Thursday, April 05, 2018

जंगलों को आग से बचाने सक्रिय सहयोग करें : डॉ. रमन सिंह

जंगलों को आग से बचाने सक्रिय सहयोग करें :  डॉ. रमन सिंह


छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने राज्य के हरे-भरे जंगलों को आग से बचाने के लिए सभी लोगों से सक्रिय सहयोग की अपील की है। उन्होंने आज यहां जारी संदेश में कहा है कि बेशकीमती वन सम्पदा की दृष्टि से छत्तीसगढ़ काफी सम्पन्न है। राज्य के कुल भौगोलिक क्षेत्रफल का लगभग 44 प्रतिशत अर्थात 59 हजार 772 वर्ग किलोमीटर का हिस्सा वनों का है। डॉ. सिंह ने कहा-इस प्राकृतिक सम्पन्नता को बचाए रखना और उसके विकास के लिए निरंतर प्रयास करना हम सबकी सामाजिक और राष्ट्रीय जिम्मेदारी है। पर्यावरण संरक्षण के लिए भी यह बहुत आवश्यक है।

उन्होंने कहा-वनों को आग से बचाना इसलिए भी बहुत जरूरी है कि ये वन हमारे लाखों वनवासी परिवारों की आजीविका और अतिरिक्त आमदनी का एक बहुत बड़ा माध्यम है। तेन्दूपत्ता, साल बीज, महुआ, लाख, चिरौंजी आदि लघु वनोपजों के संग्रहण के जरिए हमारे वनवासी भाई-बहनों को मौसमी रोजगार मिलता है । मुख्यमंत्री ने कहा- गर्मी के इस मौसम में वन क्षेत्रों में कई कारणों से आग लगने और फैलने की अधिक आशंका रहती है। कई बार वनों से गुजरने वाले लोग वहां खाना बनाते हैं और जलती हुई लकड़ी को बिना बुझाए छोड़ देते हैं। इसी तरह धूम्रपान करने वाले कई राहगीर जलती हुई बीड़ी या सिगरेट को वृक्षों के आसपास लापरवाही से फंेक देते हैं। इसके फलस्वरूप वनों में आग फैल जाती है और हमारी बहुमूल्य वन सम्पदा को गंभीर नुकसान पहुंचता है। डॉ. सिंह ने कहा कि साल, सागौन और मिश्रित प्रजातियों के मूल्यवान वृक्षों तथा बहुमूल्य जड़ी-बूटियों का अनमोल खजाना छत्तीसगढ़ के वनों में है। मुख्यमंत्री ने कहा-वनों में आग लगने पर बहुमूल्य वन सम्पदा के साथ-साथ वन्य प्राणियों के जीवन पर भी संकट आ जाता है और प्रदेश के जंगलों की नैसर्गिक जैव विविधता को नुकसान पहुंचता है।
    उन्होंने कहा-राज्य सरकार ने संयुक्त वन प्रबंधन योजना के तहत प्रदेश के 19 हजार 720 गांवों में से वन क्षेत्रों की सीमा के पांच किलोमीटर के भीतर स्थित लगभग ग्यारह हजार 185 गांवों में ग्रामीणों की भागीदारी से सात हजार 887 वन प्रबंधन समितियों का गठन किया है। इन समितियों में 27 लाख 63 हजार सदस्य हैं। इन समितियों को प्रदेश के कुल वन क्षेत्रफल में से 55 प्रतिशत अर्थात 33 हजार 190 वर्ग किलोमीटर के वनों की रक्षा का दायित्व सौंपा गया है। इनमें महिलाओं की संख्या 14 लाख से अधिक है। वनों की सुरक्षा के एवज में जंगलों से मिलने वाली लकड़ी और बांस के उत्पादन पर वन विभाग को जो राशि मिलती है, उसमें से 15 प्रतिशत हिस्सा वन प्रबंधन समितियों को दिया जाता है। विगत 14 वर्ष में इन समितियों को गांवों के विकास के लिए 301 करोड़ रूपए का लाभांश दिया गया। इसके अलावा 901 लघु वनोपज सहकारी समितियों में भी लाखों वनवासी सदस्य हैं, जिनके द्वारा तेन्दूपत्ता और अन्य लघु वनोपजों का संग्रहण किया जाता है।

मुख्यमंत्री ने वन प्रबंधन समितियों और लघु वनोपज समितियों के सदस्यों से भी वनों की रक्षा के लिए हमेशा सजग रहने और अपने दायित्वों का निर्वहन करने की अपील की है। उन्होंने इन समितियों से ग्रामीणों के बीच वनों को आग से बचाने के लिए और भी ज्यादा जागरूकता लाने का भी आव्हान किया है। मुख्यमंत्री ने वन विभाग के सभी मैदानी अधिकारियों और कर्मचारियों से भी कहा है कि वे संयुक्त वन प्रबंधन समितियों और वनोपज समितियों के साथ निरंतर सम्पर्क और समन्वय बनाकर वनों को आग बचाने के लिए गंभीरता से काम करें।
Share:

Fight With Corona - Lock Down

Citizen COP - Mobile Application : छत्तीसगढ़ पुलिस की मोबाईल एप्लीकेशन सिटीजन काॅप डिजिटल पुलिस थाना का एक स्वरूप है, यह एप्प वर्तमान में छत्तीसगढ़ राज्य के रायपुर एवं दुर्ग संभाग के सभी 10 जिले एवं मुंगेली जिला में सक्रिय रूप से लागू है। वर्तमान में राज्य में सिटीजन काॅप के लगभग 1 लाख 35 हजार सक्रिय उपयोगकर्ता हैं जो अपराधमुक्त समाज की स्थापना में अपना योगदान दे रहे है। उल्लेखनीय है कि इस एप्लीकेशन को राष्ट्रीय स्तर पर डिजिटल इंडिया अवार्ड एवं स्मार्ट पुलिसिंग अवार्ड से सम्मानित किया गया है। यहां यह भी उल्लेखनीय है कि इसे शीघ्र ही पूरे देश में लागू किये जाने की दिशा में भारत सरकार विचार कर रही है। अभी सिटीजन काॅप मोबाईल एप्लीकेशन डाउलोड करने के लिए यहां क्लिक करिए - एच.पी. जोशी

लोकप्रिय ब्लाॅग संदेश (Popular Information)

यह वेबसाइट /ब्लॉग भारतीय संविधान की अनुच्छेद १९ (१) क - अभिव्यक्ति की आजादी के तहत सोशल मीडिया के रूप में तैयार की गयी है।
यह वेबसाईड एक ब्लाॅग है, इसे समाचार आधारित वेबपोर्टल न समझें।
इस ब्लाॅग में कोई भी लेखक/व्यक्ति अपनी मौलिक पोस्ट प्रकाशित करवा सकता है। इस ब्लाॅग के माध्यम से हम शैक्षणिक, समाजिक और धार्मिक जागरूकता लाने तथा वैज्ञानिक सोच विकसित करने के लिए प्रयासरत् हैं। लेखनीय और संपादकीय त्रूटियों के लिए मै क्षमाप्रार्थी हूं। - श्रीमती विधि हुलेश्वर जोशी

Recent

माह में सबसे अधिक बार पढ़ा गया लेख