Monday, March 27, 2017

कृत्रिम अंग एवं सहायक उपकरण प्रदाय योजना : CG Govt.

कृत्रिम अंग एवं सहायक उपकरण प्रदाय योजना

1)

योजना का उद्देश्य :-

निःशक्त व्यक्तियों की निःशक्तता न्यूनतम कर गतिशीलता बढ़ाना।
2)हितग्राहियों की पात्रता :-1. छत्तीसगढ़ का निवासी हो।
2. किसी भी प्रकार की निःशक्तता 40 प्रतिशत या उससे अधिक हो।
3)मिलने वाले लाभ :-माता-पिता/अभिभावक या स्वयं की मासिक आय 5000 रूपये प्रतिमाह होने पर उन्हें निःशुल्क तथा जिनकी आय 5001 रूपये से 8000 रूपये से मध्य है उन्हें संसाधन की 50 प्रतिशत राशि जमा करने पर संसाधन प्रदान किये जाते हैं।
योजनान्तर्गत निःशक्त व्यक्तियों को ट्रायसायकिल, बैशाखी, श्रवण यंत्र, ब्रेल, किट, व्हील चेयर, टेप रिकार्डर, केलीपर्स श्वेत छड़ी तथा अन्य कृत्रिम अंग प्रदान किये जाते है, इस योजना में अधिकतम 6000 रूपये तक की राशि के उपकरण प्रदाय किये जाने का प्रावधान है।
4)चयन प्रक्रिया :-आवेदन निर्धारित प्रारूप में आवेदन पत्र के साथ निःशक्तता प्रमाण पत्र, आय प्रमाण पत्र, जाति प्रमाण पत्र संलग्न कर संयुक्त संचालक/उप-संचालक जिला कार्यालय पंचायत एवं समाज कल्याण विभाग को आवेदन करना होगा।
Share:

0 टिप्पणियाँ:

Post a Comment

Fight With Corona - Lock Down

Citizen COP - Mobile Application : छत्तीसगढ़ पुलिस की मोबाईल एप्लीकेशन सिटीजन काॅप डिजिटल पुलिस थाना का एक स्वरूप है, यह एप्प वर्तमान में छत्तीसगढ़ राज्य के रायपुर एवं दुर्ग संभाग के सभी 10 जिले एवं मुंगेली जिला में सक्रिय रूप से लागू है। वर्तमान में राज्य में सिटीजन काॅप के लगभग 1 लाख 35 हजार सक्रिय उपयोगकर्ता हैं जो अपराधमुक्त समाज की स्थापना में अपना योगदान दे रहे है। उल्लेखनीय है कि इस एप्लीकेशन को राष्ट्रीय स्तर पर डिजिटल इंडिया अवार्ड एवं स्मार्ट पुलिसिंग अवार्ड से सम्मानित किया गया है। यहां यह भी उल्लेखनीय है कि इसे शीघ्र ही पूरे देश में लागू किये जाने की दिशा में भारत सरकार विचार कर रही है। अभी सिटीजन काॅप मोबाईल एप्लीकेशन डाउलोड करने के लिए यहां क्लिक करिए - एच.पी. जोशी

लोकप्रिय ब्लाॅग संदेश (Popular Information)

यह वेबसाइट /ब्लॉग भारतीय संविधान की अनुच्छेद १९ (१) क - अभिव्यक्ति की आजादी के तहत सोशल मीडिया के रूप में तैयार की गयी है।
यह वेबसाईड एक ब्लाॅग है, इसे समाचार आधारित वेबपोर्टल न समझें।
इस ब्लाॅग में कोई भी लेखक/व्यक्ति अपनी मौलिक पोस्ट प्रकाशित करवा सकता है। इस ब्लाॅग के माध्यम से हम शैक्षणिक, समाजिक और धार्मिक जागरूकता लाने तथा वैज्ञानिक सोच विकसित करने के लिए प्रयासरत् हैं। लेखनीय और संपादकीय त्रूटियों के लिए मै क्षमाप्रार्थी हूं। - श्रीमती विधि हुलेश्वर जोशी

Recent

माह में सबसे अधिक बार पढ़ा गया लेख