जिला नारायणपुर में 212 जवानों का आरक्षक से प्रधान आरक्षक पदोन्नति पूर्व प्रशिक्षण शुरू

जिला नारायणपुर में 212 जवानों का आरक्षक से प्रधान आरक्षक पदोन्नति पूर्व प्रशिक्षण शुरू

आज दिनाँक 11/11/2021 को जिला पुलिस बल नारायणपुर में 212 जवानों के लिए आरक्षक से प्रधान आरक्षक पदोन्नति पूर्व प्रशिक्षण का शुभारंभ डीआरजी, ग्रेट हॉल में किया गया। उक्त प्रशिक्षण का शुभारंभ आईपीएस श्री गिरिजा शंकर जायसवाल, पुलिस अधीक्षक, नारायणपुर के मुख्य अतिथित्व एवं आईपीएस श्री जितेन्द्र शुक्ला, सेनानी, 16वीं वाहिनी छसबल, नारायणपुर की अध्यक्षता में हुआ। उल्लेखनीय है कि राज्य बनने के बाद पहली बार जिला नारायणपुर में सबसे अधिक 212 आरक्षकों का प्रधान आरक्षकों के पद पर पदोन्नति हो रही है। जिसमें 193 पुरूष आरक्षक और 19 महिला आरक्षकों की पदोन्नति होने जा रही है।

कार्यक्रम के दौरान मुख्य अतिथि श्री गिरिजा शंकर जायसवाल द्वारा प्रशिक्षण की खासियत बताया गया तथा प्रधान आरक्षक के पदीय दायित्वों की चुनौतियों को रेखांकित करते हुए प्रशिक्षण को महत्वपूर्ण बताया। उन्होंने फिजिकल अभ्यास के फ़ायदे बताते हुए कहा कि "पीटी, परेड़ और टीएसटी व्यायाम का सबसे उन्नत और अनुशासनिक स्वरूप है।" उन्होंने आगे कहा कि आईपीएस श्री शुक्ला के नेतृत्व में निःसंदेह आप सभी प्रशिक्षण उपरांत एक कुशल विवेचक और कुशल नेतृत्वकर्ता के रूप में उभरेंगे। उन्होंने कहा कि किसी भी थाना क्षेत्रान्तर्गत "ज़ीरो क्राइम की लक्ष्य" तभी प्राप्त की जा सकती है जब आप बीट प्रबंधन में दक्ष हों। श्री जायसवाल ने जवानों को अपनी शुभकामनाएं देते हुए कहा कि "अनुशासन अच्छी जीवन शैली की मूल आधारशिला है।" अतः न सिर्फ़ विभागीय अनुसाशन वरन व्यक्तिगत अनुशासन को भी सदैव अपने आचरण में शामिल करें।

आरक्षक से प्रधान आरक्षक पदोन्नति पूर्व प्रशिक्षण की शुरुआत करते हुए सर्वप्रथम आईपीएस श्री जितेंद्र शुक्ला ने प्रशिक्षु जवानों को अपनी शुभकामनाएं दी। शुभकामना के बाद उन्होंने प्रशिक्षण के दौरान गुणवत्तापूर्ण अनुशासन की आवश्यकता पर जोर देते हुए कहा कि इस प्रशिक्षण में आप सबकी एकमात्र जिम्मेदारी बेहतर अनुशासन बनाये रखना है। आपके प्रशिक्षण टीम में बेहतरीन प्रशिक्षकों को नियुक्त किया गया है ताकि सेवा के दौरान आपको किसी भी स्थिति में दूसरों के ज्ञान और अनुभव पर निर्भर नहीं होना पड़ेगा। श्री शुक्ला ने कहा कि "प्रभारी अधिकारियों के बाद प्रधान आरक्षकों की जिम्मेदारी पुलिस विभाग में उल्लेखनीय होती है; विभाग के लगभग 65% आरक्षकों की वेलफेयर, बेहतरी और अनुशासन आपके ऊपर निर्भर करती है और आपकी यही उल्लेखनीय योगदान समाज में पुलिस विभाग की छवि को सुधारने के लिए कारगर साबित होता है।" मैं आप सबको विश्वास दिलाता हूँ कि यह प्रशिक्षण आपके लिए अत्यंत लाभदायक सिद्ध होगा क्योंकि हमारे टीम के प्रशिक्षक आपको बेस्ट देने वाले हैं अतः आप इनके हर सीख को अपने स्किल्स में शामिल रखें।

उक्त कार्यक्रम की शुभारंभ के दौरान आईपीएस श्री अक्षय कुमार, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक श्री नीरज चंद्राकर, डिप्टी कमांडेंट श्री खोमेंद्र सिन्हा, उप पुलिस अधीक्षक सुश्री उन्नति ठाकुर, सहायक सेनानी श्री बी आर भगत, रक्षित निरीक्षक श्री दीपक साव, कंपनी कमांडर श्री महेंद्र नागवंशी और प्रशिक्षण टीम के अधिकारी/कर्मचारी सहित प्रशिक्षु जवान उपस्थित रहे।
Share:

0 टिप्पणियाँ:

Post a Comment


प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कैसे करें?


यह वेबसाइट /ब्लॉग भारतीय संविधान की अनुच्छेद १९ (१) क - अभिव्यक्ति की आजादी के तहत सोशल मीडिया के रूप में तैयार की गयी है।
यह वेबसाईड एक ब्लाॅग है, इसे समाचार आधारित वेबपोर्टल न समझें।
इस ब्लाॅग में कोई भी लेखक/व्यक्ति अपनी मौलिक पोस्ट प्रकाशित करवा सकता है। इस ब्लाॅग के माध्यम से हम शैक्षणिक, समाजिक और धार्मिक जागरूकता लाने तथा वैज्ञानिक सोच विकसित करने के लिए प्रयासरत् हैं। लेखनीय और संपादकीय त्रूटियों के लिए मै क्षमाप्रार्थी हूं। - श्रीमती विधि हुलेश्वर जोशी

सबसे अधिक बार पढ़ा गया लेख