एसपी श्री गिरिजा शंकर जायसवाल (आईपीएस) के निर्देश पर नारायणपुर पुलिस द्वारा माॅक-ड्रिल का कराया गया अभ्यास

एसपी श्री गिरिजा शंकर जायसवाल (आईपीएस) के निर्देश पर नारायणपुर पुलिस द्वारा माॅक-ड्रिल का कराया गया अभ्यास 

नारायणपुर जिले में तैनात जवान कुशल और दक्ष होने के साथ ही अत्यंत तत्परता से कार्यवाही को अंजाम देने में सक्षम हैं - आईपीएस गिरिजा शंकर जायसवाल

पुलिस अधीक्षक श्री गिरिजा शंकर जायसवाल के निर्देशानुसार नारायणपुर पुलिस द्वारा जिले की कानून व्यवस्था, सुरक्षा और नक्सल संवेदनशीलता पर केन्द्रित माॅक-ड्रिल का अभ्यास कराया गया, जिसके तहत् आज दिनांक 08.12.2021 को जिला नारायणपुर सभी 14 पुलिस थाना और 13 से अधिक सशस्त्र बल मुख्यालयों और कैम्पों में आकस्मिक स्थिति से निपटने के लिये माॅक-ड्रिल का अभ्यास किया गया। माॅक-ड्रिल के जिले के सभी थाना/कैम्प को अलर्ट करते हुए न्यूनतम समय में पुलिस थाना/कैम्प को संभावित नक्सल खतरे से निपटने के लिये तैयार किया गया। इसके तहत् विशेष रूप से कैम्प स्टान्टू और फायर बाउण्ड सुनिश्चित की गई वहीं संभावित अवैध परिवहनों, संदिग्ध गतिविधियों पर नियंत्रण और अपराधियों की धर पकड़ के लिये थाना/कैम्प के सामने और सभी संभावित स्थल में मोबाईल चेक पोस्ट और नाकेबंदी सुनिशित कर जिले की सम्पूर्ण सुरक्षा की जायजा लिया गया।

श्री जायसवाल ने बताया कि "माॅक-ड्रिल ही एक ऐसा अभ्यास है जिसके माध्यम से नक्सल प्रभावित क्षेत्रों और आतंकवाद प्रभावित क्षेत्रों की पुलिस और सशस्त्र बल के जवानों को एक्सपर्ट बनाया जाना संभव होता है।" उन्होने बताया कि माॅक-ड्रिल के माध्यम नारायणपुर जिला के जवानों के सक्रियता और तत्परता की जांच की गई, सुरक्षा व्यवस्था की समीक्षा के दौरान पाया कि नारायणपुर जिले में तैनात सभी बल के जवान त्वरित गति से आकस्मिक स्थिति से निपटने में दक्ष हैं इसकी तत्परता उल्लेखनीय समय में रिकार्ड की गई है।

Related Images:







Share:

0 टिप्पणियाँ:

Post a Comment



यह वेबसाइट /ब्लॉग भारतीय संविधान की अनुच्छेद १९ (१) क - अभिव्यक्ति की आजादी के तहत सोशल मीडिया के रूप में तैयार की गयी है।
यह वेबसाईड एक ब्लाॅग है, इसे समाचार आधारित वेबपोर्टल न समझें।
इस ब्लाॅग में कोई भी लेखक/व्यक्ति अपनी मौलिक पोस्ट प्रकाशित करवा सकता है। इस ब्लाॅग के माध्यम से हम शैक्षणिक, समाजिक और धार्मिक जागरूकता लाने तथा वैज्ञानिक सोच विकसित करने के लिए प्रयासरत् हैं। लेखनीय और संपादकीय त्रूटियों के लिए मै क्षमाप्रार्थी हूं। - श्रीमती विधि हुलेश्वर जोशी

प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कैसे करें?

सबसे अधिक बार पढ़ा गया लेख