दौरान वर्ष 2017 में मलखम्ब प्रशिक्षण की शुरुआत की उनके मेहनत और लगन को देखते हुए नारायणपुर पुलिस द्वारा संस्थागत तरीके से प्रशिक्षण की शुरुआत कराई गई जिसे बाद जिला प्रशासन सहित राज्य सरकार से भी सहायता मिल रही है इसी के परिणामस्वरूप आज नारायणपुर के विशेषकर अबूझमाड़ के नन्हे बालक/बालिकाओं ने 101 गोल्ड मैडल सहित 161 मेडल हासिल कर देश में अव्वल स्थान पर हैं।
Share:

0 टिप्पणियाँ:

Post a Comment



प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कैसे करें?


यह वेबसाइट /ब्लॉग भारतीय संविधान की अनुच्छेद १९ (१) क - अभिव्यक्ति की आजादी के तहत सोशल मीडिया के रूप में तैयार की गयी है।
यह वेबसाईड एक ब्लाॅग है, इसे समाचार आधारित वेबपोर्टल न समझें।
इस ब्लाॅग में कोई भी लेखक/व्यक्ति अपनी मौलिक पोस्ट प्रकाशित करवा सकता है। इस ब्लाॅग के माध्यम से हम शैक्षणिक, समाजिक और धार्मिक जागरूकता लाने तथा वैज्ञानिक सोच विकसित करने के लिए प्रयासरत् हैं। लेखनीय और संपादकीय त्रूटियों के लिए मै क्षमाप्रार्थी हूं। - श्रीमती विधि हुलेश्वर जोशी

सबसे अधिक बार पढ़ा गया लेख