Friday, March 31, 2017

मेक्रोमेनेजमेंट योजना - एकीकृत अनाज विकास कार्यक्रम-धान



मेक्रोमेनेजमेंट योजना - एकीकृत अनाज विकास कार्यक्रम-धान


कार्य क्षेत्र - राज्य के 08 जिले (महासमुंद, धमतरी, दुर्ग, बिलासपुर, जगदलपुर, कांकेर, नारायणपुर एवं बीजापुर)

योजना का उद्देश्य - धान फसल के क्षेत्र एवं उत्पादन में वृद्धि करना हितग्राही की पात्रता - सभी श्रेणी के कृषक योजना में लाभान्वित किये जाते हैं परंतु लघु सीमांत, अनु.जाति/ जनजाति एवं महिला कृषकों को
प्राथमिकता दी जाती है।

मिलने वाला लाभ - 
1. प्रमाणित बीज वितरण पर अनुदान दस वर्ष के भीतर अथवा विपुल उत्पादन देने वाली अधिसूचित किस्मों के धान बीज
पर रू. 500 अथवा 50 प्रतिशत/क्विं. अनुदान देय

2. प्रदर्शन
1. उन्नत तकनीकी प्रदर्शन 2500/- रुपये/एकड़
2. मेडागास्कर पद्धत्ति तथा हाईब्रिड तकनीकी प्रदर्शन ३०००/- रुपये/एकड़
3. सूक्ष्म तत्व
4. चूना उपयोग (अम्लीय भूमि हेतु)
5. पौध संरक्षण दवा एवं बायो पेस्टीसाइड्स 500/- रुपये/हेक्टेयर अथवा 50 प्रतिशत जो भी कम हो
6. कृषक खेत पाठशाला 17000/- रुपये / पाठ- शाला
Share:

0 टिप्पणियाँ:

Post a Comment

Fight With Corona - Lock Down

Citizen COP - Mobile Application : छत्तीसगढ़ पुलिस की मोबाईल एप्लीकेशन सिटीजन काॅप डिजिटल पुलिस थाना का एक स्वरूप है, यह एप्प वर्तमान में छत्तीसगढ़ राज्य के रायपुर एवं दुर्ग संभाग के सभी 10 जिले एवं मुंगेली जिला में सक्रिय रूप से लागू है। वर्तमान में राज्य में सिटीजन काॅप के लगभग 1 लाख 35 हजार सक्रिय उपयोगकर्ता हैं जो अपराधमुक्त समाज की स्थापना में अपना योगदान दे रहे है। उल्लेखनीय है कि इस एप्लीकेशन को राष्ट्रीय स्तर पर डिजिटल इंडिया अवार्ड एवं स्मार्ट पुलिसिंग अवार्ड से सम्मानित किया गया है। यहां यह भी उल्लेखनीय है कि इसे शीघ्र ही पूरे देश में लागू किये जाने की दिशा में भारत सरकार विचार कर रही है। अभी सिटीजन काॅप मोबाईल एप्लीकेशन डाउलोड करने के लिए यहां क्लिक करिए - एच.पी. जोशी

लोकप्रिय ब्लाॅग संदेश (Popular Information)

यह वेबसाइट /ब्लॉग भारतीय संविधान की अनुच्छेद १९ (१) क - अभिव्यक्ति की आजादी के तहत सोशल मीडिया के रूप में तैयार की गयी है।
यह वेबसाईड एक ब्लाॅग है, इसे समाचार आधारित वेबपोर्टल न समझें।
इस ब्लाॅग में कोई भी लेखक/व्यक्ति अपनी मौलिक पोस्ट प्रकाशित करवा सकता है। इस ब्लाॅग के माध्यम से हम शैक्षणिक, समाजिक और धार्मिक जागरूकता लाने तथा वैज्ञानिक सोच विकसित करने के लिए प्रयासरत् हैं। लेखनीय और संपादकीय त्रूटियों के लिए मै क्षमाप्रार्थी हूं। - श्रीमती विधि हुलेश्वर जोशी

Recent

माह में सबसे अधिक बार पढ़ा गया लेख