महिलाओं को शीघ्रता से आर्थिक आजादी की ओर कदम बढ़ाने की जरूरत है - डॉ संगीता शुक्ला

जीत फाउण्डेशन द्वारा सोनपुर में किया गया सामाजिक जागरूकता कार्यक्रम का आयोजन

जीत फाउण्डेशन के अध्यक्ष डाॅ. संगीता शुक्ला द्वारा आज दिनांक 26.11.2021 को अबुझमाड़ क्षेत्रांतर्गत ग्राम सोनपुर में सामाजिक जागरूकता कार्यक्रम का आयोजन किया गया जिसमें नक्सल प्रभावित परिवारों के लगभग 70 बच्चे और 110 महिलाओं सहित लगभग 250 लोग शामिल हुए। सामाजिक संस्था ‘‘जीत फाउण्डेशन’’ द्वारा संस्था के माध्यम से ठंढ़ मौसम के अनुसार कम्बल, साॅल, साड़ियां, स्वेटर सहित जरूरत की सामग्रियां वितरित की गई वहीं बच्चों कोे खेल सामग्री, काॅपी-किताब, पेन सहित अन्य उपहार दी गई।

डाॅ. संगीता शुक्ला ने महिलाओं से बात कर उन्हें चिकित्सकीय उपचार के फायदे बताते हुए स्वास्थ जागरूकता के लिये प्रेरित करते हुए महिलाओं को स्व-सहायता समूह बनाकर आर्थिक आजादी की ओर अग्रसर होने के लिये अनुरोध किया गया। उन्होने महिलाओं से कहा कि "महिलाओं को शीघ्रता से आर्थिक आजादी की ओर कदम बढ़ाने की जरूरत है।" स्व-सहायता समूह के माध्यम से स्वरोजगार स्थापित करने के लिये शासन से आर्थिक सहायता भी प्राप्त की जा सकती है। उन्होने बच्चों का शैक्षणिक मार्गदर्शन करते हुए बेहतर भविष्य के शिक्षा पर जोर देते उन्हें आवश्यक सुझाव भी दी।

डाॅ. शुक्ला बच्चों और महिलाओं के साथ खेल खेली और उनके साथ विभिन्न प्रकार के नृत्य भी नाची। कार्यक्रम के अंतिम में उपस्थित लोगों को सुपोषित आहार के साथ भोजन कराया गया, इसके अलावा बच्चों को बिस्किट और चाॅकलेट भी दिये गये। जागरूकता कार्यक्रम के अंत में महिलाओं, बच्चों और उपस्थित सभी लोगों को भोजन कराया गया। उक्त कार्यक्रम के दौरान सरपंच और स्थानीय जनप्रतिनिधि भी उपस्थित रहे।

Related Images:










Share:

0 टिप्पणियाँ:

Post a Comment


प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कैसे करें?


यह वेबसाइट /ब्लॉग भारतीय संविधान की अनुच्छेद १९ (१) क - अभिव्यक्ति की आजादी के तहत सोशल मीडिया के रूप में तैयार की गयी है।
यह वेबसाईड एक ब्लाॅग है, इसे समाचार आधारित वेबपोर्टल न समझें।
इस ब्लाॅग में कोई भी लेखक/व्यक्ति अपनी मौलिक पोस्ट प्रकाशित करवा सकता है। इस ब्लाॅग के माध्यम से हम शैक्षणिक, समाजिक और धार्मिक जागरूकता लाने तथा वैज्ञानिक सोच विकसित करने के लिए प्रयासरत् हैं। लेखनीय और संपादकीय त्रूटियों के लिए मै क्षमाप्रार्थी हूं। - श्रीमती विधि हुलेश्वर जोशी

सबसे अधिक बार पढ़ा गया लेख