दीपावली के शुभ अवसर पर एसपी श्री गिरिजा शंकर जायसवाल ने दिया संवेदनशीलता का परिचय, पहले पहुँचे शहीद परिवारों के घर बाद में मनाएंगे अपनी दीपावली

दीपावली के शुभ अवसर पर एसपी श्री गिरिजा शंकर जायसवाल ने दिया संवेदनशीलता का परिचय, पहले पहुँचे शहीद परिवारों के घर बाद में मनाएंगे अपनी दीपावली

आज दिनाँक 04/11/2021 को दीपावली पर्व के पावन अवसर पर सर्वप्रथम शहीद परिवारों से उनके घर जाकर मिले; उनसे कुशलक्षेम जानकर पटाखें और मिठाईयां वितरित किये तथा साथ में दीपावली मनाने की शुरुआत की। श्री जायसवाल ने सबसे पहले शहीद श्री विजय पटेल के घर जाकर शहीद परिवार के साथ दीपावली मनाया उसके बाद शहीद श्री देवनाथ पुजारी के घर गए वहाँ श्री जायसवाल शहीद के पुत्र को अपने गोद में लेकर भावविभोर हो गए उन्होंने बालक को विश्वास दिलाया कि हम आपके परिवार हैं किसी भी प्रकार की सहयोग और मार्गदर्शन की जरूरत हो तो आप न सिर्फ़ मुझसे वरन नारायणपुर पुलिस के किसी भी अधिकारी से सीधे मिलकर त्वरित समाधान पा सकते हैं। बालक के नटखटपन को देखकर पुलिस अधीक्षक सहित पुलिस महकमे के अधिकारी और जवान सहित परिवार खिलखिला कर हँस पड़े।

उल्लेखनीय है कि वर्तमान में जिला नारायणपुर में 24 शहीद परिवार निवासरत हैं; एसपी ने अपने अधीनस्थ अधिकारियों को निर्देशित किया कि सभी अधिकारी खासकर राजपत्रित अधिकारी पहले शहीद परिवार के घर जाकर उनसे मिलें, उनसे उनकी कुशलक्षेम जानकर उनके साथ दीपावली मनाएँ क्योंकि "नारायणपुर में शांति बहाल करने में शहीदों ने अहम भूमिका निभाई है।" इसलिए खुशियों का त्यौहार दीपावली मानने की शुरुआत शहीद परिवार से करें। शहीद परिवार के साथ दीपावली मनाने के साथ ही शहीद परिवारों को माननीय मुख्यमंत्री और पुलिस महानिदेशक के शुभकामना पत्र भी दिए गए।

Related Image:








Share:

0 टिप्पणियाँ:

Post a Comment


प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कैसे करें?


यह वेबसाइट /ब्लॉग भारतीय संविधान की अनुच्छेद १९ (१) क - अभिव्यक्ति की आजादी के तहत सोशल मीडिया के रूप में तैयार की गयी है।
यह वेबसाईड एक ब्लाॅग है, इसे समाचार आधारित वेबपोर्टल न समझें।
इस ब्लाॅग में कोई भी लेखक/व्यक्ति अपनी मौलिक पोस्ट प्रकाशित करवा सकता है। इस ब्लाॅग के माध्यम से हम शैक्षणिक, समाजिक और धार्मिक जागरूकता लाने तथा वैज्ञानिक सोच विकसित करने के लिए प्रयासरत् हैं। लेखनीय और संपादकीय त्रूटियों के लिए मै क्षमाप्रार्थी हूं। - श्रीमती विधि हुलेश्वर जोशी

सबसे अधिक बार पढ़ा गया लेख