आईपीएस सदानंद कुमार के निर्देशानुसार माननीय मुख्यमंत्री के आसन्न प्रवास के मद्देजनर एएसपी श्री नीरज चन्द्राकर ने जवानों को दिया दो दिवसीय विशेष प्रशिक्षण, जवानों ने किया मॉक ड्रिल

आईपीएस सदानंद कुमार के निर्देशानुसार माननीय मुख्यमंत्री के आसन्न प्रवास के मद्देजनर एएसपी श्री नीरज चन्द्राकर ने जवानों को दिया दो दिवसीय विशेष प्रशिक्षण, जवानों ने किया मॉक ड्रिल

आईपीएस सदानंद कुमार, पुलिस अधीक्षक, नारायणपुर के निर्देशानुसार माननीय मुख्यमंत्री के आसन्न प्रवास के मद्देजनर संचालित दो दिवसीय सीपीटी ट्रेनिंग का आज दिनाँक 14.05.2022 को रक्षित केन्द्र, नारायणपुर में समापन हुआ। यह प्रशिक्षण अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक श्री नीरज चन्द्राकर द्वारा दिया गया, जिसमें जवानों को व्हीआईपी कारकेट, हेलीपेड, कार्यक्रम स्थल एवं आम सभा स्थल सुरक्षा तथा भीड़ से बचाव एवं आकस्मिक स्थिति में व्हीआईपी सुरक्षा सुनिश्चित करने के तरीके सीखाया गया। इसके साथ ही प्रशिक्षण के माध्यम से जवानों को व्हीआईपी ड्यूटी के दौरान संभावित सुरक्षा खतरे और चुनौतियों का सामना करने विशेषज्ञ प्रशिक्षण दिया गया है। 
सीपीटी (क्लोज प्रोटेक्शन टीम) ट्रेनिंग की समापन के दौरान अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक श्री नीरज चन्द्राकर ने रक्षित केन्द्र, नारायणपुर में व्हीआईपी प्रवास की सम्पूर्ण सुरक्षा व्यवस्थाओं की सुनिश्चितता के लिये मॉक ड्रिल कराया। इस दौरान बाकायदा एक जवान को सांकेतिक व्हीआईपी बनाकर ड्रिल कराया गया। 

उल्लेखनीय है कि सीपीटी अर्थात् क्लोज प्रोटेक्शन टीम व्हीआईपी प्रवास के दौरान निर्धारित सिविल ड्रेस में व्हीआईपी के निकट रहकर उनकी सुरक्षा सुनिश्चित करता है। दो दिवसीय सीपीटी ट्रेनिंग के समापन के अवसर पर अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक श्री नीरज चन्द्राकर के साथ रक्षित निरीक्षक श्री दीपक साव एवं अधिकारी/कर्मचारी उपस्थित रहे।
Share:

0 टिप्पणियाँ:

Post a Comment



प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कैसे करें?


यह वेबसाइट /ब्लॉग भारतीय संविधान की अनुच्छेद १९ (१) क - अभिव्यक्ति की आजादी के तहत सोशल मीडिया के रूप में तैयार की गयी है।
यह वेबसाईड एक ब्लाॅग है, इसे समाचार आधारित वेबपोर्टल न समझें।
इस ब्लाॅग में कोई भी लेखक/व्यक्ति अपनी मौलिक पोस्ट प्रकाशित करवा सकता है। इस ब्लाॅग के माध्यम से हम शैक्षणिक, समाजिक और धार्मिक जागरूकता लाने तथा वैज्ञानिक सोच विकसित करने के लिए प्रयासरत् हैं। लेखनीय और संपादकीय त्रूटियों के लिए मै क्षमाप्रार्थी हूं। - श्रीमती विधि हुलेश्वर जोशी

सबसे अधिक बार पढ़ा गया लेख