Wednesday, April 11, 2018

चोरी और गुम हुआ मोबाईल फोन वापस मिल सकता है, जानें कैसे ?

चोरी और गुम हुआ मोबाईल फोन वापस मिल सकता है, जानें कैसे ?

श्री जीपी सिंह, पुलिस महानिरीक्षक, दुर्ग रेंज के पहल पर रायपुर एवं दुर्ग संभाग में आम-नागरिकों को पुलिस संबंधित विभिन्न सुविधाएं मोबाईल फोन के माध्यम से सुनिश्चित करने के उद्देश्य से सिटीजन काॅप मोबाइल एप्लीकेशन संचालित है। बता दें, कि श्री जीपी सिंह, तात्कालिक आईजी रायपुर द्वारा सिटीजन काॅप मोबाईल एप्लीकेशन में प्राप्त शिकायतों पर कार्यवाही करते हुए सिटीजन काॅप के विशेष टीम के माध्यम से सैकडो चोरी/गुम मोबाईल फोन रिकवर कराते हुए संबंधितों को लौटाए गए हैं।


संभव है कि इस एप्लीकेशन में मोबाईल गुमने/चोरी होने की शिकायत करने पर आपका मोबाईल वापस मिल जाए, बिना थाना के चक्कर लगाए आपको पावती ई-मेल से प्राप्त होने की गारंटी तो है ही। बतादें कि रिपोर्ट लाॅस्ट आर्टिकल के माध्यम से सभी प्रकार के वस्तुओ/दस्तावेज के गुमने/चोरी होने की सूचना देकर ई-मेल के माध्यम से वापती पा सकते हैं, इसके लिए किसी पुलिस थाना जाने की आवश्यकता नही होगी।

शिकायत कैसे करें ?

मोबाइल एप्लीकेशन के माध्यम से चोरी/खोये हुए वस्तुओ एवं दस्तावेज की शिकायत करने के लिए सबसे पहले एप्पल स्टोर अथवा प्ले स्टोर के सिटीजन कॉप मोबाइल एप्लीकेशन डाउनलोड करे, उसके बाद Report Lost Article फीचर में जाकर अपना कम्प्लेन रजिस्टर करें। 




Share:

Fight With Corona - Lock Down

Citizen COP - Mobile Application : छत्तीसगढ़ पुलिस की मोबाईल एप्लीकेशन सिटीजन काॅप डिजिटल पुलिस थाना का एक स्वरूप है, यह एप्प वर्तमान में छत्तीसगढ़ राज्य के रायपुर एवं दुर्ग संभाग के सभी 10 जिले एवं मुंगेली जिला में सक्रिय रूप से लागू है। वर्तमान में राज्य में सिटीजन काॅप के लगभग 1 लाख 35 हजार सक्रिय उपयोगकर्ता हैं जो अपराधमुक्त समाज की स्थापना में अपना योगदान दे रहे है। उल्लेखनीय है कि इस एप्लीकेशन को राष्ट्रीय स्तर पर डिजिटल इंडिया अवार्ड एवं स्मार्ट पुलिसिंग अवार्ड से सम्मानित किया गया है। यहां यह भी उल्लेखनीय है कि इसे शीघ्र ही पूरे देश में लागू किये जाने की दिशा में भारत सरकार विचार कर रही है। अभी सिटीजन काॅप मोबाईल एप्लीकेशन डाउलोड करने के लिए यहां क्लिक करिए - एच.पी. जोशी

लोकप्रिय ब्लाॅग संदेश (Popular Information)

यह वेबसाइट /ब्लॉग भारतीय संविधान की अनुच्छेद १९ (१) क - अभिव्यक्ति की आजादी के तहत सोशल मीडिया के रूप में तैयार की गयी है।
यह वेबसाईड एक ब्लाॅग है, इसे समाचार आधारित वेबपोर्टल न समझें।
इस ब्लाॅग में कोई भी लेखक/व्यक्ति अपनी मौलिक पोस्ट प्रकाशित करवा सकता है। इस ब्लाॅग के माध्यम से हम शैक्षणिक, समाजिक और धार्मिक जागरूकता लाने तथा वैज्ञानिक सोच विकसित करने के लिए प्रयासरत् हैं। लेखनीय और संपादकीय त्रूटियों के लिए मै क्षमाप्रार्थी हूं। - श्रीमती विधि हुलेश्वर जोशी

Recent

माह में सबसे अधिक बार पढ़ा गया लेख