निःशक्तजनों के लिए स्वरोजगार हेतु ऋण योजना (छत्तीसगढ़ निःशक्तजन वित्त एवं विकास निगम) : CG Govt.

निःशक्तजनों के लिए स्वरोजगार हेतु ऋण योजना (छत्तीसगढ़ निःशक्तजन वित्त एवं विकास निगम)

1)

क्रियान्वयन एजेन्सी :-

छत्तीसगढ़ निःशक्तजन वित्त एवं विकास निगम, पुराना डी. आर. ए. भवन, कलेक्ट्रेट परिसर रायपुर
2)योजना का उद्देश्य :-निःशक्त व्यक्तियों को आर्थिक संसाधन उपलब्ध कराते हुए रोजगार/स्वरोजगार हेतु व्यवस्था सुनिश्चित करना।
3)हितग्राहियों की पात्रता :-1. 40 प्रतिशत या उससे अधिक निःशक्त।
2. आयु 18 से 55 वर्ष।
3. वार्षिक आय शहरी क्षेत्र में 5 लाख रूपये प्रतिवर्ष तथा ग्रामीण क्षेत्र में 3 लाख रूपये प्रतिवर्ष से अधिक न हो।
4)मिलने वाले लाभ :-निगम द्वारा निम्न ब्याज दरों पर ऋण उपलब्ध होगा:-
क्र.राशिब्याज
1.50000 रूपये तक5 प्रतिशत
2.50000 रूपये से 5 लाख रूपये तक6 प्रतिशत
3.5 लाख रूपये से अधिक8 प्रतिशत

                          नोट:-
सभी ऋण 10 वर्ष के भीतर वापस किये जा सकेंगे।
विकलांग महिलाओं के लिए ब्याज राशि में 1 प्रतिशत की छूट।
लघु व्यवसाय स्थापित करने के लिए 3 लाख रूपये तक का ऋण।
कृषि कार्य हेतु 10 लाख रूपये तक के ऋण।
उत्पादक हेतु कारखाने खोलने हेतु 25 लाख रूपये तक के ऋण।
तकनीकी शिक्षा हेतु ऋण उपलब्ध।
सूक्ष्म वित्तीय योजना अन्तर्गत स्वयं सेवी संगठनों को ऋण प्रदान किया जाता है।

5)आवेदन की प्रक्रिया :-संयुक्त/उप संचालक पंचायत एवं समाज कल्याण विभाग की अनुशंसा से प्रबंध संचालक, छत्तीसगढ़ निःशक्तजन वित्त एवं विकास निगम को प्रेषित करना होगा।
Share:

1 comment:

  1. Dear sir mene sun 2006 me 50000 ka loan leke apna buiness start kiya tha aap aap sab log ki kripa se mera buiness chal raha hai jo ki mere dawara ye loan pata diya gaya tha uske baad aaj muje loan ki jaroorat hai jo ki mere dawara 40 chakar laga chuka hu samaj kalyan vibhaag me muje koi jawab nai mil raha hai pls help me rajesh tiwari sir

    ReplyDelete


प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कैसे करें?


यह वेबसाइट /ब्लॉग भारतीय संविधान की अनुच्छेद १९ (१) क - अभिव्यक्ति की आजादी के तहत सोशल मीडिया के रूप में तैयार की गयी है।
यह वेबसाईड एक ब्लाॅग है, इसे समाचार आधारित वेबपोर्टल न समझें।
इस ब्लाॅग में कोई भी लेखक/व्यक्ति अपनी मौलिक पोस्ट प्रकाशित करवा सकता है। इस ब्लाॅग के माध्यम से हम शैक्षणिक, समाजिक और धार्मिक जागरूकता लाने तथा वैज्ञानिक सोच विकसित करने के लिए प्रयासरत् हैं। लेखनीय और संपादकीय त्रूटियों के लिए मै क्षमाप्रार्थी हूं। - श्रीमती विधि हुलेश्वर जोशी

सबसे अधिक बार पढ़ा गया लेख