शहीद श्री विसम्भर मेढिया के पुण्यतिथि के अवसर पर नारायणपुर पुलिस द्वारा उन्हें याद कर उनके स्मारक में किया गया माल्यार्पण

शहीद श्री विसम्भर मेढिया के पुण्यतिथि के अवसर पर नारायणपुर पुलिस द्वारा उन्हें याद कर उनके स्मारक में किया गया माल्यार्पण

आज दिनाँक 29.11.2021 को आईपीएस श्री गिरिजा शंकर जायसवाल, पुलिस अधीक्षक, नारायणपुर के निर्देशानुसार शहीद श्री विसम्भर मेढिया के स्टेच्यू में माल्यार्पण कर उनके योगदान को याद किया गया। शहीद श्री मेढिया, 5वीं वाहिनी छत्तीसगढ़ सशस्त्र बल, कंगोली - जगदलपुर में आरक्षक के पद पर तैनात रहे। शहीद जवान कुम्हारपारा, नारायणपुर का मूलनिवासी थे, उनकी प्राथमिक शिक्षा कोहकामेटा, नारायणपुर में हुआ था।

उल्लेखनीय है कि शहीद जवान श्री विसम्भर मेढिया दिनाँक 29.11.2003 को जिला दंतेवाड़ा के नक्सल प्रभावित ग्राम मोदकपाल और कोंगपल्ली के मध्य पुलिस नक्सली मुठभेड़ के दौरान नक्सलियों का सामना करते हुए वीरगति को प्राप्त किये थे। यहाँ यह भी उल्लेखनीय है कि शहीद जवान श्री विसम्भर मेढिया बटालियन में अपने कर्तव्यनिष्ठा, ईमानदारी और बेहतरीन अनुशासन के लिए जाने जाते थे।

शहीद जवान के पुण्यतिथि के दौरान आरआई श्री दीपक साव ने उनके योगदान को रेखांकित करते हुए कहा कि जवानों के लिए उनकी शहादत का अहसास अत्यंत गौरवान्वित करने वाला होता है। लगभग समूचे बस्तर नक्सल प्रभावित है और नक्सल प्रभावित क्षेत्रों में जवानों के त्याग और बलिदान के बिना आम जनजीवन की बेहतरी की परिकल्पना भी व्यर्थ है। जवान न सिर्फ़ लोगों की सुरक्षा वरन आम नागरिकों और क्षेत्र की सर्वांगीण विकास में भी अहम योगदान देते हैं। अतः हम सब देशवासी, ख़ासकर नक्सल प्रभावित और आतंकवाद प्रभावित क्षेत्र के लोग इन वीर शहीद योद्धाओं की चिरऋणी हैं।

शहीद की पुण्यतिथि में आरआई दीपक साव, उप निरीक्षक श्री गणेश यादव, लाइन ऑफिसर श्री नीलकमल दिवाकर और शहीद परिवार के सदस्यों सहित लगभग 70 जवान सम्मिलित रहे।

Related Images:





Share:

0 टिप्पणियाँ:

Post a Comment


प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कैसे करें?


यह वेबसाइट /ब्लॉग भारतीय संविधान की अनुच्छेद १९ (१) क - अभिव्यक्ति की आजादी के तहत सोशल मीडिया के रूप में तैयार की गयी है।
यह वेबसाईड एक ब्लाॅग है, इसे समाचार आधारित वेबपोर्टल न समझें।
इस ब्लाॅग में कोई भी लेखक/व्यक्ति अपनी मौलिक पोस्ट प्रकाशित करवा सकता है। इस ब्लाॅग के माध्यम से हम शैक्षणिक, समाजिक और धार्मिक जागरूकता लाने तथा वैज्ञानिक सोच विकसित करने के लिए प्रयासरत् हैं। लेखनीय और संपादकीय त्रूटियों के लिए मै क्षमाप्रार्थी हूं। - श्रीमती विधि हुलेश्वर जोशी

सबसे अधिक बार पढ़ा गया लेख