एसपी श्री गिरिजा शंकर जायसवाल की अवधारणा ‘‘जीरो डेथ ऑन रोड़ एक्सीड़ेट’’ पर आधारित ट्रैफिक अवेयरनेश प्रोग्राम अब जिले के हर चौक चौराहे पर होंगे आयोजित

एसपी श्री गिरिजा शंकर जायसवाल की अवधारणा ‘‘जीरो डेथ ऑन रोड़ एक्सीड़ेट’’ पर आधारित ट्रैफिक अवेयरनेश प्रोग्राम अब जिले के हर चौक चौराहे पर होंगे आयोजित


आईपीएस श्री गिरिजा शंकर जायसवाल (पुलिस अधीक्षक, नारायणपुर) के आदेशानुसार अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक श्री नीरज चन्द्राकर के मार्गदर्शन में यातायात पुलिस द्वारा ट्रैफिक अवेयरनेश के लिये अनोखी पहल की शुरूआत की गई है। इन अनोखी पहल की शुरूआत करते हुए आज दिनांक 04.12.2021 को यातायात पुलिस नारायणपुर द्वारा एड़का मोड़, नारायणपुर में बाकायदा कुर्सी टेबल लगा कर लोगों को अवेयर किया गया। उक्त ट्रैफिक अवेयरनेश प्रोग्राम में जिला नारायणपुर के लगभग 70 से अधिक नन्हें बालको से लेकर बड़ो बुजुर्गो ने हिस्सा लेकर यातायात से संबंधित सम्पूर्ण जानकारी हासिल की। ट्रैफिक अवेयरनेश प्रोग्राम के दौरान आरआई श्री दीपक साव, (यातायात प्रभारी, नारायणपुर) के द्वारा ट्रैफिक साईन के मतलब और उपयोगिता, ड्रायविंग लायसेंस बनवाने के तरीके और फायदे, बाहन बीमा की उपयोगिता और आवश्यकता सहित वाहन चालन के दौरान नशीले पदार्थों का सेवन अथवा मोबाईल में बात करते हुए और दोपहिया वाहन चालन के दौरान बिना हेलमेट पहने वाहन चलाने अथवा कार चलाते समय बिना सीट बेल्ट के वाहन चलाने से संभावित खतरे और हानियों के बारे में बताया गया।

उल्लेखनीय है कि छत्तीसगढ़ राज्य में यातायात पुलिस द्वारा संचालित अभियानों में यह ट्रैफिक अवेयरनेश प्रोग्राम अपनी तरह की पहली अनोखी पहल है। इस अनोखी पहल की स्थानीय लोगों और कार्यक्रम में भाग लेने वाले लोगों द्वारा सराहना की जा रही है। अवेयरनेस प्रोग्राम में सम्मिलित लोगों द्वारा महत्वपूर्ण और उपयोगी जानकारी हासिल कर खुशियां जाहिर की गई।

मीडिया से बात करते हुए श्री साव ने बताया कि पुलिस अधीक्षक श्री गिरिजा शंकर जायसवाल की ‘‘जीरो डेथ ऑन रोड़ एक्सीड़ेट’’ के अवधारणा पर आधारित ट्रैफिक अवेयरनेश प्रोग्राम अब निरंतर नारायणपुर जिले के हर चौक चौराहे पर इस तरह के संचालित किये जायेंगे, ताकि नारायणपुर जिला के शत-प्रतिशत यातायात नियमों से जागरूक हो सकें।

Related Images:








Share:

0 टिप्पणियाँ:

Post a Comment


प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कैसे करें?


यह वेबसाइट /ब्लॉग भारतीय संविधान की अनुच्छेद १९ (१) क - अभिव्यक्ति की आजादी के तहत सोशल मीडिया के रूप में तैयार की गयी है।
यह वेबसाईड एक ब्लाॅग है, इसे समाचार आधारित वेबपोर्टल न समझें।
इस ब्लाॅग में कोई भी लेखक/व्यक्ति अपनी मौलिक पोस्ट प्रकाशित करवा सकता है। इस ब्लाॅग के माध्यम से हम शैक्षणिक, समाजिक और धार्मिक जागरूकता लाने तथा वैज्ञानिक सोच विकसित करने के लिए प्रयासरत् हैं। लेखनीय और संपादकीय त्रूटियों के लिए मै क्षमाप्रार्थी हूं। - श्रीमती विधि हुलेश्वर जोशी

सबसे अधिक बार पढ़ा गया लेख