स्वयं बाईक चलाते हुए घोर नक्सल क्षेत्र पहुंचे पुलिस अधीक्षक श्री गिरिजा शंकर जायसवाल, अपने एसपी से मिलकर खुश हुए ग्रामीण और बच्चे

पुलिस अधीक्षक श्री गिरिजा शंकर जायसवाल सुरक्षा व्यवस्था का जायजा लेने बाईक से पहुंचे सुदुरवर्ती नक्सल क्षेत्र कड़ेनार और कड़ेमेटा

स्वयं बाईक चलाते हुए घोर नक्सल क्षेत्र पहुंचे पुलिस अधीक्षक श्री गिरिजा शंकर जायसवाल, अपने एसपी से मिलकर खुश हुए ग्रामीण और बच्चे

आज दिनांक 08.11.2021 को पुलिस अधीक्षक श्री गिरिजा शंकर जायसवाल स्वयं बाईक चलाते हुए जिला नारायणपुर के घोर नक्सल प्रभावित क्षेत्र कड़ेनार और कड़ेमेटा पहुंचे। जहां उन्होने कैम्प की सुरक्षा व्यवस्था का जायजा लिया, उसके बाद प्रभारी अधिकारियों की मीटिंग लेकर क्षेत्र की संवेदनशीलता की समीक्षा की। समीक्षा बैठक के दौरान प्रभारी अधिकारियों और जवानों को निर्देशित किया कि प्रभावी नक्सल अभियान के साथ-साथ स्थानीय निवासियों, खासकर महिलाओं और बच्चों के साथ परिवारिक सदस्यों की तरह सद्भावनापूर्वक व्यवहार करें। ग्रामीणों की हर संभव मदद करने में आगे रहें, ताकि लोगों के मन में काल्पनिक फिल्मों के माध्यम से दिखाई गई खराब छवि मिट सके और पुलिस की सही और साफ-सुथरी छवि लोगों के दिलो-दिमाग में छप सके। बैठक के दौरान जवानों से बात करते हुए उन्हें बेहतरीन जीवन जीने के लिये प्रेरित करते हुए ड्यूटि के साथ-साथ कैम्पस की साफ-सफाई और शारीरिक व मानसिक स्वास्थ्य के लिये खेल-मनोरंजन और सद्भावनायुक्त रिलेशन को प्राथमिकता में रखने की बात कही। उन्होने कहा कि अनुशासन अच्छी जीवन शैली की मूल आधारशीला है इसलिए न सिर्फ विभागीय अनुशासन वरन् व्यक्तिगत अनुशासन को भी अपने आचरण में शामिल करें।

कैम्प की सुरक्षा व्यवस्था की जायजा लेने और क्षेत्र की संवेदशीलता की समीक्षा करने के बाद पुलिस अधीक्षक श्री जायसवाल स्थानीय बाजार गये। बाजार में लोगों से मिलकर बातें की, उनकी समस्याएं सुनी तथा कुछ जरूरतमंद लोगों के लिये आवश्यक सामग्री खरीदकर उन्हें वितरित किये तथा बच्चों को चाॅकलेट और बिस्किट बांटे। स्थानीय लोग पुलिस अधीक्षक को अचानक अपने बीच स्थानीय बाजार में उपस्थित पाकर, जरूरतमंद लोगों के लिये आवश्यक सामग्री खरीदकर उन्हें वितरित करते और बच्चों के प्रति उनके प्रेम को देखकर अत्यंत खुश हुए।

Related Images:








Share:

0 टिप्पणियाँ:

Post a Comment


प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कैसे करें?


यह वेबसाइट /ब्लॉग भारतीय संविधान की अनुच्छेद १९ (१) क - अभिव्यक्ति की आजादी के तहत सोशल मीडिया के रूप में तैयार की गयी है।
यह वेबसाईड एक ब्लाॅग है, इसे समाचार आधारित वेबपोर्टल न समझें।
इस ब्लाॅग में कोई भी लेखक/व्यक्ति अपनी मौलिक पोस्ट प्रकाशित करवा सकता है। इस ब्लाॅग के माध्यम से हम शैक्षणिक, समाजिक और धार्मिक जागरूकता लाने तथा वैज्ञानिक सोच विकसित करने के लिए प्रयासरत् हैं। लेखनीय और संपादकीय त्रूटियों के लिए मै क्षमाप्रार्थी हूं। - श्रीमती विधि हुलेश्वर जोशी

सबसे अधिक बार पढ़ा गया लेख